तीनों फॉर्मेट में कप्तानी मिलने के बाद बोले विराट, कहा- ऐसी उम्मीद नहीं थी

विराट ने कहा कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वह तीनों प्रारूप में भारतीय टीम की कप्तानी करेंगे। धोनी के कप्तानी छोड़ने के बाद कोहली को टीम का कप्तान चुना गया है।

News18India.com
Updated: January 12, 2017, 11:54 AM IST
तीनों फॉर्मेट में कप्तानी मिलने के बाद बोले विराट, कहा- ऐसी उम्मीद नहीं थी
(Getty images)
News18India.com
Updated: January 12, 2017, 11:54 AM IST
पुणे| तीनों फॉर्मेट में कप्तानी मिलने के बाद अब विराट कोहली ने अपनी बात सामने रखी। वनडे और टी-20 टीम के नए कप्तान विराट ने बुधवार को कहा कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वह तीनों प्रारूप में भारतीय टीम की कप्तानी करेंगे। महेंद्र सिंह धोनी के वनडे और टी-20 टीम की कप्तानी छोड़ने के बाद कोहली को टीम का कप्तान चुना गया है। कोहली ने कहा कि मैंने कभी नहीं सोचा था कि यह दिन मेरी जिंदगी में आएगा। जब मैं टीम में आया तो मेरी कोशिश हमेशा अच्छा प्रदर्शन करने, ज्यादा से ज्यादा मौके पाने और टीम की जीत में योगदान देने की रही।

भगवान ही सबकुछ करता है
कोहली ने कहा कि उन्हें नहीं पता था कि वह एक दिन यह सम्मान पाएंगे। कोहली ने कहा कि मेरा मानना है कि सब कुछ भगवान करता है। कुछ भी आपके साथ हो सकता है, जो होगा वह किसी कारण से सही समय पर होगा। कोहली ने कहा कि हालांकि उन्हें जूनियर स्तर पर कप्तानी का अनुभव है लेकिन सीनियर स्तर पर कप्तानी करना अलग बात है। कोहली ने कहा कि भारत की कप्तानी करना पूरी तरह से अलग है। यह कई मायनों में बड़ा काम है, क्योंकि यहां आप पर लोगों का ध्यान अधिक होगा, प्रशंसा भी की जाएगी और अलोचना भी। यह सभी चीजें इसके साथ आएंगी।

कप्तानी करने से मेरे अंदर होंगे ये बदलाव

उन्होंने कहा कि लेकिन जो चीज कप्तानी के साथ आएगी वह जिम्मेदारी होगी और यह मुझे बेहतर क्रिकेट खिलाड़ी तथा एक बेहतर इंसान बनाएगी। इसके अनुभव से मैं जिंदगी के बारे में बहुत कुछ सीखूंगा। उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं कहूंगा की इसमें दवाब नहीं है, लेकिन इसमें मजा भी है। मैं अपनी क्षमता और कमजोरी जानता हूं लेकिन लोग मुझे यूं ही पंसद नहीं करते। मैं जिस तरह खुद को पेश करता हूं लोग उससे ज्यादा खुश नहीं होते।

सचिन की सलाह हमेशा काम आई
कोहली ने कहा कि सचिन तेंदुलकर की सलाह से उनके करियर में काफी बदलाव आया है। उन्होंने कहा कि मुझे सचिन से जो सलाह मिली वह अपने खेल में विश्वास करने, अपनी तैयारी पर विश्वास करने की थी और किसी दूसरे की बात न सुनने की सलाह थी, जिससे मुझे मदद मिली।
First published: January 12, 2017, 11:52 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...