होम /न्यूज /खेल /

कोरोना वायरस के बाद किस तरह विकेट का जश्न मनाएगी टीम इंडिया, अजिंक्य रहाणे ने किया खुलासा

कोरोना वायरस के बाद किस तरह विकेट का जश्न मनाएगी टीम इंडिया, अजिंक्य रहाणे ने किया खुलासा

अजिंक्य रहाणे मदद के लिए आए आगे

अजिंक्य रहाणे मदद के लिए आए आगे

कोरोना वायरस के बाद लगभग सभी खेलों में कई नियम बदले जा सकते हैं, साथ ही खिलाड़ियों के जश्न मनाने के तरीकों में भी बदलाव आना तय है, अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) ने अपनी राय फैंस के साथ साझा की

    नयी दिल्ली. कोरोना वायरस की वजह से इस वक्त सभी खेल ठप हैं लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि जल्द ही एक बार खेल के मैदान भरने वाले हैं. मतलब एक बार भी खेल की वापसी होनी वाली है. वैसे खेल जब भी शुरू हों उनके नियमों में कोरोना वायरस की वजह से काफी बड़े बदलाव आने वाले हैं. भारतीय टेस्ट उपकप्तान अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) ने इसी मुद्दे पर अपनी राय रखी. रहाणे ने बुधवार को कहा कि अब जब भी मैदान में वापसी होगी तो विकेट का जश्न मनाने के लिये खिलाड़ियों को नमस्ते और ‘हाई-फाइव’ (दूर से ही हाथ उठा कर दिखाना) का इस्तेमाल करना होगा.

    क्रिकेट के मैदान में होंगे बदलाव- रहाणे
    रहाणे (Ajinkya Rahane) ने ‘एल्सा (इंग्लिश लैंग्वेज स्पीच अस्सिटेंस) एप’ के ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कोविड-19 के कारण आम जीवन शैली के साथ क्रिकेट का मैदान भी बदलाव से अछूता नहीं रहेगा. रहाणे ने कहा, ' मैदान में खिलाड़ियों को और ज्यादा अनुशासित रहना होगा. सामाजिक दूरी का ध्यान रखना होगा. विकेट गिरने के बाद हमें जश्न के लिए शायद नमस्ते का सहारा लेना पड़े. हम किसी भी चीज को हल्के में नहीं ले सकते.' उन्होंने कहा, 'विकेट गिरने पर हमें पुराने तरीके से जश्न मनाना होगा जहां हम अपनी जगह खड़े रह कर ताली बजाते हुए खुशी का इजहार करेगे. शायद हम नमस्ते या शायद सिर्फ ‘हाई फाइव’ करें.'

    लॉकडाउन के बाद खिलाड़ियों को होगी अभ्यास की जरूरत
    खेल मंत्रालय ओलंपिक खेलों के लिए राष्ट्रीय शिविरों को फिर से शुरू करने की योजना बना रहा है, लेकिन बीसीसीआई ने अभी तक ऐसी कोई योजना नहीं बनायी है. रहाणे (Ajinkya Rahane) ने कहा कि लॉकडाउन के बीच वह अपनी फिटनेस पर ध्यान दे रहे हैं. खिलाड़ी के तौर पर मैदान में उतरने से पहले की चुनौती के बारे में पूछे जाने पर इस बल्लेबाज ने कहा कि इसके लिए कम से कम तीन से चार सप्ताह के कड़े अभ्यास की जरूरत होगी. देश के लिए 65 टेस्ट, 90 एकदिवसीय और 20 टी20 अंतरराष्ट्रीय खेलने वाले इस खिलाड़ी कहा, ' मुझे लगता है किसी भी मैच (घरेलू या अंतरराष्ट्रीय) को खेलने से पहले किसी भी क्रिकेटर को मैदान और नेट पर तीन-चार सप्ताह या एक महीना चाहिए होग का अभ्यास चाहिए होगा.'

    उन्होंने कहा, ' मैं अभी घर पर अभ्यास कर अपनी फिटनेस पर ध्यान दे रहा हूं. मैं फिटनेस के लिए कसरत, योग-ध्यान और कराटे का सहारा ले रहा हूं. मुझे ट्रेनर से इससे संबंध में कार्यक्रम मिला है. मैं इसी के मुताबिक काम कर रहा हूं.' उन्होंने कहा, ' मुझे अपनी बल्लेबाजी की कमी महसूस हो रही लेकिन जाहिर है क्रिकेट तभी शुरू होना चाहिए जब चीजें नियंत्रित हों.’

    गेंद को चमकाने के नियम बदलेंगे तो क्या होगा?
    गेंद पर लार और पसीने के इस्तेमाल को रोकने की अटकलों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ' मुझे नहीं पता कि इस मामले पर आईसीसी (अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) और दूसरे क्रिकेट बोर्ड क्या फैसला लेंगे. व्यक्तिगत तौर पर मैं इस कोविड-19 के दौर को खत्म होना का इंतजार करूंगा. जब क्रिकेट शुरू होगा तब हम सबको पता चल जाएगा क्या नियम होगा'

    ऑस्ट्रेलिया दौरा चुनौतीपूर्ण होता है
    टेस्ट में 11 शतक की मदद से 4203 रन बनाने वाले रहाणे (Ajinkya Rahane) ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में उनका सामना करना चुनौतीपूर्ण होता है लेकिन अभी सब का स्वास्थ्य जरूरी है.
    भारतीय टेस्ट उपकप्तान ने कहा, ' ऑस्ट्रेलिया में ऑस्ट्रेलिया का सामना करना हमेशा मुश्किल रहा है . वे शानदार टीम है. लेकिन अभी मैं क्रिकेट के बारे में नहीं सोच रहा हूं. सबका स्वास्थ्य जरूरी है. जब चीजें ठीक होंगी तो इस बारें सरकार , क्रिकेट बोर्ड और आईसीसी फैसला लेंगे.'

    पार्थिव पटेल ने किया खुलासा, मैच के दौरान ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ने दी थी धमकीundefined

    Tags: Ajinkya Rahane, India National Cricket Team, Sports news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर