चेतेश्वर पुजारा को था आईपीएल से टेस्ट तकनीक प्रभावित होने का डर, कहा-अब मैं इसे भूल चुका

चेतेश्वर पुजारा को इस साल आईपीएल नीलामी में चेन्नई सुपर किंग्स ने 50 लाख की बेस प्राइस में खरीदा था. (CSK Twitter)

चेतेश्वर पुजारा को इस साल आईपीएल नीलामी में चेन्नई सुपर किंग्स ने 50 लाख की बेस प्राइस में खरीदा था. (CSK Twitter)

भारतीय टेस्ट टीम के अहम बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) की 7 साल बाद आईपीएल(IPL 2021) में वापसी होगी. उन्होंने कहा कि पहले मैं ये सोचता था कि ज्यादा टी20 खेलने से मेरे टेस्ट क्रिकेट पर बुरा असर पड़ेगा. लेकिन, अब पिछली बातों को भूल चुका हूं और ये मानता हूं कि मैं किसी भी फॉर्मेट में क्यों न खेलूं, लेकिन मेरी स्वाभाविक खेल कभी नहीं बदलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 4, 2021, 10:12 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय टेस्ट टीम के अहम बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) की 7 साल बाद आईपीएल (IPL 2021) में वापसी होगी. उन्हें इस साल फरवरी में हुई नीलामी में चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai Super Kings) ने 50 लाख रुपए की बेस प्राइस में खरीदा था. जब सीएसके ने नीलामी के दौरान पुजारा पर बोली लगाई थी, तो पूरा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा था. पुजारा का आईपीएल में शामिल होना असाधारण लग सकता है, लेकिन वो इस मंच के लिए नए नहीं हैं. क्योंकि वो 2010-2014 के बीच तीन अलग-अलग आईपीएल फ्रेंचाइजी के साथ लीग का हिस्सा रह चुके हैं. वो टी20 में अपनी घरेलू टीम सौराष्ट्र के लिए 2019 में घरेलू टी20 सैयद मुश्ताक अली टूर्नामेंट में शतक लगा चुके हैं. ऐसे में वो इस साल आईपीएल खेलने को लेकर नर्वस नहीं हैं. उन्हें विश्वास है कि वो इस बार लीग में अच्छा प्रदर्शन करेंगे. आईपीएल नीलामी में चुने जाना, धोनी की कप्तानी में खेलने से लेकर अपनी बल्लेबाजी को लेकर पुजारा ने ईएसपीएन क्रिकइंफो को दिए इंटरव्यू में खुलकर बात की.

पुजारा ने इस इंटरव्यू में अपनी बल्लेबाजी को लेकर भी बात की. वो पहले इस बात को लेकर चिंता जता चुके थे कि अगर टी20 के लिए उन्होंने अपनी बल्लेबाजी में बदलाव किया तो उसका टेस्ट में उन्हें नुकसान हो सकता है. हालांकि, अब पुजारा की इसे लेकर राय बदल चुकी है और वो इन बातों को पीछे छोड़ चुके हैं. उन्होंने इस मामले पर कहा कि बिल्कुल अब मैं इस बारे में नहीं सोचता हूं. इससे पहले, जब मैं टी20 फॉर्मेट खेलता था, तो इस बात की चिंता करता था कि कहीं इससे टेस्ट क्रिकेट में मेरा खेल खराब न हो जाए?. मुझे तब लगता था कि आईपीएल खत्म होने के बाद मेरी बल्लेबाजी में तकनीक खामी आ जाएगी. लेकिन समय बीतने के साथ मैंने ये समझा कि मेरा नेचुरल गेम, मेरी ताकत कभी नहीं जाएगी. फिर चाहें मैं किसी भी फॉर्मट में क्यों न खेलूं.

 मैं भी आईपीएल का हिस्सा बनना चाहता था: पुजारा
पुजारा को आज भी अपने नीलामी में चुने जाने का लम्हा याद है. उन्होंने ईएसपीएन क्रिकइंफो को दिए इंटरव्यू में इस अनुभव को साझा किया. उन्होंने बताया कि मैं आईपीएल में वापसी को लेकर बहुत खुश हूं. भारतीय खिलाड़ी के नाते आप इसे मिस नहीं करना चाहेंगे. वैसे, मैं काउंटी क्रिकेट खेलता रहता हूं, लेकिन पिछले साल कोरोना के कारण मैं ऐसा नहीं कर पाया. जब आपको क्रिकेट खेलना पसंद होता है, तो आप किसी भी सूरत में खेलना चाहते हैं और फिर अगर दुनिया की बेस्ट क्रिकेट लीग में खेलने की बात हो, तो हर क्रिकेटर इसका हिस्सा बनना चाहता है. मैं भी इसमें शामिल हूं.

यह भी पढ़ें:

TOP 10 Sports News: आईपीएल की तीन टीमें कोरोना से प्रभावित, टी20 लीग के वेन्यू में हो सकता है बदलाव

IPL 2021: बतौर कप्तान केएल राहुल का बल्लेबाजी औसत सबसे अच्छा, रोहित का सबसे खराब



'टेस्ट क्रिकेट से मेरे टी20 खेल के बारे में अंदाजा लगाना गलत'

पुजारा 2010 से 2014 के बीच रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, किंग्स इलेवन पंजाब(अब पंजाब किंग्स), और कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए खेल चुके हैं. इसके बाद भी उन्हें सात साल आईपीएल से दूर रहना पड़ा और जनता के मन में ये धारणा बनी कि वो टी20 प्लेयर नहीं हैं. इससे जुड़े सवाल पर पुजारा ने कहा कि इसमें मेरी कोई गलती नहीं है. मैं महसूस करता हूं कि आपको मौकों के लिए हमेशा खुद को तैयार रखना चाहिए. फैंस को नहीं पता कि मैं इस फॉर्मेट का अच्छा खिलाड़ी हूं या बुरा. क्योंकि उन्होंने मुझे पिछले कुछ सालों में टी20 क्रिकेट खेलते नहीं देखा है. उदाहरण के लिए अगर कोई खिलाड़ी 4-5 साल तक टेस्ट क्रिकेट नहीं खेलता है तो आप सिर्फ इस आधार पर ये नहीं कह सकते हैं कि वो अच्छा या बुरा है. क्योंकि उसने टेस्ट नहीं खेला है. इसलिए जिस तरह से मैं टेस्ट क्रिकेट में खेल रहा हूं, उसे देखकर आप इस बारे में निर्णय नहीं ले सकते कि मैं टी20 में अच्छा हूं या बुरा.

पुजारा सीएसके से पहले तीन और फ्रेंचाइजी के लिए खेल चुके हैं

पुजारा ने 2010 में केकेआर की ओर से खेलते हुए आईपीएल की 6 पारी में तीस की औसत से 122 रन बनाए थे. वहीं, 2011 से 2013 के आरसीबी के लिए उन्होंने 10 मैच में 143 रन बनाए थे. 2014 में पंजाब के लिए इस बल्लेबाज ने 6 मैच में 100 के स्ट्राइक रेट से 125 रन बनाए थे. पुजारा आईपीएल के इस सीजन में इससे बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज