सीए का सीईओ बनने के बाद निक हॉकले ने आईपीएल को लेकर कही बड़ी बात

निक हॉकले को क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया का सीईओ नियुक्त किया गया है. (Instagram/CA)

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के सीईओ निक हॉकले (Nick Hockley) ने कहा कि आईपीएल से लौटने वाले ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी आज ही आइसोलेशन से बाहर आए हैं, इसलिए पहली प्राथमिकता यह सुनिश्चित करना है कि वे अपने परिवारों के साथ फिर से जुड़ें. उन्होंने बताया कि IPL को लेकर अभी बात नहीं की गई है.

  • Share this:
    मेलबर्न. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने सोमवार को कहा कि सितंबर में यूएई में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के बाकी बचे हुए मैचों में भाग लेने पर ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटरों से अभी चर्चा शुरू नहीं की गई है. एक साल तक अंतरिम आधार पर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख रहे हॉकले ने सोमवार को मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) नियुक्त होने के बाद कहा कि आईपीएल पर निर्णय के लिए इंतजार करना होगा क्योंकि ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी दो सप्ताह के होटल क्वारंटीन को पूरा करने के बाद अपने परिवारों से मिल रहे है.

    भारत में कोविड-19 के मामलों के कारण आईपीएल को बीच में स्थगित किए जाने के बाद ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर और इस टूर्नामेंट से जुड़े अन्य सहकर्मी यात्रा प्रतिबंधों के कारण सीधे स्वदेश नहीं लौट पाए थे. उन्हें पहले कुछ दिन मालदीव में बिताने पड़े. ऑस्ट्रेलिया का लगभग 40 सदस्यीय दल दो सप्ताह पहले स्वदेश लौटा था.

    इसे भी देखें, संजना ने शेयर की हनीमून की तस्वीर! बुमराह ने भी शेयर की थी थ्रो बैक फोटो

    क्रिकइन्फो के मुताबिक हॉकले ने कहा, ‘जब हम समूह के रूप में वापस आएंगे तो इस पर (आईपीएल) स्पष्ट रूप से हमें चर्चा करने की आवश्यकता होगी.’ उन्होंने कहा, ‘आईपीएल से लौटने वाले हमारे खिलाड़ी आज ही आइसोलेशन से बाहर आए हैं, इसलिए हमारी पहली प्राथमिकता यह सुनिश्चित करना है कि वे अपने परिवारों के साथ फिर से जुड़ें. हमें वेस्टइंडीज दौरे के लिए तैयारी करनी है.’

    हॉकले ने कहा कि खिलाड़ी वेस्टइंडीज दौरे से कुछ हफ्ते पहले राष्ट्रीय क्रिकेट केंद्र (ब्रिस्बेन) में फिर से इकट्ठा होंगे और यह समय फिर से ध्यान केंद्रित करने का होगा। उन्होंने कहा, ‘वे स्पष्ट रूप से इस अनुभव से काफी प्रभावित हुए हैं और घर वापस आकर काफी खुश हैं, आज परिवार और दोस्तों के साथ फिर से जुड़ने के लिए बहुत उत्सुक हैं.’ आईपीएल का आयोजन सितंबर-अक्टूबर में यूएई में होगा. उस समय ऑस्ट्रेलियाई टीम कोई अंतरराष्ट्रीय मुकाबला नहीं खेल रही होगी. बायो-बबल में बार-बार शामिल होने पर खिलाड़ियों के मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ने को लेकर हालांकि चिंता जताई गई है.