Ashes 2019: मुकाबले में इंग्लैंड को वापस लेकर आए कप्तान रूट, जीत के लिए बड़ा लक्ष्य

भाषा
Updated: August 25, 2019, 8:15 AM IST
Ashes 2019: मुकाबले में इंग्लैंड को वापस लेकर आए कप्तान रूट, जीत के लिए बड़ा लक्ष्य
तीसरे दिन का खेल समाप्त होने पर मैदान से बाहर आते जो रूट

चार गेंद के अंदर दोनों सलामी बल्लेबाजों के पवेलियन लौटने के बाद इंग्लैंड के कप्तान जो रूट (Joe root) ने टीम काे संभाला और मुकाबले में वापस लेकर आए

  • Share this:


इंग्लैंड के कप्तान जो रूट (Joe Root) ने लीड्स में तीसरे टेस्ट मैच में नाबाद 75 रन बनाकर तीन दिनों के अंदर टेस्ट जीतने के ऑस्ट्रेलिया के सपने को पूरा नहीं होने दिया. तीसरे दिन का खेल समाप्त होने तक इंग्लैंड ने तीन विकेट पर 156 रन बना लिए थे और अब उन्हें जीत के लिए 203 रनों की जरूरत है.

ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी में 179 रन के जवाब में इंग्लैंड की पहली पारी मात्र 67 रन पर सिमट गई थी. जो पिछले 71 साल में एशेज में उसका न्यूनतम स्कोर है.

लंच के बाद दूसरे सत्र में ऑस्ट्रेलिया ने चार गेंद के अंदर इंग्लैंड के दोनों सलामी बल्लेबाजों के विकेट चटका दिए. इंग्लैंड का स्कोर दो विकेट पर मात्र 15 रन था. सलामी बल्लेबाज बर्न्स सात रन बनाकर जोश हेजलवुड का शिकार बने तो वही पैट कमिंस ने जेसन राय (आठ) को बोल्ड किया.




Loading...

रूट से संभाली पारी 

ऐसा लग रहा था कि इंग्लैंड के लिए एक बार फिर से पहली पारी की कहानी दोहराई जाएगी, लेकिन रूट ने जो डेनली (50) के साथ मिलकर शानदार बल्लेबाजी की. दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 53 ओवर में 126 रन की साझेदारी की. इस दौरान डेनली ने भी अपना अर्धशतक पूरा किया.

डेनली के आउट होने के बाद क्रीज पर उतरे बेन स्टोक्स ने काफी धीमा खेलते हुए 50 गेंद का सामना किया और दो रन पर नाबाद हैं.  पहली पारी में खाता तक भी न खोलने वाले रूट ने  189 गेंद की नाबाद पारी में नौ चौके लगाए.






जीत के साथ ही ऑस्ट्रेलिया के पास रहेगी ट्रॉफी

तीसरा टेस्ट जीतते ही ऑस्ट्रेलियाई टीम सीरीज में 2-0 से आगे हो जाएगी


मैच में अब भी ऑस्ट्रेलिया का पलड़ा भारी है लेकिन इंग्लैंड की उम्मीदें रूट पर टिकी होंगी, जिसे जीत के लिए 359 रन का मुश्किल लक्ष्य मिला है. ऑस्ट्रेलियाई टीम अगर इस मुकाबले को जीत जाती है तो पांच मैचों की सीरीज में उसे 2-0 की बढ़त मिल जाएगी और वे एशेज ट्रॉफी को अपने पास रखेंगे.

हेडिंग्ले के मैदान पर सिर्फ तीन बार किसी टीम का चौथी पारी में 300 से ज्यादा रन का लक्ष्य हासिल करने का रिकॉर्ड है. ऑस्ट्रेलिया (1948 में तीन विकेट पर 404), इंग्लैंड (2001 में चार विकेट पर 315 रन) और वेस्टइंडीज ने दो साल पहले पांच विकेट पर 322 रन बनाए थे.





शतक से चूके लाबुशेन

इससे पहले मार्नस लाबुशेन (80) शतक बनाने से चूक गए, लेकिन उनकी दमदार पारी की मदद से ऑस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी में 246 रन बनाए. लाबुशेन ने पहली पारी में भी 74 रन बनाए थे. सीरीज के दूसरे मुकाबले में स्थानापन्न खिलाड़ी के तौर पर दूसरी पारी में मैदान पर उतरने वाले लाबुशेन की यह लगातार तीसरी अर्द्धशतकीय पारी है.

ऑस्ट्रेलिया ने दिन की शुरुआत छह विकेट पर 171 रन से की, जब लाबुशेन 53 रन और जेम्स पैटिनसन दो रन बनाकर खेल रहे थे. लाबुशेन ने दिन की शुरुआत स्टुअर्ट ब्रॉड की गेंद पर शानदार चौके के साथ की. इसके बाद हालांकि उन्हें भाग्य का साथ भी मिला जब विकेटकीपर बेयरस्टो ने उनका मुश्किल कैच छोड़ दिया. उन्हें इससे पहले 14 और 42 रन पर भी जीवनदान मिला था. लाबुशेन और पैटिनसन की सातवें विकेट के लिए 51 रन की साझेदारी को जोफ्रा आर्चर ने तोड़ा.

लाबुशेन की 80 रन की पारी का अंत रन आउट से हुआ. नाथन लियोन (नौ) आउट होने वाले आखिरी बल्लेबाज रहे जो जोफ्रा आर्चर का शिकार बने.

कोहली और रहाणे ने संभाली पारी, टीम इंडिया मजबूत स्थिति में

ऑस्‍ट्रेलिया के लाबुशेन के आगे इंग्‍लैंड की हुई बेइज्जती


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 25, 2019, 8:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...