लाइव टीवी
Elec-widget

चेतेश्‍वर पुजारा बोले- डे नाइट टेस्‍ट में शाम के बाद गुलाबी गेंद से खेलना काफी मुश्किल

भाषा
Updated: November 23, 2019, 10:50 PM IST
चेतेश्‍वर पुजारा बोले- डे नाइट टेस्‍ट में शाम के बाद गुलाबी गेंद से खेलना काफी मुश्किल
चेतेश्‍वर पुजारा ने कोलकाता टेस्‍ट में अर्धशतक लगाया था. (AP Photo)

चेतेश्‍वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) घरेलू स्तर पर गुलाबी गेंद (Pink Ball) से दोहरा शतक जड़ चुके हैं और वह डे-नाइट टेस्ट (Day Night Test) में अर्धशतक जड़ने वाले पहले भारतीय बने

  • भाषा
  • Last Updated: November 23, 2019, 10:50 PM IST
  • Share this:
कोलकाता: भारतीय बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने शनिवार को कहा कि बांग्लादेश के खिलाफ डे-नाइट टेस्‍ट (Day Night Test) मैच के दौरान दूधिया रोशनी में विशेषकर सांझ ढलते हुए गुलाबी गेंद (Pink Ball) का सामना करना सबसे ज्यादा मुश्किल काम था. पुजारा घरेलू स्तर पर गुलाबी गेंद से दोहरा शतक जड़ चुके हैं और वह डे-नाइट टेस्ट में अर्धशतक जड़ने वाले पहले भारतीय बने लेकिन वह शुक्रवार को 55 रन की पारी को बड़े स्कोर में तब्दील नहीं कर सके.

'फ्लड लाइट जलाई गई तो गेंद ज्यादा स्विंग होने लगी'
पुजारा ने दूसरे दिन का खेल समाप्त होने के बाद कहा, ‘दूधिया रोशनी में बल्लेबाजी करना मुश्किल था लेकिन जब हमने दूधिया रोशनी में खेलना शुरू कर दिया तो यह ज्यादा ही चुनौतीपूर्ण था. पहला सत्र बल्लेबाजी के लिए थोड़ा आसान था. लेकिन जब दूधिया रोशनी जलाई गई तो गेंद थोड़ी ज्यादा स्विंग करनी शुरू हो गई. यह दिन का सबसे परीक्षा भरा समय था. धूप की रोशनी में गेंद देखना आसान होता है. सांझ का पहर गेंदबाजी करने के लिए सही समय था. गेंद स्विंग कर रही थी और हमने सोचा कि हम जल्दी विकेट चटका सकते हैं. वह सही समय था और ओस भी नहीं थी. चायकाल के बाद ओस गिरनी शुरू हुई.’

cheteshwar pujara day night test, pink ball test, india bangladesh test, cheteshwar pujara news, चेतेश्‍वर पुजारा न्‍यूज, पिंक बॉल टेस्‍ट, डे नाइट टेस्‍ट, इंडिया बांग्‍लादेश मैच
मोहम्‍मद शमी और अजिंक्‍य रहाणे के साथ विराट कोहली. (AP Photo)


'ओस गिरने पर बैटिंग आसान'
पुजारा ने कहा कि गुलाबी गेंद से बल्लेबाजी करने का आदर्श समय पारी के शुरू में था और अंतिम सत्र से अंत में था. उन्होंने कहा, ‘यह दोनों का मिश्रण था. एक बार ओस गिरने लगी तो यह फिर आसान हो गया. बल्लेबाजी करने के लिए शुरू में कुछ घंटे और शायद अंतिम घंटे आसान थे.’

'एसजी गेंद को कूकाबूरा से ज्‍यादा स्विंग'  
Loading...

कूकाबूरा (दलीप ट्राफी) और एसजी गुलाबी गेंद दोनों से सामना करने वाले पुजारा ने कहा, ‘गेंद तेजी से बल्ले पर आ रही है जैसे कूकाबूरा की गेंद आती है. लेकिन एसजी गेंद ज्यादा स्विंग होती है. और कूकाबूरा से स्पिनरों को कोई मदद नहीं मिलती लेकिन यहां देखा कि अश्विन और ताईजुल गेंद को स्पिन कर पा रहे थे. स्पिनरों को थोड़ी मदद मिल रही थी लेकिन यह इतनी नहीं थी जितनी लाल गेंद से मिलती थी.’

17 साल के इस बल्लेबाज ने मचाया कोहराम, 10 पारियों में बना डाले 785 रन

क्‍या ऋषभ पंत की टीम इंडिया से होगी छुट्टी, यह विकेटकीपर ले सकता है जगह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 23, 2019, 10:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...