मिस्टर कूल नहीं हैं धोनी, गुस्से में अंपायरों और साथी खिलाड़ियों के साथ कर चुके हैं ऐसी हरकत

मिस्टर कूल नहीं हैं धोनी, गुस्से में अंपायरों और साथी खिलाड़ियों के साथ कर चुके हैं ऐसी हरकत
एमएस धोनी जुलाई 2019 के बाद से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर हैं. (फाइल फोटो)

टीम इंडिया (Team India) के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) अपने शांत स्वभाव के लिए जाने जाते हैं और इसीलिए उन्हें मिस्टर कूल (Mister Cool) कहा जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 7, 2020, 12:22 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) को क्रिकेट जगत मिस्टर कूल के नाम से जानता है. चाहे शतक हो, विकेट, जीत या हार, एमएस धोनी के चेहरे के भाव नहीं बदलते. यहां तक कि टीम इंडिया के क्रिकेटरों के लिए ये पता करना मुश्किल हो जाता है कि आखिर धोनी के दिमाग में चल क्या रहा है, क्योंकि अपने हाव-भाव से तो माही इसका अंदाजा लगने ही नहीं देते. लेकिन अगर आपको लगता है कि धोनी इतने ही शांत हैं, जैसा कि हम उन्हें देखते आए हैं तो आप गलत हैं.

जी हां, जब खिलाड़ी मैदान पर होता है तो भावनाओं का ज्वार इतना तेज होता है कि न चाहते हुए भी ऐसी प्रतिक्रिया सामने आ जाती है जो हमने पहले कभी नहीं देखी होती. महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के साथ भी कई बार ऐसा हुआ है. धोनी के करियर में भी कई मौके ऐसे आए हैं जब वह खुद पर आपा नहीं रख सके और उनका गुस्सा सभी के सामने जाहिर हुआ. हम उन्हीं किस्सों के बारे में आपको बता रहे हैं.

रुआंसे हो गए थे दीपक चाहर
आईपीएल (IPL) में किंग्स इलेवन पंजाब को दो ओवरों में 39 रन की दरकार थी. तभी चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Superkings) के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने दीपक चाहर को गेंद थमाई. मगर चाहर ने पहली गेंद कमर से ऊपर फेंकी, जिस पर बाउंड्री लगी. इसके बाद लगातार दूसरी गेंद इसी तरह की फेंकी, जिस पर दो रन बनाए गए. इस तरह बिना गेंद फेंके 8 रन बन गए. इसके बाद धोनी को उन्हें बुरी तरह डांटते हुए देखा गया था. धोनी की डांट के बाद दीपक चाहर रुआंसे से हो गए थे. हालांकि इसके बाद उन्होंने सिर्फ पांच रन दिए और डेविड मिलर का विकेट भी लिया.



माइकल हसी, अंपायर और धोनी


भारतीय टीम 2012 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे मैच खेल रही थी. सुरेश रैना की गेंद पर ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज माइकल हसी को टीवी अंपायर ने स्टंप आउट करार दिया. हसी जब पवेलियन की ओर लौट रहे थे, तभी मैदानी अंपायर ने उन्हें वापस बुला लिया. धोनी (MS Dhoni) इससे बेहद नाराज हो गए और अंपायर से भिड़ गए. दोनों को जोरदार बहस करते देखा गया, हालांकि इसके बाद हसी ने बल्लेबाजी जारी रखी.

डगआउट से मैदान पर आ गए धोनी
इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) का ये 25वां मैच था. चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Superkings) टीम का सामना राजस्थान रॉयल्स से था. आखिरी तीन गेंदों में चेन्नई को जीत के लिए आठ रनों की जरूरत थी. मिचेल सेंटनर स्ट्राइक पर थे और बेन स्टोक्स गेंदबाजी कर रहे थे. स्टोक्स ने फुलटॉस फेंकी, जिसे अंपायर ने नो-बॉल करार दिया. इस पर बल्लेबाजों ने दो रन ले लिए और आश्चर्यजनक रूप से अंपायर ने अपना फैसला वापस ले लिया. दूसरे छोर पर खड़े रवींद्र जडेजा अंपायर से बहस करने लगे और इतना ही नहीं, धोनी (MS Dhoni) डगआउट से उठकर मैदान में आ पहुंचे. धोनी और अंपायर के बीच गरमागरम बहस हुई, लेकिन फैसला वही रहा. आखिरकार सेंटनर ने आखिरी गेंद पर छक्का जड़कर टीम को जोरदार जीत दिलाई.

Coronavirus के खिलाफ जंग में पाकिस्तान ने ली जसप्रीत बुमराह की 'मदद',ये है वजह

बेन स्टोक्स ने लिया फॉर्मूला वन रेस में हिस्सा, जानिए कौन से स्थान पर रहे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading