होम /न्यूज /खेल /IPL-10: क्या इस बार गेंदबाज़ों के दम पर खिताब जीत पाएगी दिल्ली डेयरडेविल्स?

IPL-10: क्या इस बार गेंदबाज़ों के दम पर खिताब जीत पाएगी दिल्ली डेयरडेविल्स?

Image Source: BCCI

Image Source: BCCI

अगर ये चारों गेदबाज़ किसी टेस्ट टीम का हिस्सा हो तो उस टीम के आक्रमण को शायद ही कोई हल्के में ले.

    ज़हीर ख़ान- बायें हाथ के दिग्गज तेज़ गेंदबाज़
    क्रिस मौरिस-दिल्ली के लिए पिछले सीज़न के सबसे कामयाब गेंदबाज़
    मोहम्मद शमी- मौजूदा समय में भारत के सबसे बेहतरीन तेज़ गेंदबाज़
    पैट कमिंस- ऑस्ट्रेलिया के होनहार तेज़ गेंदबाज़
    कगीसो रबाडा- साउथ अफ्रीका की तेज़ गेदबाज़ी की सबसे बड़ी उम्मीद

    अगर ये चारों गेदबाज़ किसी टेस्ट टीम का हिस्सा हों तो उस टीम के आक्रमण को शायद ही कोई हल्के में लेगा. लेकिन, क्या टी20 फॉर्मेंट में और वो भी भारत जैसी पिचों पर तेज़ गेंदबाज़ों के दम पर कोई टीम मैच जीतने की रणनीति बना सकती है?

    मैच से पहले आरसीबी को लगा एक और धक्का, ये खिलाड़ी भी हुआ बाहर!

    "क्यों नहीं! आपको ऐसा क्यों लगता है इस फॉर्मेंट में तेज़ गेंदबाज़ों के दमपर मैच नहीं जीता जा सकता है." दिल्ली डेयरडेविल्स टीम मैनेजमेंट के अहम सदस्य और पूर्व तेज़ गेंदबाज़ टीए शेखर ने न्यूज़18 इंडिया के इस सवाल से चौंकते हुए ऐसा जवाब दिया.

    Image Source: BCCI
    Image Source: BCCI


    शेखर के इस उत्साह की वज़ह है ज़हीर ख़ान की कप्तानी. पिछले साल ज़हीर ने अपनी कप्तानी और गेंदबाज़ी से काग़ज़ पर कमज़ोर दिखने वाली दिल्ली की टीम को बेहद संतुलित टीम में तब्दील कर दिया था.

    "अगर आप कुछ नज़दीकी मुकाबलों के नतीज़ों पर गौर करेंगे तो आपको ये पता चलेगा कि हमने पिछली बार सराहनीय खेल दिखाया था"– ये कहना है दिल्ली के कप्तान ज़हीर खान का.

    IPL-10: पहला मैच 5 अप्रैल को, हैदराबाद और बैंगलोर की ये हो सकती है प्लेइंग इलेवन

    इन तेज़ गेंदबाज़ों के अलावा दिल्ली के पास कोरी एंडरसन, कार्लोस ब्रैथवेट और एंजेलो मैथ्यूज़ के तौर पर तेज़ गेंदबाज़ी वाले ऑलराउंडर भी है जो अपनी गेंदबाज़ी के साथ-साथ बल्लेबाज़ी से भी दिल्ली टीम की काया पलट सकते हैं.

    Image Source: News18
    Image Source: News18


    पिछले सीज़न मौरिस ने अमित मिश्रा के साथ मिलकर साझे तौर पर अपनी टीम के लिए सबसे ज़्यादा 13 विकेट लिए थे. लेकिन, मिश्रा के मुकाबले मौरिस का इकॉनोमी रेट काफी बेहतर रहा था. मौरिस ने सिर्फ 7 रन प्रति ओवर खर्च किए थे जो मुस्तफिज़ूर रहमान के बाद सबसे बढ़िया था (उन गेंदबाज़ों में जिन्होंने कम कम से कम 40 ओवर की गेंदबाज़ी की थी). ज़हीर ने भी अपनी साख़ के साथ पिछले सीज़न न्याय किया था लेकिन मोहम्मद शमी ने करीब 10 रन (9.69) प्रति ओवर खर्च किए थे जो उनकी टीम के लिए काफी नुकसानदेह साबित हुआ था.

    इस सीज़न शमी के लिए चुनौती और बड़ी है क्योंकि वो अनफिट होने के चलते लंबे समय से क्रिकेट से दूर रहे थे. हाल ही में उन्होंने देवधर ट्रॉफी का फाइनल मैच बंगाल के लिए खेला था.

    Image Source: AFP

    Image Source: AFP

    पिछले साल सनराइजर्स हैदराबाद ने मुस्तफिज़ूर रहमान की अगुवाई में भुवनेश्वर कुमार, बरिंदर सरां और आशीष नेहरा पर भरोसा जताते हुए ये साबित किया था कि भारतीय पिचों पर तेज़ गेदबाज़ों पर भरोसा करके टूर्नामेंट भी जीता जा सकता है. मुमकिन है कि दिल्ली इस बार हैदराबाद के कामयाब फॉर्मूले को दोहराने की उम्मीदों से ही मैदान में उतरेगी.

    Tags: Delhi daredevils, Indian premier league, Ipl 10, IPL 2017, Zaheer Khan

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें