धोनी ने किया अंपायरों पर कटाक्ष, बोले-मैं जुर्माना नहीं भरना चाहता

टीम इंडिया
टीम इंडिया

हमारे एक-दो खिलाड़ी रन आउट हो गये और कुछ अन्य चीजें हैं जिन पर बात नहीं कर सकते हैं क्योंकि इसके लिये मैं जुर्माना नहीं भरना चाहता हूं-महेंद्र सिंह धोनी

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 26, 2018, 1:11 PM IST
  • Share this:
भारत और अफगानिस्तान के बीच एशिया कप में सुपर फोर मैच टाई रहा, जो कि बतौर कप्‍तान धोनी के करियर का पांचवां टाई मैच है. भले ही रवींद्र जडेजा और खलील अहमद की जोड़ी आखिरी में ओवर में जीत के लिए जरूरी सात रन नहीं बना सकी और मैच टाई हो गया, लेकिन इस मैच को इन हालातों तक लाने में अंपायरों का भी योगदान रहा. मैच के बाद अंपायरों की गलतियों पर कटाक्ष करते हुए महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि वह इस बारे में टिप्पणी करके जुर्माना नहीं भरना चाहते हैं.

दरअसल, इस मैच में कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी और दिनेश कार्तिक को मैदानों अंपायरों वेस्टइंडीज के ग्रेगरी ब्रेथवेट और बांग्लादेश के अनीसुर रहमान ने एलबीडब्‍ल्‍यू आउट दिया. हालांकि टीवी रीप्ले से साफ लग रहा था कि दोनों बार गेंद विकेट पर नहीं लग रही थी.

अफगानिस्‍तान के पार्ट-टाइम स्पिनर जावेद अहमदी की अपील पर अंपायर ने धोनी को आउट करार दिया. जबकि गेंद स्‍टंप के ऊपर से जा रही थी. धोनी भली-भांति जानते थे कि वह नॉट आउट हैं, लेकिन रिव्‍यू ना होने के कारण उन्‍हें पवेलियन लौटना पड़ा.




आपको बता दें कि केएल राहुल ने रिव्‍यू लिया था, लेकिन वह फिर भी आउट हो गए थे. लिहाजा रिव्‍यू बर्बाद हो गया.इसके अलावा कार्तिक को मोहम्मद नबी की गेंद पर एलबीडब्‍ल्‍यू आउट देना तो सबसे बड़ी गलती थी क्योंकि तब गेंद लेग स्टंप से काफी बाहर जा रही थी.
मैच के बाद धोनी ने कहा, ' हमारे एक-दो खिलाड़ी रन आउट हो गये और कुछ अन्य चीजें हैं जिन पर बात नहीं कर सकते हैं क्योंकि इसके लिये मैं जुर्माना नहीं भरना चाहता हूं. इसी वजह से मैच टाई रहा.'आपको बता दें कि अंपायरों के फैसले की सार्वजनिक आलोचना करने पर आईसीसी जुर्माना लगा सकती है और इसी वजह से धोनी ने कुछ भी कहना उचित नहीं समझा.उन्‍होंने अफगानिस्‍तान टीम की तारीफ करते हुए कहा,'उनकी (अफगानिस्तान) क्रिकेट में बहुत सुधार हुआ है. एशिया कप में जिस तरह से उन्होंने अच्छा प्रदर्शन जारी रखा है वह तारीफ के काबिल है. जबकि हमने उनके साथ खेलते हुए क्रिकेट का लुत्फ उठाया. यकीनन इस टीम ने हर विभाग में सुधार किया है.’हालांकि धोनी ने बाद में विकेट धीमा होने की बात भी कही,लेकिन वह विरोधी टीम को अच्‍छी गेंदबाज़ी और फील्डिंग के लिए श्रेय देना कतई नहीं भूले.


उन्होंने रोहित शर्मा और शिखर धवन की अनुपस्थिति में पारी का आगाज करने वाले केएल राहुल और अंबाती रायडु की तारीफ की जिन्होंने पहले विकेट के लिये शतकीय साझेदारी की.

धोनी ने कहा, ‘बल्लेबाजी में हमने बहुत अच्छी शुरुआत की लेकिन खेल आगे बढ़ने के साथ विकेट धीमा होता गया, इसलिए किसी को एक छोर संभाले रखना था. हमें अपने शॉट चयन में सुधार करने की जरूरत है. यह अच्छा है कि मैच टाई छूटा लेकिन उन्होंने बहुत अच्छा खेल दिखाया.’

उन्होंने कहा, ‘अफगानिस्तान ने बहुत अच्छा खेल दिखाया. इस विकेट पर 250 रन अच्छा स्कोर था. कुछ चीजें हमारे अनुकूल नहीं रही और इसलिए हम हार भी सकते थे इसलिए मैं परिणाम से खुश हूं.’

अफगानिस्तान की तरफ से शतक जड़ने वाले मोहम्मद शहजाद हालांकि जीत दर्ज नहीं कर पाने से निराश थे.

उन्होंने कहा, ‘मैं बहुत खुश नहीं हूं. हम छह घंटे तक मैदान पर संघर्ष करते रहे और फिर भी हमें अनुकूल परिणाम नहीं मिला लेकिन मैं टीम के प्रदर्शन से खुश हूं. हमें अगले दिन उड़ान पकड़नी है और इसलिए मैंने बेपरवाह होकर बल्लेबाजी करने पर ध्यान दिया. मुझे खुशी है कि मैंने एशिया की सर्वश्रेष्ठ टीम के खिलाफ यह पारी खेली.’

खैर, टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी अफगानिस्तान ने मोहम्मद शहजाद की 124 और मोहम्मद नबी की 64 रनों की पारियों के दम पर पूरे 50 ओवर खेलते हुए आठ विकेट के नुकसान पर 252 रन बनाए थे. भारतीय टीम भी एक गेंद शेष रहते अपनी सभी विकेट खोकर 252 रन ही बना सकी और मैच टाई रहा. आखिरी ओवर में भारत को जीत के लिए सात रनों की जरूरत थी.

रवींद्र जडेजा (25) ने पहली गेंद पर रन नहीं लिया. दूसरी गेंद पर उन्होंने चौका जड़ा और अगली गेंद पर एक रन लिया. चौथी गेंद पर खलील अहमद (नाबाद 1) ने एक रन लिया. यहां स्कोर बराबर हो गया था. अब भारत को जीत के लिए दो गेंदों में एक रन ही दरकार थी, लेकिन अभी तक सूझबूझ से खेलते आ रहे जडेजा राशिद खान की पांचवीं गेंद को हवा में खेल बैठे और नाजीबुल्लाह जादरान ने कैच लपकने में कोई गलती नहीं की. इसके साथ मैच टाई हो गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज