रणजी चैंपियन विदर्भ का एक भी खिलाड़ी अंडर-23 टीम में नहीं, इस खिलाड़ी ने जताई नाराजगी

विदर्भ (Vidarbha cricket team) की टीम ने पिछले दो बार से रणजी ट्रॉफी (Ranki trophy) और ईरानी ट्रॉफी दोनों खिताब अपने नाम किए हैं

News18Hindi
Updated: August 21, 2019, 2:29 PM IST
रणजी चैंपियन विदर्भ का एक भी खिलाड़ी अंडर-23 टीम में नहीं, इस खिलाड़ी ने जताई नाराजगी
विदर्भ ने पिछले दो सीजन से रणजी ट्रॉफी और ईरानी ट्रॉफी अपने नाम कर ही है
News18Hindi
Updated: August 21, 2019, 2:29 PM IST
अगले माह बांग्लादेश के खिलाफ होने वाली वनडे सीरीज के लिए भारतीय अंडर-23 की घोषणा हो चुकी है.  19 सितंबर से 27 सितंबर तक खेली जाने वाली इस सीरीज के लिए टीम की कमान प्रियम गर्ग (Priyam Garg) को सौंपी  गई है. अंडर-23 के भारतीय दल में 15 खिलाड़ियों को चुना गया है, लेकिन इस टीम में खास बात यह है कि इसमें एक भी विदर्भ का खिलाड़ी नहीं है.  पिछले कुछ समय से  घरेलू सर्किट के सभी लेवल में विदर्भ अच्छा प्रदर्शन कर रही है .

विदर्भ ने रणजी ट्रॉफी और ईरानी ट्रॉफी तक अपने नाम की, लेकिन इसके बावजूद इस टीम का एक भी खिलाड़ी श्रीलंका ए और वेस्टइंडीज ए के खिलाफ सीरीज के लिए इंडिया ए में जगह नहीं बना पाया. यही नहीं अंडर 23 में विदर्भ की टीम वनडे चैंपियन है. वहीं अंडर 23 कर्नल सीके नायडू ट्रॉफी की सेमीफाइनलिस्ट भी रह चुकी है. लेकिन एक भी‌ खिलाड़ी  को टीम में नहीं चुना गया. अनिरुद्ध चौधरी, सौरभ दुबे, आदित्य ठाकरे जैसे कुछ ऐसे टॉप लेवल के खिलाड़ी हैं, जिन्होंने पिछले सीजन शानदार प्रदर्शन किया.

लंबे समय से विदर्भ  को किया जा रहा है नजरअंदाज
विदर्भ के एक पूर्व खिलाड़ी ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि खिलाड़ी इससे निराश है. इस खिलाड़ी ने कहा कि हमे अपमानित होने की आदत हो गई है. उन्होंने 1990 से  लेकर अभी तक के कई उदाहरण देकर बताया कि कैसे घरेलू सत्र में भी बेहतर प्रदर्शन करने के बाद विदर्भ के खिलाड़ियों को नजरअंदाज किया जाता है.





ईरानी ट्रॉफी जीतने के बाद विदर्भ की टीम (फाइल फाेटो)

Loading...



टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत करते हुए इस पूर्व खिलाड़ी ने कहा कि हमारे जूनियर खिलाड़ी हमेशा से बेहतरीन प्रदर्शन कर रहे हैं. हालांकि इस प्रदर्शन का उन्हें कोई इनाम नहीं मिल रहा है. विदर्भ के इस पूर्व खिलाड़ी ने कहा कि हम सबने देखा है कि पूर्व विकेटकीपर अमित देशपांडे के साथ 90 के दशक में क्या हुआ था. फैज ने 2016 में भारत की ओर से वनडे क्रिकेट में डेब्यू करते हुए नाबाद 55 रन जड़े थे और वह भी अभी तक भारत के लिए अगले बुलावे का इंतजार कर रहे हैं.  उन्‍होंने कहा कि कम से कम उसे इंडिया ए टीम में होना चाहिए.


 अभी भी उम्मीदें बाकी

सीके नायडू ट्रॉफी में अनिरुद्ध ने 727 रन बनाए थे, जबकि पर्थ ने इसी टूर्नामेंट में कुल 43 विकेट लिए थे. वहीं दुबे ने इसी टूर्नामेंट में 35 विकेट लिए थे. विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन के अधिकारी ने कहा कि उन्हें उम्‍मीद है कि अनिरुद्ध, पर्थ जैसे खिलाड़ियों के लिए बुलावा आएगा. उन्होंने इस साल एनसीए कैंप में भी हिस्सा लिया था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 2:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...