• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • BCCI की यौन उत्पीड़न नीति के अंतर्गत आएंगे अब भारतीय क्रिकेटर भी

BCCI की यौन उत्पीड़न नीति के अंतर्गत आएंगे अब भारतीय क्रिकेटर भी

यौन उत्पीड़न की शिकायतों की जांच के लिए चार सदस्यीय आंतरिक समिति का गठन किया जाएगा (PIC: AFP)

यौन उत्पीड़न की शिकायतों की जांच के लिए चार सदस्यीय आंतरिक समिति का गठन किया जाएगा (PIC: AFP)

शिकायकर्ता को घटना के तीन महीने के भीतर शिकायत दर्ज करानी होगी और आंतरिक समिति आरोपी को आरोपों का जवाब देने के लिए सात कार्यदिवस का समय देगी.

  • Share this:

    नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) ने सोमवार को समग्र यौन उत्पीड़न रोकथाम (POSH) को स्वीकृति दी जिसके दायरे में भारतीय क्रिकेटर भी आएंगे. अब तक बीसीसीआई की यौन उत्पीड़न (Sexual Harassment) के मामलों से निपटने के लिए किसी तरह की विशिष्ट नीति नहीं थी. यह नीति पदाधिकारियों, शीर्ष परिषद और आईपीएल संचालन परिषद के सदस्यों के अलावा सीनियर से अंडर-16 स्तर के क्रिकेटरों पर भी लागू होगी. नौ पन्नों के इस दस्तावेज की प्रति पीटीआई के पास भी है, जिसमें बीसीसीआई ने कहा है कि यौन उत्पीड़न की शिकायतों की जांच के लिए चार सदस्यीय आंतरिक समिति का गठन किया जाएगा. सोमवार को शीर्ष परिषद की बैठक के दौरान हालांकि इसके सदस्यों पर फैसला नहीं किया गया.

    नीति के अनुसार, ”आंतरिक समिति की अध्यक्ष महिला होनी चाहिए जो अपने कार्यस्थल पर सीनियर स्तर पर नियुक्त हो.” इसमें कहा गया, ”आंतरिक समिति के दो सदस्यों का चयन कर्मचारियों के बीच से किया जाएगा, इसमें उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी जो महिलाओं के अधिकारों के लिए प्रतिबद्ध हों या उन्हें सामाजिक कार्य का अनुभव हो या कानूनी जानकारी हो.”

    IPL 2021: RCB की धुनाई करने के बाद विराट कोहली से शॉट सीखने पहुंचे वेंकटेश अय्यर, Video वायरल

    इसके अनुसार, ”आंतरिक समिति का एक सदस्य गैर सरकारी संगठन या ऐसे संघ से चुना जाना चाहिए जो महिलाओं के अधिकारियों के लिए काम करते हों या यौन उत्पीड़न से जुड़े मुद्दों की जानकारी रखते हो (बाहरी सदस्य).” आंतरिक समिति के कम से कम आधे सदस्य महिलाएं होनी चाहिए.

    IPL 2021: विराट कोहली का करियर बिना आईपीएल ट्रॉफी के खत्म हो जाएगा! 200वें मैच में मिली सबसे बड़ी हार

    शिकायकर्ता को घटना के तीन महीने के भीतर शिकायत दर्ज करानी होगी और आंतरिक समिति आरोपी को आरोपों का जवाब देने के लिए सात कार्यदिवस का समय देगी. आंतरिक समिति को अपनी जांच पूरी करने के लिए शिकायत के दिन से 90 दिन का समय मिलेगा और वह अपनी सिफारिश बीसीसीआई को सौंपेगी जो 60 दिन में कार्रवाई करेगा. शिकायतकर्ता या आरोपी अगर बीसीसीआई के फैसले से संतुष्ट नहीं होते हैं तो अदालत की शरण में जा सकते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज