लाइव टीवी

आठ राज्य संघों पर BCCI एजीएम में भाग लेने पर रोक लगी, चुनाव हुए तो नहीं होगा मतदान का हक

News18Hindi
Updated: October 10, 2019, 10:06 PM IST
आठ राज्य संघों पर BCCI एजीएम में भाग लेने पर रोक लगी, चुनाव हुए तो नहीं होगा मतदान का हक
बीसीसीआई के चुनाव 10 से 12 अक्टूबर तक होंगे (फाइल फोटो)

बीसीसीआई (BCCI) के निर्वाचन अधिकारी एन गोपालस्वामी (N Gopalswami) द्वारा अंतिम मतदाता सूची जारी करने के बाद एसजीएम (AGM) में भाग लेने वालों पर स्थिति स्पष्ट हो गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 10, 2019, 10:06 PM IST
  • Share this:
बीसीसीआई (BCCI) की 38 में से आठ राज्य इकाइयों के मुंबई (Mumbai) में 23 अक्टूबर को होने वाली वार्षिक आम बैठक (Annual General Meeting)) में भाग लेने पर गुरुवार को रोक लगा दी गयी क्योंकि उन्होंने संविधान में संशोधन का अनुपालन नहीं किया.

बीसीसीआई (BCCI) के निर्वाचन अधिकारी एन गोपालस्वामी द्वारा अंतिम मतदाता सूची जारी करने के बाद एसजीएम में भाग लेने वालों पर स्थिति स्पष्ट हो गई.

एजीएम के दौरान अगर पदाधकारियों के लिए चुनाव होता है तो मणिपुर, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, हरियाणा, महाराष्ट्र, रेलवे, सेना और भारतीय विश्वविद्यालयों के संघ के पास मतदान का अधिकार नहीं होगा. तीन सरकारी संस्थानों को इस लिए प्रतिबंधित किया गया क्योंकि वह खिलाड़ियों का संघ बनाने में नाकाम रहे.

बैन की गए संघ जा सकते हैं सुप्रीम कोर्ट

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली एजीएम में बंगाल क्रिकेट संघ के प्रतिनिधि होंगे जिसके वह अध्यक्ष हैं. भारत के एक अन्य पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन हैदराबाद क्रिकेट संघ का प्रतिनिधित्व करेंगे. रजत शर्मा (दिल्ली), जय शाह (सौराष्ट्र), अरुण सिंह धूमल (हिमाचल प्रदेश) और बृजेश पटेल (कर्नाटक) का प्रतिनिधित्व करेंगे.

एजीएम में भाग लेने से रोके जाने वाले ज्यादातर राज्यों के द्वारा इस फैसले को अदालत में चुनौती देने की संभावना है, जिससे एजीएम अधर में पड़ सकता है.

इससे पहले बुधवार को प्रशासकों की समिति ने तमिलनाडु क्रिकेट संघ(टीएनसीए), महाराष्ट्र क्रिकेट संघ (एमसीए) और हरियाणा क्रिकेट संघ (एचसीए) को एजीएम में भाग लेने से रोक दिया था. टीएनसीए का प्रतिनिधित्व सचिव एस एस रामास्वामी को करना था जबकि हरियाणा की नुमाइंदगी मृणाल ओझा कर रहे थे .
Loading...

महाराष्ट्र भी नहीं है एसजीएम में शामिल

महाराष्ट्र को एजीएम से हटा दिया गया क्योंकि चैरिटी आयुक्त ने क्रिकेट संघ के संशोधित संविधान में विसंगतियां पाई थी. एमसीए अब भी बीसीसीआई के पूर्व सचिव अजय शिर्के के नियंत्रण में है जिसका प्रतिनिधित्व रियाज बागबान को करना था.

टीएनसीए ने बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन की बेटी रूपा गुरुनाथ को हाल ही में पहली महिला अध्यक्ष के रूप में निर्विरोध चुना गया. आरोप है कि टीएनसीए के 21 अनुच्छेद ऐसे हैं जिनमें लोढ़ा समिति की सिफारिशों का अनुपालन नहीं किया गया है जिसमें उम्र सीमा और दो कार्यकाल के बीच बाहर रहने के लिये तय अनिवार्य अवधि (कूलिंग ऑफ पीरियड) का अनुपालन नहीं किया जाना शामिल है. हरियाणा और महाराष्ट्र को भी इसी तर्ज पर रोका गया है.

विराट कोहली मेसी-रोनाल्डो से ज्यादा मेहनती, फील्ड पर बिताते हैं सबसे अधिक समय

BCCI की शीर्ष परिषद का हिस्सा होंगी रंगास्वामी, आजाद और गायकवाड़ में मुकाबला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 10, 2019, 9:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...