• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • कोरोना का असर: वेस्टइंडीज बोर्ड हुआ पैसों का मोहताज, उधार लेकर खिलाड़ियों को दिया था वेतन

कोरोना का असर: वेस्टइंडीज बोर्ड हुआ पैसों का मोहताज, उधार लेकर खिलाड़ियों को दिया था वेतन

पिछले साल कोरोना महामारी की शुरुआत के बाद वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम श्रीलंका के खिलाफ पहली घरेलू सीरीज खेल रही है. (West Indies cricket/Twitter)

पिछले साल कोरोना महामारी की शुरुआत के बाद वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम श्रीलंका के खिलाफ पहली घरेलू सीरीज खेल रही है. (West Indies cricket/Twitter)

क्रिकेट वेस्ट इंडीज (Cricket West Indies) के अध्यक्ष रिकी स्केरिट (Ricky Skerritt) ने खुलासा किया कि कोरोना महामारी की वजह से उन्हें खिलाड़ियों और स्टाफ को वेतन देने के लिए उधार लेना पड़ा था.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोविड-19 महामारी ने वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड (Cricket West Indies) की माली हालत इतनी खराब कर दी थी कि वो पाई-पाई को मोहताज हो गया था और खिलाड़ियों को वेतन देने के लिए बोर्ड को उधार लेना पड़ा. यह खुलासा क्रिकेट वेस्टइंडीज के अध्यक्ष रिकी स्केरिट (Ricky Skerritt) ने किया. हालांकि, उन्होंने ये दावा किया कि उनके कार्यकाल के दौरान बोर्ड का कर्जा घटकर एक तिहाई हो गया. रिकी स्केरिट ने 2019 में वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड की कमान संभाली थी. उनके दो साल का कार्यकाल पूरा हो चुका है और वे अब फिर से चुनाव मैदान में उतर सकते हैं. बोर्ड की आर्थिक स्थिति के बारे में बात करते हुए स्केरिट ने कहा कि जब से उन्होंने जिम्मेदारी संभाली, तब से स्थिति काफी ठीक हुई है.

    स्केरिट ने ईएसपीएन क्रिकइंफो से बातचीत में कहा कि हमारी सबसे बड़ी समस्या थे थी कि हमने पैसे मिलने से पहले ही भविष्य से जुड़े खर्चों के बारे में बात कर ली थी. हम पर करीब दो करोड़ डॉलर का कर्जा था और इसे चुकाने के लिए भी हमें बार-बार उधार लेना पड़ा रहा था. हमारे पास फंड के नाम पर कुछ भी नहीं था. कुछ वक्त के लिए तो इस तरह की रणनीति या हालात में काम किया जा सकता है. क्योंकि तब महामारी की वजह से पैसे का इंतजाम मुश्किल था. वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष ने आगे कहा कि बोर्ड के पास स्टाफ को वेतन देने के लिए पैसे नहीं थे. वो भी तब महामारी के दौरान सभी कर्मचारी आधे वेतन पर काम कर हरहे थे.

    खर्चे कम करने से कर्ज चुकाने में मदद मिली: रिकी स्केरिट
    उन्होंने आगे कहा कि हमें अपने खर्चे कम करने पड़े. फायदे-नुकसान के बारे में ज्यादा ध्यान देने की बजाए हमने नकदी पर फोकस किया. सभी गैरजरूरी काम बंद कर दिए. इसका असर भी दिखा और दो साल के भीतर ही हमारा कर्ज एक तिहाई रह गया. अपने आपदा में ही अवसर देखने को कोशिश की और समस्याओं के साथ अपनी जिम्मेदारी पूरी की. हम पहले ऐसा नहीं कर पा रहे थे. वेतन देने के लिए उधार ले रहे थे. मेरे कार्यकाल के पहले साल हमने ऐसा किया, जो पिछले साल गर्मियों तक जारी रहा.

    यह भी पढ़ें: तिषारा परेरा ने 6 गेंद पर 6 छक्के लगाए, ऐसा करने वाले श्रीलंका के पहले क्रिकेटर

    यह भी पढ़ें: वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल भी कोरोना से प्रभावित, गेंदबाजों को होगा बड़ा नुकसान

    कोरोना के बाद वेस्टइंडीज श्रीलंका के खिलाफ पहली घरेलू सीरीज खेल रहा
    बता दें कि पिछले साल कोरोना के कारण मार्च से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर रोक लग गई थी. उसी साल जुलाई में वेस्टइंडीज टीम के इंग्लैंड दौरे से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की शुरुआत हुई. इसके बाद आईपीएल हुआ और फिर द्विपक्षीय सीरीज की शुरुआत हुई. फिलहाल, कैरेबियाई टीम श्रीलंका के साथ घरेलू सीरीज खेल रही है. पिछले साल कोरोना महामारी की शुरुआत के बाद से वेस्टइंडीज की ये पहली घरेलू सीरीज है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज