इस ऑस्‍ट्रेलियाई गेंदबाज के डर से सो नहीं पाए रोहित शर्मा, ऐसे काटी थी रात

आज से ठीक एक साल पहले यानी आज ही के दिन 16 जून को वर्ल्‍ड कप में पाकिस्‍तान के खिलाफ भारत के सलामी बल्‍लेबाज रोहित शर्मा का कोहराम बरपा था. हालांकि वह वर्ल्‍ड कप में दोहरा शतक लगाने से चूक गए थे. मगर उनकी बड़ी पारी के दम पर भारत ने वर्ल्‍ड कप पाकिस्‍तान पर अपनी जीत का रिकॉर्ड 70 कर लिया था.

बात 2007 की है, जब रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ऑस्‍ट्रेलिया अपने पहले दौरे गए थे

  • Share this:
    नई दिल्ली. दुनिया के सबसे आक्रामक बल्‍लेबाजों में से एक रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने बताया कि वो ऑस्‍ट्रेलियाई गेंदबाज जोश हेजलवुड का सामना नहीं करना चाहते, क्‍योंकि वो अपनी लेंथ से टस से मस नहीं होते. वहीं रोहित ने बताया किऑस्‍ट्रेलियाई गेंदबाज ब्रेट ली (Brett Lee) का सामना करने के विचार से ही उनकी नींद उड़ जाती थी. स्‍टार स्‍पोर्ट्स के क्रिकेट कनेक्‍टेड ने बात करते हुए रोहित शर्मा ने कहा कि कोविड-19 महामारी से राहत मिलने पर भारत जब इस साल के आखिर में ऑस्ट्रेलिया का दौरा करेगा तो उन्हें हेजलवुड का सामना करने के लिए मानसिक रूप से तैयार होना होगा.

    रोहित से पूछा गया कि उन्हें अब तक किस तेज गेंदबाज का सामना करने में सबसे मुश्किल आई तो उन्होंने कहा कि वह गेंदबाज ब्रेट ली है, क्योंकि 2007 में ऑस्ट्रेलिया के मेरे पहले दौरे में ब्रेट ली के कारण मैं सो नहीं पाया थे. रोहित ने कहा कि मैं यहीं सोच रहा था कि 150 किमी से अधिक की रफ्तार से गेंदबाजी करने वाले इस गेंदबाज का कैसे सामना करूं. ब्रेट ली 2007 में अपने चरम पर थे. मैं उन पर करीबी नजर रखता था और मैंने पाया कि वह लगातार 150-155 किमी की रफ्तार से गेंदबाजी कर रहे हैं. इस तरह की तूफानी गेंदबाजी का सामना करने के विचार से ही मुझ जैसे युवा खिलाड़ी की नींद उड़ गई.

    हेजलवुड का नहीं करना चाहते सामना

    रोहित ने 2007 में पदार्पण किया और इसके बाद कई यादगार पारियां खेली. उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में जिस गेंदबाज का मैं टेस्ट मैचों में सामना नहीं करना चाहता हूं वह जोश हेजलवुड है, क्योंकि वह बेहद अनुशासित गेंदबाज है और अपनी लेंथ से टस से मस नहीं होते. वह आपको ढीली गेंद नहीं देते है. रोहित ने इसके साथ ही कहा कि दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने भी उनको काफी परेशान किया, क्योंकि वह अच्छी गति से गेंद को स्विंग कराने में माहिर थे.
    उन्होंने कहा कि संन्यास ले चुके गेंदबाजों में मेरे दो पसंदीदा गेंदबाज है. एक तो ब्रेट ली है और दूसरा डेल स्टेन. मैं कभी स्टेन का सामना नहीं करना चाहता था, क्योंकि एक साथ तेज और स्विंग लेती गेंद का सामना करना दुस्वप्न जैसा था. रोहित ने कहा कि वर्तमान समय के तेज गेंदबाजों में हेजलवुड सर्वश्रेष्ठ हैं. उन्होंने कहा कि मैंने उन्‍हें समझने के लिए उनकी गेंदबाजी को काफी देखा. मैं जानता हूं कि अगर मैं इस साल ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट मैच खेलने के लिए जाता हूं तो मुझे हेजलवुड का सामना करते हुए अनुशासित बने रहने के लिए मानसिक तौर पर तैयार रहना होगा.

    'धोनी और रोहित खिलाड़ियों पर करते हैं भरोसा, मगर कोहली...'

    पूर्व पाक विकेटकीपर का खुलासा, अकमल के कारण सीरीज के बीच में होटल से हुए लापता