रेड बॉल Vs पिंक बॉल: डे टेस्ट में बल्लेबाज तो डे-नाइट टेस्ट में गेंदबाज हावी

टीम इंडिया ने पिंक बॉल से तीन टेस्ट खेले हैं. 2 जीते जबकि एक में हार मिली.

टीम इंडिया ने पिंक बॉल से तीन टेस्ट खेले हैं. 2 जीते जबकि एक में हार मिली.

भारत और इंग्लैंड के बीच पिंक बॉल से खेला गया टेस्ट सिर्फ दो दिन में खत्म हो गया. एक भी पारी में 150 रन का स्कोर नहीं बना सका. हालांकि पिच को लेकर बहस जारी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2021, 4:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मोटरा में भारत और इंग्लैंड (India vs England) के बीच खेला गया टेस्ट सिर्फ दो दिन में खत्म हो गया. पिंक बॉल (Pink ball) से खेले गए इस डे-नाइट टेस्ट में एक भी पारी में 150 रन का स्कोर नहीं बना सका. टीम इंडिया को इसमें जीत मिली. लेकिन पिच को लेकर बहस जारी है. पहला पिंक बाॅल टेस्ट 27 नवंबर 2015 को ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच खेला गया था. तब से रेड बॉल से खेले जाने वाले डे टेस्ट और पिंक बॉल से खेले जाने डे-नाइट टेस्ट के रिकॉर्ड को देखें तो दोनों की अपनी विशेषता है.

डे-नाइट टेस्ट की बात की जाए तो अब तक 16 मुकाबले खेल गए हैं और सभी के रिजल्ट भी आए हैं. यानी 100 फीसदी. डे-नाइट टेस्ट में हर 27 रन पर एक विकेट गिरता है जबकि डे टेस्ट की बात करें तो हर 32 रन पर एक विकेट गिरता है. यानी डे टेस्ट बल्लेबाजों के लिए अधिक अनुकूल है. वहीं गेंदबाजी की बात करें तो डे-नाइट टेस्ट में हर 52वीं गेंद पर एक विकेट गेंदबाज झटकता है जबकि डे टेस्ट में 61 गेंद फेंकना पड़ता है. यानी डे-नाइट टेस्ट में गेंदबाजी हावी रहते हैं.

यह भी पढ़ें: देश के 7 क्रिकेट स्टेडियम नेहरू तो 4 गांधी के नाम पर, 52 में से एक भी क्रिकेटर के नाम पर नहीं



हर ओवर का रनरेट लगभग बराबर है
डे-नाइट टेस्ट की बात की जाए तो हर ओवर में 3.03 रन बनते हैं जबकि डे टेस्ट में 3.09 रन. यानी दोनों में रनरेट एक समान है. शतक की बात की जाए तो हर डे-नाइट टेस्ट में 1.31 शतक लगते हैं जबकि डे टेस्ट में 1.74 शतक. यानी शतक के मामले में भी डे टेस्ट अधिक सफल है. वहीं हर टेस्ट में पांच विकेट की बात की जाए तो यहां भी डे टेस्ट का रिकॉर्ड अच्छा है. हर 1.50 डे-नाइट टेस्ट में एक गेंदबाज पांच विकेट लेता है जबकि डे टेस्ट सिर्फ 0.86 टेस्ट में गेंदबाज को पांच विकेट मिल जाता है. भारत में अब तक सिर्फ दो डे-नाइट टेस्ट खेला गया है. हालांकि बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली पहले ही साफ कर चुके हैं कि देश में खेली जाने वाली हर सीरीज का एक मैच पिंक बॉल से खेला जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज