लाइव टीवी

भारतीय गेंदबाजों के साथ होता है 'अन्याय', टीम इंडिया के बल्लेबाज ही हैं 'कसूरवार'!

News18Hindi
Updated: February 1, 2020, 9:58 PM IST
भारतीय गेंदबाजों के साथ होता है 'अन्याय', टीम इंडिया के बल्लेबाज ही हैं 'कसूरवार'!
न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे टी20 मैच में रोहित शर्मा मैन ऑफ द मैच रहे थे

न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे वनडे में मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) को मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड न मिलने पर एक नई बहस छिड़ गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 1, 2020, 9:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. टीम इंडिया (Team India) न्यूजीलैंड दौरे पर है, जहां टीम ने टी20 सीरीज पर कब्जा करके अपने अभियान का विजयी आगाज किया. पांच मैचों की टी20 सीरीज में टीम इंडिया 4-0 से बढ़त बनाए हुए हैं. भारत और न्यूजीलैंड (India vs New Zealand) के बीच खेले गए सीरीज का तीसरा और चौथा मुकाबला सुपर ओवर में गया, जहां भारत ने जीत दर्ज की. मगर सीरीज के दूसरे टी20 मैच में जीत दर्ज करने के बाद से ही सोशल मीडिया पर एक नई बहस छिड़ गई है. वो ये कि अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद गेंदबाजों को प्लेयर ऑफ द मैच अवॉर्ड क्यों नहीं दिया गया. दूसरे मैच में अर्धशतक जड़ने वाले केएल राहुल (KL Rahul) मैन ऑफ द मैच रहे, जबकि तीसरे मैच में रोहित शर्मा (Rohit Sharma) को यह अवॉर्ड मिला. जबकि दोनों मुकाबलों में रवींद्र जडेजा और मोहम्मद शमी ने टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई थी. तीसरा मैच जीतने के बाद खुद रोहित ने कहा था कि कि जीत शमी के कारण मिली है.

दूसरे टी20 मैच में जडेजा ने विलियमसन और डी ग्रैंडहोम के विकेट झटके थे


जडेजा के विकेट रहे टर्निंग पॉइंट
ऑकलैंड में खेले गए सीरीज के दूसरे मुकाबले को भारत ने सात विकेट से जीता था, जिसमें केएल राहुल ने अर्धशतक जमाया. मगर इस मुकाबले में गेंदबाजों ने पहले ही कीवी टीम को 132 रन पर ही रोककर बल्लेबाजों के लिए काम आसान कर दिया था. जिसमें रवींद्र जडेजा ने केन विलियमसन और कॉलिन डी ग्रैंडहोम के दो अहम विकेट लिए, जो भारत की जीत की सबसे बड़ी वजह रही.

शमी के आखिरी ओवर ने जगाई थी भारत की उम्मीद
इसी तरह हैमिल्टन में खेले गए मुकाबले में भारत ने न्‍यूजीलैंड के सामने 180 रनों का लक्ष्य रखा था. रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने 65 रन की पारी खेली थी. हालांकि यह मुकाबला न्यूजीलैंड के पक्ष में जाता दिख रहा था. कीवी टीम को आखिरी ओवर में जीत के लिए नौ रन चाहिए थे. कीवी कप्तान केन विलियमसन 95 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे. मगर शमी के आखिरी ओवर में भारत की उम्मीदों को एक बार फिर जिंदा कर दिया. आखिरी ओवर की तीसरी गेंद पर शमी ने विलियमसन को आउट कर दिया. इसके बाद अगली दो गेंदों पर सिर्फ एक रन दिए और आखिरी गेंद पर रॉस टेलर को बोल्ड करके मुकाबला टाई करवा दिया.

मोहम्मद शमी ने तीसरे टी20 मैच के आखिरी ओवर में 8 रन देकर 2 विकेट लिए, जिससे मैच का पासा ही पलट गया था
पहले भी बल्लेबाज को मिल चुका है अवॉर्ड
हालांकि भारत के मुकाबले में ऐसा पहली बार नहीं हैं, जब गेंदबाज के ऊपर बल्लेबाज को अहमियत मिली. पिछले साल हुए वर्ल्ड कप में भारत और वेस्टइंडीज (India vs West Indies) के मुकाबले में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला था. 27 जून को खेले गए इस मुकाबले में भारत ने 125 रन के अंतर से बड़ी जीत हासिल की थी. जहां भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) को मैन ऑफ द मैच चुना गया. कोहली ने उस मैच में 72 रन की पारी खेली थी, मगर इस मुकाबले में गेंदबाजों का योगदान अहम रहा था, जिन्होंने अपनी घातक गेंदबाजी से भारतीय गेंदबाजों ने कैरेबियाई टीम को 143 रन पर ही रोक दिया था. भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 268 रन बनाए थे, जिसके जवाब में वेस्टइंडीज 143 रन ही बना पाई. मोहम्मद शमी ने 2.52 की इकोनॉमी से 16 रन देकर चार विकेट लिए थे, जबकि जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) ने 1.50 की इकोनॉमी से 9 रन पर दो विकेट लिए थे. इसके बावजूद बल्लेबाज को अहमियत मिली.

वर्ल्ड कप में वेस्टइंडीज के खिलाफ मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह ने शानदार गेंदबाजी की थी (फाइल फोटो)


अभूतपूर्व प्रदर्शन के लिए दिया जाता है अवॉर्ड
क्रिकेट (Cricket) की दुनिया में प्लेयर ऑफ द मैच या मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज किसी मैच या सीरीज में अभूतपूर्व प्रदर्शन के लिए दिया जाता है. ऐसा खिलाड़ी, जिसने मैच में अपनी अलग छाप छोड़ी हो या करिश्माई प्रदर्शन करके टीम को जीत दिलाई हो, वो इस अवॉर्ड का हकदार होता है. यह अवॉर्ड अधिकतर विजयी टीम के खिलाड़ी को दिया जाता है, मगर कुछ एक मौकों पर हारने वाली टीम के खिलाड़ी को भी यह अवॉर्ड दिया गया है. सचिन तेंदुलकर को सर्वाधिक छह बार टीम के हारने के बावजूद मैन ऑफ द मैच चुना गया था.

sachin tendulkar world cup 2003, sachin tendulkar interview, sachin tendulkar 2003 world cup, sachin tendulkar 98 against pakistan, सचिन तेंदुलकर इंटरव्‍यू, सचिन तेंदुलकर वर्ल्‍ड कप 2003, सचिन तेंदुलकर पाकिस्‍तान 98 रन
सचिन तेंदुलकर वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा बार मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड जीतने वाले खिलाड़ी हैं (फाइल फोटो)


1980 में नियमित रूप से दिया जाने लगा यह अवॉर्ड
क्रिकेट की दुनिया में यह अवॉर्ड 1980 के दशक के मध्य में टेस्ट मैचों में नियमित रूप से दिया जाने लगा.  टेस्‍ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड हासिल करने का रिकॉर्ड जैक कैलिस के नाम है. कैलिस ने 166 मैचों में 23 बार यह खिताब अपने नाम किया. इनके बाद श्रीलंका के दिग्गज मुथैया मुरलीधरन का नाम है, जाे 19 बार मैन ऑफ द मैच बने. वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा बार मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड हासिल करने का रिकॉर्ड भारत के महान ‌खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के नाम हैं. सचिन 463 वनडे मैचों में 62 बार मैन ऑफ द मैच रहे. वहीं क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट में विराट कोहली (Virat Kohli) अभी तक टी20 क्रिकेट में 12 बार मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड अपने नाम करके मोहम्मद नबी के साथ संयुक्त रूप से नंबर एक पर है.

ये भी पढ़ें: युजवेंद्र चहल ने बनाया डांस वीडियो, टोपी वाले खिलाड़ी पर अटकी सभी की नजरें!

ये भी पढ़ें: आखिर क्यों अपने साथ टेनिस की 48 साल पुरानी किताब रखते हैं अजिंक्य रहाणे?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 1, 2020, 9:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर