जब भारतीय फैंस के गुस्से ने क्रिकेट को किया था शर्मिंदा, रोकना पड़ा था मैच

जब भारतीय फैंस के गुस्से ने क्रिकेट को किया था शर्मिंदा, रोकना पड़ा था मैच
भारत और साउथ अफ्रीका के बीच कटक में खेले गए मैच का दृश्य

साल 2015 में भारत (India) और साउथ अफ्रीका (South Africa) के बीच टी20 मुकाबला खेला गया जिसमें फैंस ने काफी हंगामा किया था

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 10, 2020, 12:56 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत (India) में क्रिकेट को धर्म माना जाता है. देश में यह सबसे पसंद किया जाने वाला खेल हैं, ऐसा खेल जो लोगों को एक करता है. दुनिया भर के क्रिकेट फैंस भी इस बात से हर तरफ से वाकिफ हैं कि भारत  (India) में क्रिकेट का क्या मतलब है और क्यों यह टीम दुनिया की सबसे मजबूत टीमों में शामिल है. हालांकि दुनिया भर में इस खेल को सबसे ज्यादा चाहने वाले फैंस ने ही इस खेल को शर्मिंदा कर दिया.  साल 2015 में साउथ अफ्रीका (South Africa) की टीम भारत के दौरे पर आई थी. दोनों के बीच टी20 सीरीज खेली जा रही थी जिसका दूसरा मैच कटक में खेला गया. इस मैच में भारत को अपने प्रदर्शन के कारण फैंस के गुस्से का शिकार होना पड़ा.

फैंस ने बोतल फेंक कर उतारा गुस्सा
भारत और साउथ अफ्रीका के बीच महात्मा गांधी और नेल्सन मंडेला के नाम पर सीरीज खेली जा रही थी. भारतीय फैंस ने इस कटक में खेले गए मैच में जो किया वह इसके विपरीत था. भारतीय टीम महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में उतरी थी वहीं साउथ अफ्रीका के कप्तान क्विंटन डीकॉक थे. भारत ने इस मैच में पहली बल्लेबाजी करते हुए छोटा ही स्कोर खड़ा कर पाई जिससे फैंस नाराज हो गए. अपनी नाराजगी दिखाने के लिए उन्होंने मैदान में बोतलें फेंकनी शुरू कर दी. बोतलें बरसने की वजह से मैच तीन बार रोका गया था. सबसे पहले फैंस ने यह तब किया जब भारत 17.2 ओवरों में 92 रन बनाकर ऑलआउट हो गई थी. इसके बाद साउथ अफ्रीका को 9 ओवरों में 29 रनों की जरूरत थी एक बार फिर से बोतलें फेंकी गईं. यहां पर भी यह नहीं रुका और दो ओवरों बाद ही, तीसरी बार, फिर से बोतलें फेंकी गईं. अंपायरों ने कुछ देर के लिए मैच को रोकना ही ठीक समझा.

दिग्गजों ने जमकर उतारा गुस्सा
फैंस के खराब बर्ताव के कारण पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्‍कर काफी नाराज थे जो उस मैच में कमेंट्री बॉक्‍स में मौजूद थे. गावस्कर ने फैंस की हरकत पर जमकर गुस्सा उतारा. उन्‍होंने कहा- टीम अपने घर में भी हारती है, यह बात लोगों को समझना चाहिए. उन्‍होंने कहा कि जब टीम जीतती है अगर आपको उसकी अहमियत नहीं है तो फिर हारने के बाद ऐसा बर्ताव करने की कतई जरूरत नहीं है.



जानिए कप्तानों ने क्या कहा
मैच हारने के बाद भारत के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- यह सुरक्षा के लिहाज से गंभीर खतरा है. उन्होंने मजाकिया अंदाज में कहा, 'भीड़ में कुछ ताकतवर लोगों ने तो बाउंड्री के भीतर तक बोतलें फेंक दी थीं, अंपायर को लगा कि थोड़ी देर के लिए खेल रोकना ठीक है. हां हमने अच्छा नहीं खेला, यह उसी का रिऐक्शन था. पहले एक बोतल आई और फिर लोगों को बोतल फेंकने में मजा आने लगा.'

साउथ अफ्रीका के कप्तान डु प्लेसी (Faf Du Plessis) का कहना था, 'यह सब देखना अच्छा अनुभव नहीं था. मैं भारत में पांच-छह साल से खेल रहा हूं और मैंने ऐसा पहले कभी नहीं देखा. यह क्रिकेट के लिए अच्छा नहीं है, ऐसा नहीं होना चाहिए.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज