लाइव टीवी
Elec-widget

गुलाबी गेंद से नहीं मिली इशांत शर्मा को स्विंग तो इस तरकीब से हासिल किए विकेट

News18Hindi
Updated: November 23, 2019, 8:04 AM IST
गुलाबी गेंद से नहीं मिली इशांत शर्मा को स्विंग तो इस तरकीब से हासिल किए विकेट
इशांत शर्मा ने 12 साल बाद पांच विकेट हासिल किेए

भारत (India) ने कोलकाता (Kolkata) टेस्ट के पहले दिन बांग्लादेश (Bangladesh) को 106 पर ऑलआउट कर दिया था

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2019, 8:04 AM IST
  • Share this:
कोलकाता. इशांत शर्मा (Ishant Sharma) ने शुक्रवार को कहा कि भारतीय तेज गेंदबाजों को बांग्लादेश (Bangladesh) के खिलाफ दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच में गुलाबी गेंद से शुरू में किसी तरह की स्विंग नहीं मिली जिसके बाद उन्होंने सही लेंथ की पहचान करनी पड़ी.

इशांत (Ishant Sharma) ने अपने करियर में दसवीं बार पारी में पांच विकेट लिये जिससे भारत ने बांग्लादेश (Bangladesh) को पहली पारी में 106 रन पर समेट दिया.

12 साल बाद इशांत ने लिए पारी में पांच विकेट
इशांत ने दिन का खेल समाप्त होने के बाद कहा, ‘लाल गेंद की तुलना में यह काफी भिन्न है. शुरू में हमने सही लेंथ से गेंदबाजी की लेकिन हमें किसी तरह की स्विंग नहीं मिली. इसके बाद हमें अहसास हुआ कि किस लेंथ पर हमें गेंद करनी चाहिए. हमने आपस में बात की और गुलाबी गेंद के लिये सही लेंथ हासिल की. ’ पिछले एक दशक से भी अधिक समय से भारतीय टीम का हिस्सा रहे इशांत को घरेलू सरजमीं पर पारी में पांच विकेट लेने के लिये 12 साल का इंतजार करना पड़ा.

ishant sharma 5 wicket, ishant sharma kolkata test, india bangladesh test, pink ball test, day night test, ishant sharma bowling, इशांत शर्मा 5 विकेट, इशांत शर्मा कोलकाता टेस्‍ट, इंडिया बांग्‍लादेश टेस्‍ट
इशांत शर्मा कोलकाता टेस्ट में 5 विकेट लेने का जश्‍न मनाते हुए.


इशांत ने कहा, ‘मैं अभी अपनी क्रिकेट का लुत्फ उठा रहा हूं. शुरू में मैं अपने प्रदर्शन, विकेट लेने और बल्लेबाज को परेशानी में डालने को लेकर काफी दबाव में रहता था. अब मैं ज्यादा नहीं सोचता. निश्चित तौर पर अब मेरे पास अनुभव है और मैं परिस्थितियों के अनुसार अपनी लेंथ को लेकर जल्द से जल्द सामंजस्य बिठा लेता हूं.’

छोटी बातों पर ध्यान नहीं देते इशांत शर्मा
Loading...

यह 31 वर्षीय गेंदबाज 2016 से वनडे टीम का हिस्सा नहीं है जबकि उन्होंने अपना आखिरी टी20 अंतरराष्ट्रीय 2013 में खेला था. इशांत ने कहा, ‘हां इससे कभी कभी बुरा लगता है लेकिन मैं जिंदगी के उस मोड़ पर पहुंच गया हूं जहां मैंने इन चीजों को लेकर चिंता करनी छोड़ दी है. मैं अब 31 साल का हूं और अगर मैं किसी प्रारूप में खेलने को लेकर चिंता करता हूं तो फिर मैं अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाऊंगा.’

उन्होंने कहा, ‘मैं केवल खेलना चाहता हूं, चाहे वह रणजी ट्रॉफी हो या भारत की तरफ से. अगर आप खेल का लुत्फ उठाते हो तो आप अच्छा प्रदर्शन भी करोगे. अगर आप छोटी छोटी बातों पर ध्यान देते हो तो कभी सुधार नहीं कर सकते हो. ’

फवाद ने रचा इतिहास, दो दशक बाद भारत ने घुड़सवारी में हासिल किया ओलिंपिक कोटा

तमिलनाडु के स्पिनरों के आगे निकली मुंबई के बल्‍लेबाजों की हवा, मिली करारी हार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 23, 2019, 8:04 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...