ऑस्ट्रेलिया की वर्ल्ड चैंपियन टीम का स्पिनर क्यों बन गया कारपेंटर, जानिए वजह- VIDEO

जेवियर डोहर्टी 2015 में वर्ल्ड कप जीतने वाली माइकल क्लार्क की कप्तानी वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम का हिस्सा थे (ACA/Twitter)

जेवियर डोहर्टी 2015 में वर्ल्ड कप जीतने वाली माइकल क्लार्क की कप्तानी वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम का हिस्सा थे (ACA/Twitter)

''जब मैंने क्रिकेट खत्म किया, तब मैं नहीं जानता था कि आगे मैं क्या करने वाला हूं. फिर मैंने पहले 12 महीने बिताए. क्रिकेट के बाद मैंने वह सब किया, जिसके अवसर जो मेरे पास आए थे. मैंने कुछ लैंडस्केपिंग, ऑफिस का काम, क्रिकेट का काम किया और फिर खुद को यहां पाया."

  • Share this:

नई दिल्ली. रिटायरमेंट के बाद भी अधिकतर क्रिकेटर्स अक्सर ऐसा काम चुनते हैं, जो खेल के इर्द-गिर्द घूमता है. या तो वे कमेंटेटर बन जाते हैं या विभिन्न स्तरों पर कोचिंग करने लगते हैं. कुछ ने मनोरंजन जगत में भी अपनी किस्मत आजमाई है, जबकि कुछ ने अपने देश के लिए उच्चतम स्तर पर खेलने के बाद सुर्खियों से दूर रहने का विकल्प चुना है. पूर्व ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर जेवियर डोहर्टी एक ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद अपना पेशा बदल लिया. ऑस्ट्रेलिया की 2015 विश्व कप विजेता टीम का सदस्य अब कारपेंटर बन गया है.

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर्स एसोसिएशन (एसीए) ने हाल ही में जेवियर डोहर्टी (Xavier Doherty) का एक वीडियो साझा किया, जिसमें उन्होंने अपने नए पेशे के बारे में बात की और बताया कि कैसे उन्होंने एक कारपेंटर की कारीगरी में अपना हाथ आजमाया. वीडियो में डोहर्टी कह रह हैं, ''अभी, मैं कारपेंटर कारीगरी के माध्यम से तीन चौथाई रास्ते पर हूं. यह निर्माण स्थलों पर मेरा दिन है और मैं इसका काफी मजा उठा रहा हूं. बस बाहर रहकर अपने हाथों से काम करना, नई चीजें सीखना. यह क्रिकेट से बिल्कुल अलग है.''

उन्होंने आगे कहा, ''जब मैंने क्रिकेट खत्म किया, तब मैं नहीं जानता था कि आगे मैं क्या करने वाला हूं. फिर मैंने पहले 12 महीने बिताए. क्रिकेट के बाद मैंने वह सब किया, जिसके अवसर जो मेरे पास आए थे. मैंने कुछ लैंडस्केपिंग, ऑफिस का काम, क्रिकेट का काम किया और फिर खुद को यहां पाया." बाएं हाथ के पूर्व स्पिनर ने आगे बताया कि कैसे एसीए ने उन्हें अपना क्रिकेट करियर खत्म करने के बाद एक नया पेशा खोजने में मदद की.

IPL 2021 पर आई बड़ी खुशखबरी, फैंस को मिलेगी स्टेडियम में एंट्री, पूरी करनी होगी एक शर्त!
WTC Final: दिलीप वेंगसरकर ने कहा- न्यूजीलैंड का पलड़ा भारी, वजह- फाइनल से पहले 2 टेस्ट

उन्होंने कहा, ''एसीए वास्तव में अविश्वसनीय रहा है. जाहिर है, जब आपके क्रिकेट के दिन खत्म होते हैं और आगे क्या होने वाला है? पैसा और मेरा जीवन कैसा दिखने वाला है? इसके बारे में विचार आपके दिमाग में चल रहे हैं तो यह आपकी आंखों के बीच में आता है? तो जाहिर है, वहां प्लेयर डेवलपमेंट मैनेजर्स होने से आपका मार्गदर्शन किया जा सकता है. और फिर शिक्षा अनुदान के साथ-साथ मुझे आर्थिक रूप से मदद करने के लिए और मेरे जीवन के अगले चरण के साथ आने वाली कुछ लागतों को कवर करने और कुछ फीस को कवर करने के लिए, जो एक सीखने वाले को मिलती है.''




बता दें कि जेवियर डोहर्टी ने मेलबर्न में श्रीलंका के खिलाफ वनडे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था. इसी साल उन्हें सिडनी में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच के लिए पहली बार बैगी ग्रीन कैप भी मिली थी. इसके कुछ साल बाद उन्होंने टी20 इंटरनेशनल डेब्यू किया और सिडनी में भारत के खिलाफ खेला. डोहर्टी ने चार टेस्ट मैचों में 7 विकेट लिए हैं. जबकि वनडे में 55 और टी20 इंटरनेशनल में 60 विकेट लिए हैं. 2016-17 के अंत में डोहर्टी ने प्रतियोगी क्रिकेट को अलविदा कह दिया. पिछले साल उन्होंने रोड सेफ्टी सीरीज में ऑस्ट्रेलिया लीजेंड्स टीम के एक हिस्से के रूप में भारत का दौरा किया था, जो कोविड-19 महामारी की वजह से निलंबित हो गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज