लाइव टीवी
Elec-widget

हर्षा भोगले को मिला चेतेश्वर पुजारा का साथ, कहा-पिंक बॉल देखने में थोड़ी परेशानी

News18Hindi
Updated: November 27, 2019, 2:35 PM IST
हर्षा भोगले को मिला चेतेश्वर पुजारा का साथ, कहा-पिंक बॉल देखने में थोड़ी परेशानी
चेतेश्वर पुजारा ने बांग्लादेश के खिलाफ कोलकाता टेस्ट में बेहतरीन अर्धशतक जड़ा. (फाइल फोटो)

कोलकाता (Kolkata) में भारत-बांग्लादेश (India vs Bangladesh) के बीच खेले गए डे-नाइट टेस्ट (Day Night Test) में इसी मुद्दे पर हर्षा भोगले (Harsha Bhogle) और संजय मांजरेकर (Sanjay Manjrekar) कमेंट्री बॉक्स में आमने-सामने आ गए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 27, 2019, 2:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत-बांग्लादेश (India vs Bangladesh) के बीच कोलकाता (Kolkata) के ईडन गार्डंस (Eden Gardens) में खेले गए डे-नाइट टेस्ट (Day Night Test) के साथ भारतीय क्रिकेट इतिहास (Indian Cricket History) के नए युग की शुरुआत हो गई. ये पहला मौका था जब भारत ने पिंक बॉल टेस्ट (Pink Ball Test) खेला था. इस मैच में बांग्लादेश के दो बल्लेबाज भारतीय तेज गेंदबाजों की गेंदों पर चोटिल तक हो गए, जिसके बाद चे बहस छिड़ गई कि पिंक बॉल को फ्लड लाइट की रोशनी में देखना मुश्किल होता है या नहीं. यहां तक कि इस मुद्दे पर कमेंट्री बॉक्स में हर्षा भोगले (Harsha Bhogle) और संजय मांजरेकर (Sanjay Manjrekar) के बीच बहस भी छिड़ गई. अब इस मामले में टीम इंडिया के बल्लेबाज और पिंक बॉल टेस्ट में अर्धशतक लगाने वाले चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने अपना रुख साफ किया है.

दूसरे-तीसरे सत्र में होती है ज्यादा समस्या
इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने कहा, 'जहां तक लाल गेंद की बात है तो दृश्यता कोई समस्या नहीं है, लेकिन फ्लड लाइट्स में पिंक बॉल (Pink Ball) से जब आप दूसरे और तीसरे सत्र में बल्लेबाजी के लिए जाते हैं तो दृश्यता थोड़ी समस्या होती है. ऐसा इसलिए भी होता है क्योंकि आप ड्रेसिंग रूम में बैठे होते हैं और अचानक ही आपको  लाइट्स के अंदर बल्लेबाजी के लिए आना होता है. गेंद भी अधिक स्विंग कर रही होती है. ऐसे में आपको क्रीज पर ज्यादा वक्त बिताना होता है ताकि लाइट्स के आदी हो जाएं और फिर अपने शॉट्स खेल सकें.' टीम इंडिया (Team India) ने उम्मीदों पर खरा उतरते हुए न केवल ये पिंक बॉल टेस्ट (Pink Ball Test) पारी और 46 रन से अपने नाम किया, बल्कि दो मैचों की सीरीज भी 2-0 से अपने कब्जे में कर ली थी.

cricket news, cheteshwar pujara, indian cricket team, india vs bangladesh, kolkata test, eden gardens, pink ball test, क्रिकेट न्यूज, स्पोर्ट्स न्यूज, खेल, चेतेश्वर पुजारा, भारतीय क्रिकेट टीम, पिंक बॉल टेस्ट, कोलकाता टेस्ट, ईडन गार्डंस, इंडिया वस बांग्लादेश, हर्षा भोगले, संजय मांजरेकर, harsha bhogle, sanjay manjrekar
टीम इंडिया के भरोसेमंद बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा लंबे समय से कोई बड़ी पारी खेलने में असफल रहे हैं. (फाइल फोटो)


हर्षा भोगले और संजय मांजरेकर के बीच कमेंट्री बॉक्स में हो गई थी बहस
दरअसल, हर्षा भोगले (Harsha Bhogle) ने कोलकाता टेस्ट में कमेंट्री के दौरान पिंक बॉल (Pink Ball) ठीक से नजर न आने के चलते बल्‍लेबाजों को लेकर चिंता जताई थी. उन्‍होंने कहा कि खिलाड़ियों से गुलाबी गेंद के दिखने को लेकर पूछा जाना चाहिए. उनकी सुरक्षा का भी ख्‍याल होना चाहिए. उनके साथ कमेंट्री कर रहे संजय मांजरेकर (Sanjay Manjrekar) इससे सहमत नहीं दिखे. उन्‍होंने काफी रूखेपन से जवाब दिया. कई लोगों का ध्‍यान इस पर गया. उन्‍होंने अपने क्रिकेट खेलने के अनुभव को गिनाते हुए कहा कि हर्षा केवल आपको ही जानने की जरूरत है. उनके पास तो क्रिकेट खेलने का अनुभव है.

हर्षा: जब मैच का पोस्‍टमार्टम होगा तब गेंद की दृश्‍यता एक चीज होगी जिसके बारे में ध्‍यान देना होगा.
Loading...

मांजरेकर: मुझे ऐसा नहीं लगता. गेंद का दिखना कोई मसला नहीं है.

हर्षा: खिलाड़ियों से पूछना होगा कि वे क्‍या सोचते हैं.
मांजरेकर: तुम्‍हे पूछना होगा, हमें नहीं जिन्‍होंने क्रिकेट खेला है, यह साफ है कि यह सही से दिख रही है.

हर्षा: क्रिकेट खेलने के आधार पर सवाल पूछने की वजह कुछ सीखने से नहीं रोक सकती. ऐसा होता तो टी20 क्रिकेट हो ही नहीं पाता.
मांजरेकर: बात मानता हूं लेकिन सहमत नहीं हूं.

cricket news, cheteshwar pujara, indian cricket team, india vs bangladesh, kolkata test, eden gardens, pink ball test, क्रिकेट न्यूज, स्पोर्ट्स न्यूज, खेल, चेतेश्वर पुजारा, भारतीय क्रिकेट टीम, पिंक बॉल टेस्ट, कोलकाता टेस्ट, ईडन गार्डंस, इंडिया वस बांग्लादेश, हर्षा भोगले, संजय मांजरेकर, harsha bhogle, sanjay manjrekar
चेतेश्वर पुजारा ने कहा कि एक साल में एक पिंक बॉल टेस्ट काफी है. (फाइल फोटो)


एक साल में एक पिंक बॉल टेस्ट
यह पूछे जाने पर कि क्या टीम को अधिक पिंक बॉल टेस्ट (Pink Ball Test) मैच खेलने चाहिए, चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने कहा, 'अगर आप दर्शकों को स्टेडियम लाकर माहौल बनाना चाहते हैं तो एक साल में एक पिंक बॉल टेस्ट काफी है. मगर नियमित रूप से नहीं. मुझे उम्मीद है कि अधिकतर टेस्ट मैच लाल गेंद से ही खेले जाएंगे. हालांकि इस बारे में मैं बोलने वाला कोई नहीं होता. इस पर बीसीसीआई (BCCI) फैसला लेगी. मैं सिर्फ इतना कह रहा हूं कि मैं ऐसी कोई स्थिति नहीं देख रहा हूं कि पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में तीन मुकाबले पिंक बॉल से खेले जाएं.'

cricket news, cheteshwar pujara, indian cricket team, india vs bangladesh, kolkata test, eden gardens, pink ball test, क्रिकेट न्यूज, स्पोर्ट्स न्यूज, खेल, चेतेश्वर पुजारा, भारतीय क्रिकेट टीम, पिंक बॉल टेस्ट, कोलकाता टेस्ट, ईडन गार्डंस, इंडिया वस बांग्लादेश, हर्षा भोगले, संजय मांजरेकर, harsha bhogle, sanjay manjrekar
भारतीय तेज गेंदबाजों के खिलाफ बल्लेबाजी करते वक्त बांग्लादेश के लिटन दास और नईम इस्लाम चोटिल हो गए थे. (फाइल फोटो)


फ्लड लाइट्स में खेलने से बांग्लादेश के खिलाड़ी चोटिल हुए?
कोलकाता टेस्ट (Kolkata Test) में बांग्लादेश (Bangladesh) के दो खिलाड़ी भारतीय तेज गेंदबाजों की गेंदों पर चोटिल हो गए. उनके अलावा कई अन्य खिलाड़ियों को भी हेलमेट पर बाउंसर लगी. इस बारे में चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने कहा, 'बांग्लादेश के बल्लेबाजों को पिंक बॉल से खेलने का कोई अनुभव नहीं था. यहां तक कि प्रथम श्रेणी मैचों में भी उन्होंने पिंक बॉल के खिलाफ बल्लेबाजी नहीं की थी. इसके अलावा हमारे गेंदबाजों की गेंदों में काफी रफ्तार थी. साथ ही पिंक बॉल का स्वभाव अपेक्षाकृत तेज होता है.'

शादी पर एमएस धोनी ने किया मजेदार कमेंट, कहा-पहले सभी पुरुष शेर होते हैं, उसके बाद...

विराट कोहली-एमएस धोनी से रिश्तों पर चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद ने किया बड़ा खुलासा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 2:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com