बड़ी खबर: प़ृथ्‍वी शॉ के बाद एक और भारतीय क्रिकेटर डोप टेस्‍ट में फेल, लग सकता है 4 साल का बैन

बड़ी खबर: प़ृथ्‍वी शॉ के बाद एक और भारतीय क्रिकेटर डोप टेस्‍ट में फेल, लग सकता है 4 साल का बैन
विराट कोहली और पृथ्‍वी शॉ (फाइल फोटो)

पिछले साल ही क्रिकेट नाडा के अधिकार क्षेत्र में आया और तब से भारतीय क्रिकेट में यह पहला मामला है. खिलाड़ी के नमूने में मांसपेशियों की वृद्धि और ताकत बढ़ाने के साथ-साथ रिकवरी में तेजी लाने के लिए इस्‍तेमाल की जाने वाली दवाई की मौजूदगी की पुष्टि हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 12, 2020, 9:58 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. क्रिकेट जगत में डोप के मामले कम ही सुनने को मिलते हैं. पिछले साल पृथ्‍वी शॉ (Prithvi Shaw) डोप टेस्‍ट में फेल हो गए थे और अब खबर आ रही है भारतीय महिला क्रिकेटर को डोप टेस्‍ट में फेल होने के बाद निलंबित कर दिया गया है. उन्‍होंने प्रदर्शन बढ़ाने वाली दवा ली थी. पिछले साल ही क्रिकेट नाडा के अधिकार क्षेत्र में आया और तब से यह पहला मामला है कि कोई क्रिकेटर पॉजिटिव पाया गया.

इंडियन एक्‍सप्रेस के अनुसार यह क्रिकेटर मध्‍यप्रदेश टीम की ऑलराउंडर हैं और घरेलू क्रिकेट में अपनी टीम का प्रतिनिधित्‍व किया. उन्‍हें इस साल मार्च में टूर्नामेंट से बाहर भी कर दिया गया था. जब से वर्ल्‍ड एंटी डोपिंग बॉडी ने भारत की नेशनल डोप टेस्टिंग लैब को निलंबित किया है, तब से नाडा खिलाड़ियों के यूरिन सैंपल को दोहा में टेस्टिंग लैब में भेज रही है.

शक्ति बढ़ाने के लिए किया जाता है उपयोग



नमूने के विश्‍लेषण में अनाबोलिक स्‍टेरॉयड N19 -नोरैंड्रोस्टेरोन की मौजूदगी की पुष्टि हुई है. जो आमतौर पर उपयोग की जाने वाली दवा नैंड्रोलोन की मेटाबोलाइट है. ब्रिटिश जनरल ऑफ मेडिसिन के अध्ययन के अनुसार 19-नोरैंड्रोस्टेरोन अपने प्रदर्शन को बढ़ाने के लिए एथलीटों की चार सबसे अधिक प्रशासित दवाओं में से एक है. बाकी की तीन दवाएं टेस्टोस्टेरोन, स्टेनोज़ोल और मेथेडिएनो है. नांद्रोलोन का उपयोग एथलीटों मांसपेशियों की वृद्धि और शक्ति बढ़ाने के साथ-साथ रिकवरी में तेजी लाने के लिए करते हैं.
यह भी पढ़ें: 

सुशांत सिंह मामले में भारतीय क्रिकेटर का रिया चक्रवर्ती पर तंज, कहा- पैसा सिर्फ आलसी लड़कियों को करता है प्रभावित

16 अगस्‍त से लगेगा चेन्‍नई सुपर किंग्‍स का कैंप! एमएस धोनी के खेलने पर सीईओ ने कही बड़ी बात

चार साल का लग सकता है बैन
यह क्रिकेटर दाएं हाथ की मध्‍यम गति की गेंदबाज और दाएं हाथ की बल्‍लेबाज है. बीसीसीआई अंडर 23 ट्रॉफी में मध्‍य प्रदेश का प्रतिनिधित्‍व कर चुकी है. खबर के अनुसार इस क्रिकेटर पर करीब चार साल का बैन लग सकता है. उन पर बैन पर फैसला नाडा करेगा. पिछली बार क्रिकेट में डोप का मामला पृथ्‍वी शॉ का था. जिन्‍हें आठ महीने के लिए निलंबित कर दिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading