शोएब अख्‍तर का बड़ा दावा, कारगिल युद्ध में हिस्‍सा लेने के लिए ठुकराया था काउंटी करार

शोएब अख्‍तर ने कहा कि उन्‍हें इंग्लिश काउंटी नॉटिंघमशर से 1 लाख 75 हजार पाउंड का प्रस्‍ताव मिला था. (फाइल फोटो)
शोएब अख्‍तर ने कहा कि उन्‍हें इंग्लिश काउंटी नॉटिंघमशर से 1 लाख 75 हजार पाउंड का प्रस्‍ताव मिला था. (फाइल फोटो)

पाकिस्‍तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्‍तर ( shoaib akhtar) का कहना है कि उन्‍होंने कश्‍मीर में अपने दोस्‍त को फोन किया और कहा कि वह लड़ाई के लिए तैयार हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 7:53 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पाकिस्‍तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्‍तर (shoaib akhtar) का दावा है कि कारगिल युद्ध में हिस्‍सा लेने के लिए उन्‍होंने काउंटी के साथ करार के प्रस्‍ताव को ठुकरा दिया था. अख्‍तर ने बताया कि उन्‍हें इंग्लिश काउंटी नॉटिंघमशर से 1 लाख 75 हजार पाउंड का प्रस्‍ताव मिला था, जिसे उन्‍होंने ठुकरा दिया था. 16 हजार फीट ऊंचाई पर लड़े गए कारगिल युद्ध (Kargil War) में 1 हजार पाकिस्‍तानी सैनिक मारे गए थे, जबकि 527 भारतीय जवान शहीद हो गए थे.

एक चैनल को दिए इंटरव्‍यू में शोएब अख्‍तर (shoaib akhtar)  ने कहा कि शायद ही लोग इस कहानी को जानते हो. मेरे पास नॉटिंघम का 1 लाख 75 हजार पाउंड (करीब 1 करोड़ 72 लाख ) के करार का प्रस्‍ताव था. उसके बाद 2002 में एक और बड़ा अनुबंध था. पूर्व पाकिस्‍तानी तेज गेंदबाज ने कहा कि मैंने दोनों प्रस्‍ताव ठुकरा दिए थे.

कश्‍मीर के दोस्‍त को किया फोन
शोएब अख्‍तर ने आगे कहा कि मैं लाहौर की बाहरी सीमा पर था. तभी एक जनरल ने मुझसे पूछा कि मैं यहां पर क्‍या कर रहा हूं. इसके बाद मैंने कहा कि युद्ध शुरू होने वाला है और हम लोग साथ में मरेंगे. अख्‍तर ने कहा कि मैंने दो बार काउंटी का प्रस्‍ताव ठुकराया. इससे काउंटी भी हैरान थी. मगर मैं चिंतित नहीं था. मैंने कश्‍मीर में अपने दोस्‍त को फोन किया और कहा कि लड़ाई के लिए तैयार हूं.
यह भी पढ़ें: 



Raksha Bandhan 2020: धोनी, कोहली की ताकत हैं उनकी बहनें, पर्दे के पीछे रहकर भाई को मंजिल तक पहुंचाया

एमएस धोनी के कोरोना टेस्ट को लेकर आई बड़ी खबर, चेन्नई सुपरकिंग्स के अधिकारी ने दी अहम जानकारी

खेल और राजनीति अलग अलग
46 टेस्‍ट, 163 वनडे और 15 टी20 इंटरनेशनल मैच खेलने वाले शोएब अख्‍तर बार बार कहते हैं कि खेल और राजनीति को अलग रखना चाहिए. उन्‍होंने कई बार कहा कि मैदान पर भले ही दोनों टीमें के बीच बड़ी टक्‍कर चलती हो, मगर मैदान के बाहर दोनों टीमों के खिलाड़ी अच्‍छे दोस्‍त हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज