लाइव टीवी

दाएं हाथ के बल्‍लेबाज थे सौरव गांगुली लेकिन भाई की वजह से बन गए लेफ्ट हैंडर

News18Hindi
Updated: October 14, 2019, 8:03 PM IST
दाएं हाथ के बल्‍लेबाज थे सौरव गांगुली लेकिन भाई की वजह से बन गए लेफ्ट हैंडर
सौरव गांगुली ने अपने वनडे करियर में 311 मैच खेलकर 11363 रन बनाए हैं. (फाइल फोटो)

सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) भारत के सबसे लोकप्रिय क्रिकेटर और महानतम कप्‍तानों में से एक रहे हैं. क्रिकेटर के रूप में उनका करियर काफी सफल रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 8:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) बीसीसीआई अध्‍यक्ष (BCCI President) के रूप में अपनी नई पारी शुरू करने जा रहे हैं. सोमवार (14 अक्‍टूबर) को गांगुली के अलावा किसी ने भी अध्‍यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल नहीं किया. आधिकारिक रूप से उनके अध्‍यक्ष बनने का ऐलान 23 अक्‍टूबर को किया जाएगा. गांगुली भारत के सबसे लोकप्रिय क्रिकेटर और महानतम कप्‍तानों में से एक रहे हैं. क्रिकेटर के रूप में उनका करियर काफी सफल रहा है. उनके कप्‍तान टीम इंडिया ने 2003 में फाइनल का सफर तय किया था. साथ ही उन्‍होंने युवराज सिंह, जहीर खान, हरभजन सिंह, वीरेंद्र सहवाग जैसे युवाओं को मौके दिए जो आगे चलकर कामयाब क्रिकेटरों में शुमार हुए.

 फुटबॉलर बनना चाहते थे सौरव गांगुली 
गांगुली के कई निकनेम हैं. कोई उन्हें प्रिंस ऑफ कोलकाता कहता है तो कोई बंगाल टाइगर. उन्हें दादा भी कहा जाता है. लेकिन उनके बारे में एक ऐसी बात है जो काफी कम लोग जानते हैं. बाएं हाथ के बल्‍लेबाज क्रिकेट के शुरुआती दिनों में दाएं हाथ से ही बल्लेबाजी किया करते थे. बंगाल के लगभग हर युवा की तरह सौरव गांगुली भी फुटबॉलर बनना चाहते थे. मगर उनकी मां चाहती थीं कि वह पढ़ाई पर ध्यान दें. हालांकि इसी दौरान सौरव के बड़े भाई स्नेहाशीष गांगुली बंगाल क्रिकेट टीम में अपनी जगह बना चुके थे. वह बाएं हाथ के बल्लेबाज थे. बड़े भाई के कहने पर सौरव को क्रिकेट एकेडमी में दाखिला मिल गया.

8 जुलाई 1972 में जन्मे सौरव गांगुली ने 1989 में पहला प्रथम श्रेणी मैच खेला. जबकि उन्होंने पहला इंटरनेशनल वनडे मैच 1992 में खेला.
8 जुलाई 1972 में जन्मे सौरव गांगुली ने 1989 में पहला प्रथम श्रेणी मैच खेला. जबकि उन्होंने पहला इंटरनेशनल वनडे मैच 1992 में खेला.


बड़े भाई की किट के लिए बने बाएं हाथ के बल्‍लेबाज  
एकेडमी में दाखिला तो मिल गया, लेकिन मगर माता-पिता उनके खेल करियर को लेकर बहुत गंभीर नहीं थे. इसलिए सौरव को अलग से किट नहीं मिली. उन्होंने इसका हल निकाला और दाएं के बजाय बाएं हाथ से बल्लेबाजी करने लगे ताकि वह अपने बड़े भाई की किट का इस्तेमाल कर सकें. ऐसा करने से पहले तक शायद खुद उन्होंने भी नहीं सोचा होगा कि एक दिन वह बाएं हाथ के महान बल्लेबाजों में से एक गिने जाएंगे. हालांकि सौरव गांगुली करियर के दौरान दाएं हाथ से ही गेंदबाजी करते रहे.

brijesh patel, bcci president, bcci election, sourav ganguly, ब्रजेश पटेल, बीसीसीआई अध्यक्ष, सौरव गांगुली, बीसीसीआई, भारतीय क्रिकेट टीम, बीसीसीआई चुनाव
सौरव गांगुली फिलहाल बंगाल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष हैं. (पीटीआई)

Loading...

शीर्ष तीन बल्लेबाज ऐसे...गांगुली भी उनमें से एक
वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने वाले शीर्ष-10 बल्लेबाजों में सिर्फ तीन ही बल्लेबाज बाएं हाथ के हैं. कुमार संगकारा और सनथ जयसूर्या के बाद इस सूची में तीसरा नाम सौरव गांगुली का ही है. यही नहीं एक कैलेंडर वर्ष में सर्वाधिक रन बनाने के मामले में वह बाएं हाथ के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हैं. 1999 में उन्होंने एक साल में 1767 रन बनाए थे. सिर्फ सचिन तेंदुलकर ही उनसे आगे हैं. गांगुली ने अपने पहले ही टेस्‍ट में शतक लगाया था. 1996 में इंग्‍लैंड दौरे पर लॉर्डस के ऐतिहासिक मैदान पर पहली ही पारी में गांगुली ने सैकड़ा जड़ दिया था.

गांगुली ने गुस्‍से में कार्तिक को कहा- कौन है रे ये पगला,कहां से पकड़ लाते हैं

सौरव गांगुली ने यूं की 'दुश्मन फैमिली' की लड़की से गुपचुप शादी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 7:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...