डेविड वॉर्नर के मैनेजर ने कहा- बॉल टेंपरिंग मामले की जांच में हुआ मजाक, सच्चाई मुझे पता

डेविड वाॅर्नर पर एक साल का बैन लगा था. (David Warner/Instagram)

डेविड वाॅर्नर पर एक साल का बैन लगा था. (David Warner/Instagram)

बॉल टेंपरिंग (ball tampering) का विवाद एक बार फिर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (CA) के लिए परेशानी खड़ा कर रहा है. माइकल क्लार्क के बाद डेविड वॉर्नर (David Warner) के मैनेजर ने मामले की जांच पर सवाल उठाए हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. बॉल टेंपरिंग मामले को लेकर डेविड वॉर्नर के मैनेजर जेम्स एर्स्किन ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (CA) पर निशाना साधा है. जेम्स एर्स्किन ने घटना की जांच को मजाक करार दिया. उन्होंने दावा किया कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने टेस्ट में उतरे सभी खिलाड़ियों का इंटरव्यू तक नहीं लिया. ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज कैमरन बैनक्रॉफ्ट ने हाल ही में एक इंटरव्यू में कहा कि इस मामले में बारे में गेंदबाजों को भी पता था. अब सीए इस मामले की फिर से जांच कर रहा है.

जेम्स एर्स्किन ने सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘रिपोर्ट को तैयार कर ली गई, लेकिन सभी खिलाड़ियों का इंटरव्यू नहीं लिया गया. पूरे मामले को मजाक बना दिया गया. लेकिन जो भी सच्चाई है, वो सामने आएगी और मुझे सच पता है. लेकिन इससे मकसद नहीं हल होगा, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के लोगों ने टीम को कुछ समय के लिए नापंसद करना शुरू कर दिया था.'

स्मिथ को कप्तानी छोड़नी पड़ी थी

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2018 में न्यूलैंड्स टेस्ट के दौरान कैमरन बैनक्रॉफ्ट को गेंद टेंपरिंग करते हुए कैमरे में कैद किया गया था. उस घटना ने ऑस्ट्रेलिया और वर्ल्ड क्रिकेट को हिला कर रख दिया था. घटना के बाद कैमरन बैनक्रॉफ्ट, डेविड वॉर्नर और कप्तान स्टीव स्मिथ पर बैन लगाया गया था. स्मिथ से कप्तानी भी छीन ली गई थी. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर एडम गिलक्रिस्ट और माइकल क्लार्क ने भी इस मामले की जांच पर सवाल उठाए हैं.
यह भी पढ़ें: महिला टीम को दो और कोच मिले, शिव सुंदर दास बैटिंग तो अभय शर्मा फील्डिंग कोच बने

कानूनी कार्रवाई की जानी थी

डेविड वॉर्नर के मैनेजर ने कहा कि, ‘डेविड वॉर्नर, स्टीव स्मिथ और बैनक्रॉफ्ट के साथ गलत तरह से बर्ताव किया गया. मामले का सच यह है कि उन्होंने गलत किया, लेकिन जो उन्हें सजा दी गई वह उससे भी ज्यादा गलत थी. मुझे लगता है कि अगर उनमें से एक या दो खिलाड़ियों ने कानूनी कार्रवाई की होती, तो इस मामले का पूरा सच सामने आ सकता था.' अब देखना है कि सीए इस मामले की जांच में किन-किन खिलाड़ियाें से पूछताछ करता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज