प्रैक्टिस मैच में भारत के अक्षय कार्नेवर ने की दोनों हाथ से गेंदबाज़ी, कंगारू भी रह गए हैरान

News18Hindi
Updated: September 13, 2017, 3:36 PM IST
प्रैक्टिस मैच में भारत के अक्षय कार्नेवर ने की दोनों हाथ से गेंदबाज़ी, कंगारू भी रह गए हैरान
अक्षय कार्नेवर, भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया
News18Hindi
Updated: September 13, 2017, 3:36 PM IST
भारत दौरे पर आई ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने मंगलवार को बोर्ड प्रेसिडेंट इलेवन के खिलाफ प्रैक्टिस मैच खेला. मैच में किंगारुओं ने 103 रन से जीत हासिल की. बोर्ड प्रेसिडेंट इलेवन भले ही स्मिथ की टीम के सामने कमज़ोर साबित हुए हों लेकिन एक भारतीय खिलाड़ी सबका ध्यान अपनी तरफ खीचने में कामयाब हुआ.

विदर्भ की तरफ से खेलने वाले गेंदबाज़ अक्षय कार्नेवर ने अजब तरह से बॉलिंग की. दरअसल, अक्षय ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दोनों हाथों से गेंदबाज़ी की. आमतौर पर लेफ्ट हैंड से बॉल करने वाले अक्षय ने राइट हैंड से भी बॉलिंग की.

दोनों हाथों से करते हैं गेंदबाज़ी
अक्षय ने अपनी स्पेल के दौरान एक ओवर में दोनों हाथों से गेंदबाज़ी की. उन्होंने बाएं हाथ के बल्लेबाज़ों को ऑफ स्पिन कराई और दाएं हाथ के बल्लेबाज़ों को लेफ्ट आर्म स्पिन. इस मैच में अक्षय ने 6 ओवर बॉलिंग करते हुए 59 रन देकर ट्रेविस हेड का विकेट लिया. मैच में बैटिंग के दौरान अक्षय ने जबरदस्त बैटिंग करते हुए 28 बॉल पर 40 रन की इनिंग भी खेली, जिसमें उन्होंने 2 चौके और 4 सिक्स भी लगाए.

कौन हैं अक्षय कार्नेवर
24 साल के अक्षय कार्नेवर विदर्भ की टीम से घरेलू क्रिकेट खेलते हैं और आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर टीम से खेल चुके हैं. अक्षय ने दिसंबर 2015 में डेब्यू किया था और अब तक के करियर में 17 (लिस्ट ए) मैच खेलकर 257 रन बना चुके हैं. 34 विकेट भी ले चुके हैं. 2016 में पहला फर्स्ट क्लास मैच खेलने वाले अक्षय ने 4 फर्स्ट क्लास मैचों में 96 रन बनाए और दो विकेट भी लिए.

ऐसे शुरू किया था करियर
अक्षय ने अपने करियर की शुरुआत नागपुर में ऑफ स्पिनर के रूप में की थी, लेकिन उस वक्त उनके कोच ने उन पर लेफ्ट आर्म स्पिनर बनने पर दबाव डाला. कोच ने उन्हें कहा कि नागपुर से आज तक कोई लेफ्ट आर्म स्पिनर नहीं हुआ है और तुम ऐसा कर सकते हो. जिसके बाद अक्षय ने लेफ्ट आर्म बॉलिंग को करना शुरू किया और करियर बना लिया. कार्नेवार का करियर जैसे-जैसे आगे बढ़ा, उन्हें लेफ्ट आर्म स्पिनर के रूप में सफलता भी मिलती गई. कई सीनियर्स ने उनकी बॉलिंग की तारीफ भी की. हालांकि वे दाएं हाथ से भी गेंदबाज़ी कर लेते हैं.

ये भी पढ़ें:

पत्नी की चाहत पूरी करने के लिए 2019 WC खेलना चाहता है ये भारतीय क्रिकेटर

भुवनेश्वर या शमी नहीं ये भारतीय गेंदबाज़ बनेगा कंगारुओं के लिए सबसे बड़ी मुसीबत
First published: September 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर