टीम में आते ही भुवनेश्वर कुमार ने कर दिया विराट कोहली की बात का 'विरोध', दे डाला बड़ा बयान

विराट कोहली (Virat Kohli)  ने कोरोना वायरस फैलने के बाद पीएम केयर फंड और महाराष्ट्र सरकार के फंड में 3 करोड़ की बड़ी रकम भी जमा कराई थी.

विराट कोहली (Virat Kohli)  ने कोरोना वायरस फैलने के बाद पीएम केयर फंड और महाराष्ट्र सरकार के फंड में 3 करोड़ की बड़ी रकम भी जमा कराई थी.

भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) की साउथ अफ्रीका वनडे सीरीज के लिए टीम इंडिया में वापसी हुई है, वो काफी समय से चोटिल थे

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 11, 2020, 8:52 PM IST
  • Share this:
धर्मशाला. न्यूजीलैंड में वनडे सीरीज हारने के बाद विराट कोहली (Virat Kohli) ने एक अजीबोगरीब बयान दिया था जिससे भुवनेश्वर कुमार बिलकुल सहमत नहीं हैं. विराट कोहली ने कहा था कि टी20 विश्व कप को देखते हुए इस साल टीम इंडिया के वनडे सीरीज मायने नहीं रखती हैं. जबकि भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने बुधवार को टी20 विश्व कप के साल में एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों के महत्व पर कप्तान विराट कोहली से अलग रुख अपनाते हुए कहा कि सभी अंतरराष्ट्रीय मैच महत्वपूर्ण हैं और एक और खराब श्रृंखला से टीम के आत्मविश्वास पर असर पड़ेगा.

इंटरनेशनल मैच अहम हैं

भुवनेश्वर ने गुरुवार को धर्मशाला में दक्षिण अफ्रीका (India vs South Africa) के खिलाफ होने वाले पहले एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच की पूर्व संध्या पर कहा, 'अंतरराष्ट्रीय मैच महत्वपूर्ण होते हैं. हमने न्यूजीलैंड में श्रृंखला गंवाई है और आप सभी को इसके बाद की प्रतिक्रिया की जानकारी है. हमारा लक्ष्य श्रृंखला जीतना था क्योंकि अगर हम अच्छा प्रदर्शन नहीं करेंगे तो खिलाड़ियों के आत्मविश्वास पर भी असर पड़ेगा.'

भुवेनश्वर का मानना है कि इस श्रृंखला में अच्छे प्रदर्शन से खिलाड़ियों का 29 मार्च से शुरू हो रही इंडियन प्रीमियर लीग से पहले आत्मविश्वास बढ़ेगा. उन्होंने कहा, 'टी20 अलग चीज है लेकिन अगर हम यहां अच्छा प्रदर्शन करेंगे तो आईपीएल में बढ़े हुए आत्मविश्वास के साथ जाएंगे जो जरूरी है.' पिछले साल स्पोर्ट्स हर्निया की सर्जरी के कारण न्यूजीलैंड दौरे से बाहर रहने वाले भुवनेश्वर की भारतीय टीम में वापसी हुई है.
वापसी आसान नहीं

31 साल के भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) ने स्वीकार किया कि तेज गेंदबाजों के लिए वापसी करना आसान नहीं होता. उन्होंने कहा, 'चोट के बाद वापसी करते हुए तेजी को बरकरार रखना मुश्किल होता है क्योंकि आपके दिमाग में हमेशा यह रहता है कि अगर आप तेज गति से गेंदबाजी की कोशिश करोगे तो फिर चोटिल हो सकते हो. इसके लिए सर्वश्रेष्ठ विकल्य यह है कि आप अधिक से अधिक मैच खेलो जिससे कि आत्मविश्वास बढ़े कि आप फिट हो.' भुवनेश्वर ने कहा कि चोट की स्थिति में वैकल्पिक गेंदबाजों का होना अच्छा है और किसी भी टीम के लिए स्वस्थ प्रतिस्पर्धा अच्छा संकेत है.

धर्मशाला में टॉस जीते तो पहले गेंदबाजी करेंगे



धर्मशाला में गुरुवार को बारिश की भविष्यवाणी की गई है और भुवनेश्वर ने भी संकेत दिए कि अगर भारत टॉस जीता तो पहले गेंदबाजी करने को प्राथमिकता देगा. उन्होंने कहा, 'आम तौर पर यह बल्लेबाजी विकेट होता है. शाम को ओस की भी भूमिका रहती है जिससे गेंदबाज के लिए मुश्किल हो जाती है.'

BCCI ने टीम इंडिया को दिए ये निर्देश, कहा मोबाइल भी हाथ में नहीं लेना!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज