• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • BCCI अध्यक्ष बनते ही ये बड़ा नियम खत्म कर सकते हैं सौरव गांगुली, एजेंडे में पैसा भी

BCCI अध्यक्ष बनते ही ये बड़ा नियम खत्म कर सकते हैं सौरव गांगुली, एजेंडे में पैसा भी

सौरव गांगुली ने कहा है कि पिछले कुछ समय में बीसीसीआई की छवि काफी खराब हुई है. (पीटीआई)

सौरव गांगुली ने कहा है कि पिछले कुछ समय में बीसीसीआई की छवि काफी खराब हुई है. (पीटीआई)

बीसीसीआई अध्यक्ष (BCCI President) के तौर पर भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के नाम का ऐलान 23 अक्टूबर को होगा.

  • Share this:
    मुंबई. भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के सबसे सफल कप्तानों में से एक रहे सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) 23 अक्टूबर को विधिवत बीसीसीआई के नए अध्यक्ष (BCCI President) बन जाएंगे. साैरव गांगुली को हमेशा से भारतीय क्रिकेट के संकटमोचक के तौर पर जाना जाता रहा है. जब वे टीम के कप्तान बने तब भारतीय टीम अनुभवी खिलाड़ियों के संन्यास लेने के बाद बदलाव के दौर से गुजर रही थी. और अब जबकि वे बीसीसीआई के अध्यक्ष बन रहे हैं तो भी बोर्ड की छवि बहुत अच्छी नहीं है. ऐसे में गांगुली से बेहद उम्मीदें हैं कि वे बीसीसीआई की मजबूत छवि को फिर से पेश करेंगे और कई कड़े और अहम कदम उठाएंगे. सौरव गांगुली ने सोमवार को दिए बयान के जरिये इसके संकेत दे भी दिए हैं.

    सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने कहा, ‘हितों का टकराव भारतीय क्रिकेट (Indian Cricket) के सामने सबसे बड़े मुद्दों में से एक है क्योंकि इसके विवादास्पद नियम सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटरों को इस खेल के प्रशासन में आने से रोक रहे हैं. गांगुली खुद भी हितों के टकराव के मुद्दे का सामना कर चुके हैं. उन पर बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) और आईपीएल फ्रेंचाइजी दिल्ली कैपिटल्स के मेंटोर रहने के कारण दोहरी भूमिका निभाने का आरोप लगा था. वह पहले ही दिल्ली कैपिटल्स से अलग हो चुके हैं जबकि 23 अक्टूबर को बीसीसीआई अध्यक्ष (BCCI Prsident) का पदभार संभालने के बाद वह सीएबी के अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा दे देंगे. ऐसे में इस बात की पूरी संभावना है कि गांगुली अध्यक्ष बनने के बाद इस नियम को लेकर कोई बड़ा फैसला लें.

    brijesh patel, bcci president, bcci election, sourav ganguly, बृजेश पटेल, बीसीसीआई अध्यक्ष, सौरव गांगुली, बीसीसीआई, भारतीय क्रिकेट टीम, बीसीसीआई चुनाव
    सौरव गांगुली ने अपने करियर में 311 वनडे मैच खेलकर 11363 रन बनाए हैं. (फाइल फोटो)


    राजीव शुक्ला ने किया ऐलान
    बीसीसीआई (BCCI) के पूर्व अध्यक्ष  एन. श्रीनिवासन, राजीव शुक्ला और निरंजन शाह जैसे दिग्गज क्रिकेट प्रशासकों के साथ नामांकन दाखिल करने के बाद गांगुली (Sourav Ganguly) ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘हितों के टकराव का मुद्दा बड़ा है और मुझे यह नहीं पता है कि मैं सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटरों की सेवाएं ले पाऊंगा या नहीं क्योंकि उनके पास दूसरे विकल्प भी मौजूद होंगे.’ गांगुली ने साफ किया कि ‘एक व्यक्ति एक पद’ का मौजूदा नियम क्रिकेट के पूर्व दिग्गजों को प्रशासन में आने से रोकेगा क्योंकि उन्हें अपनी आजीविका कमाने की भी जरूरत होगी. यहीं राजीव शुक्ला ने कहा कि हमने सौरव गांगुली को बीसीसीआई अध्यक्ष चुना है और इसका ऐलान 23 अक्टूबर को किया जाएगा.

    पूर्व भारतीय कप्तान क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) का हिस्सा थे जिसके खिलाफ मध्यप्रदेश क्रिकेट संघ के सदस्य संजीव गुप्ता ने आचरण अधिकारी डीके जैन को कई शिकायतें कीं. इन शिकायतों के बाद सीएसी को भंग कर दिया गया था. गांगुली ने कहा कि इस उपबंध (हितों के टकराव से जुड़ा नियम) से भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है. अगर आप विभिन्न नियुक्तियों को देखें तो सब के साथ कुछ न कुछ मामला है. इसमें एनसीए या सीएसी या बल्लेबाजी, क्षेत्ररक्षण कोचों की नियुक्ति पर भी सवाल उठे. कमेंटेटरों और आईपीएल को भी लेकर मुद्दे रहे हैं. यह भारतीय क्रिकेट के लिए गंभीर मुद्दा है जिसे जल्द ही हल किए जाने की जरूरत है.

    brijesh patel, bcci president, bcci election, sourav ganguly, बृजेश पटेल, बीसीसीआई अध्यक्ष, सौरव गांगुली, बीसीसीआई, भारतीय क्रिकेट टीम, बीसीसीआई चुनाव
    सौरव गांगुली ने बीसीसीआई अध्यक्ष बनने के बाद कई बड़े कदम उठाने के संकेत दिए हैं. (फाइल फोटो)


    उतना पैसा नहीं मिला जितना बीसीसीआई को मिलना चाहिए था
    मुंबई में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि फिलहाल मेरी प्राथमिकता घरेलू क्रिकेट और हितों के टकराव का मुद्दा है. खासकर रणजी क्रिकेट की ओर मैं अधिक ध्यान दूंगा. इसके अलावा उनके आर्थिक हितों को देखने का भी लक्ष्य है. उन्होंने कहा, 'मेरा एजेंडा आर्थिक मुद्दे पर भी आधारित होगा क्योंकि पिछले तीन-चार साल में आईसीसी से बीसीसीआई को उतना फंड नहीं मिला है, जितना कि मिलना चाहिए. भारत आईसीसी के कुल राजस्व का 70 से 80 प्रतिशत हिस्सा देता है. ऐसे में ये मुद्दा काफी अहम है.'

     

    इस तरह की खबरें भी हैं कि भारत, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच 570 मिलियन डॉलर वितरित होने थे. मगर मौजूदा स्थिति में बीसीसीआई को अगले आठ साल के लिए 293 मिलियन डॉलर ही मिलेंगे. इंग्लैंड को 143 मिलियन डॉलर, जिम्बाब्वे क्रिकेट को 94 मिलियन डॉलर और अन्य देशों को कुल 132 मिलियन डॉलर की रकम मिलेगी.

    जब सौरव गांगुली ने गुस्‍से में दिनेश कार्तिक को कहा- कौन है रे ये पगला, कहां से पकड़ लाते हैं

    सौरव गांगुली बीसीसीआई के नए अध्‍यक्ष, दोहराया 65 साल पुराना रिकॉर्ड

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज