एंडरसन का झूठ बेनकाब, बेन स्टोक्स बोले-अंपायर से ओवरथ्रो का फैसला बदलने को नहीं कहा था

इंग्लैंड को वर्ल्ड कप दिलाने में बेन स्टोक्स के महत्वपूर्ण अर्धशतक का अहम योगदान रहा.

इंग्लैंड को वर्ल्ड कप दिलाने में बेन स्टोक्स के महत्वपूर्ण अर्धशतक का अहम योगदान रहा.

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने बीबीसी को दिए साक्षात्कार में दावा किया था कि मैच के दौरान की उस घटना को लेकर बेन स्टोक्स ने माफी मांगी थी और मैदानी अंपायर से ओवरथ्रो का फैसला बदलने को कहा था.

  • Share this:
वर्ल्ड कप फाइनल में इंग्लैंड को चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले ऑलराउंडर बेन स्टोक्स ने अब नया खुलासा किया है. दरअसल, इंग्लैंड आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 का चैंपियन तो बन गया था, लेकिन उसकी यह जीत विवादों से भरी रही थी. इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड के खिलाफ सुपरओवर में जीत दर्ज कर पहली बार चैंपियन बनने की उपलब्धि हासिल की थी.



फाइनल में रन लेने के दौरान बेन स्टोक्स के बल्ले से लगकर गेंद बाउंड्री लाइन पार चली गई थी, जिसके बाद अंपायर कुमार धर्मसेना ने इंग्लैंड के खाते में छह रन जोड़ने का इशारा किया था. हालांकि बाद में सामने आया कि नियमों के अनुसार, ये छह की बजाय पांच रन होने चाहिए थे क्योंकि फील्डर के गेंद फेंकते वक्त दोनों बल्लेबाजों ने एक-दूसरे को क्रॉस नहीं किया था.



हालांकि फाइनल के बाद इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने बीबीसी को दिए साक्षात्कार में दावा किया था कि मैच के दौरान की उस घटना को लेकर बेन स्टोक्स ने माफी मांगी थी और मैदानी अंपायर से ओवरथ्रो का फैसला बदलने को कहा था. हालांकि अब बीबीसी से बातचीत में ही बेन स्टोक्स ने एंडरसन के दावे को पूरी तरह खारिज कर दिया है.





cricket, icc world cup 2019, james andersan, ben stokes, icc, world cup, england cricket team, tom lathom, kane williamson, क्रिकेट, ईसीबी, इंग्लैंड क्रिकेट टीम, आईसीसी, आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019, बेन स्टोक्स, जेम्स एंडरसन, टॉम लाथम, केन विलियमसन
इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड के खिलाफ सुपरओवर में जीत दर्ज कर पहली बार विश्व खिताब अपने नाम किया था.

मैंने सिर्फ एक बात कही थी...मुझे माफ कर दो

बेन स्टोक्स ने कहा कि मैंने खुद के बारे में सोचा कि क्या वाकई में मैदान के माहौल में मैंने ऐसा कहा था? लेकिन बहुत सोचने के बाद मैं यह कहूंगा कि मैंने अंपायर से ऐसा नहीं कहा था. मैंने सिर्फ एक ही बात कही थी. मैं टॉम लॉथम के पास गया था और उनसे कहा था कि दोस्त मुझे माफ करना. केन विलियमसन की ओर देखते हुए भी मैंने उनसे भी यही कहा था कि मुझे माफ करना. मैंने अंपायर के पास जाकर कभी नहीं कहा कि मुझे वो रन नहीं चाहिए.



वर्ल्ड कप फाइनल में 242 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए मैच टाई हो गया था. जिसके बाद सुपरओवर में भी मुकाबला बराबरी पर छूटा. हालांकि अधिक बाउंड्री लगाने के आधार पर इंग्लैंड को विजेता घोषित कर दिया गया.



यह भी पढ़ें- चार साल पहले ही आर्चर ने शॉ को कह दिया था 'अनलकी', उसकी है ये सच्‍चाई



कोच चुनने से पहले ही विवादों में फंसी कपिल देव की अध्यक्षता वाली कमेटी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज