लाइव टीवी
Elec-widget

बांग्लादेश के खिलाफ 6 विकेट लेने से पहले दीपक चाहर ने फेंकी 1 लाख गेंद!

News18Hindi
Updated: November 12, 2019, 8:24 AM IST
बांग्लादेश के खिलाफ 6 विकेट लेने से पहले दीपक चाहर ने फेंकी 1 लाख गेंद!
दीपक चाहर टी20 फॉर्मेट में हैट्रिक लेने वाले पहले भारतीय पुरुष गेंदबाज हैं

बांग्लादेश के खिलाफ दीपक चाहर (Deepak Chahar) ने सात रन देकर हैट्रिक सहित कुल छह विकेट लिए थे. उनका यह आंकड़ा एक विश्व रिकॉर्ड भी बन गया

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2019, 8:24 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली.  3.2 ओवर, 7 रन और छह विकेट...ये एक ऐसा आंकड़ा है, जिस पर आसानी से विश्वास करना मुश्किल है, लेकिन भारत के तेज गेंदबाज दीपक चाहर (Deepak Chahar) ने बांग्लादेश के खिलाफ ऐसा प्रदर्शन करके न सिर्फ टीम इंडिया को जीत दिलाई, बल्कि वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बना दिया. उन्होंने इस मैच में हैट्रिक भी ली और वह टी20 क्रिकेट में हैट्रिक लेने वाले पहले भारतीय पुरुष भी बन गए है. इस अविश्वसनीय प्रदर्शन के कारण इन दिनों दीपक चाहर हर जगह छाए हुए हैं, लेकिन उनका यह वर्ल्ड क्लास प्रदर्शन एकदम से निकलकर सामने नहीं आया, बल्कि इस प्रदर्शन से पहले उन्होंने नेट पर कम से कम एक लाख गेंद फेंकने का अभ्यास किया था, तब जाकर वह नागपुर में सबको अपना दम दिखा पाए.


दीपक चाहर के पिता लोकेंद्रसिंह चाहर ने पीटीआई से बात करते हुए बताया कि वह इस दिन का लंबे समय से इंतजार कर रहे थे. वायुसेना के सेवानिवृत्त कर्मचारी लोकेंद्रसिंह ने कहा कि उनके बेटे दीपक ने आखिरकार ‘जादुई प्रदर्शन’ किया, जिसकी शुरुआत आगरा में एक टर्फ विकेट पर हुई थी.



धीरे- धीरे साकार हो रहा है सपना

पिछले साल जुलाई में इंग्लैंड के खिलाफ टी20 क्रिकेट से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखने वाले दीपक ने अब तक 7 इंटरनेशनल टी20 और एक वनडे मैच में मैदान पर उतरे. उनके पिता ने कहा कि इस तरह के प्रदर्शन से पहले दीपक ने नेट पर कम से कम एक लाख गेंदें फेंकी होंगी. अब मुझे महसूस हो रहा है कि हम दोनों ने जिस सपने को संजोया थो वह धीरे- धीरे साकार हो रहा है.


Loading...



deepak chahar, india vs bangladesh, virat kohli, rohit sharma, rishabh pant, cricket, sports news
बहन मालती चाहर और कजिन राहुल चाहर के साथ दीपक चाहर (फाइल फोटो)


दीपक ने सबसे पहले 18 साल की उम्र में उस समय सुर्खियां बटोरी थी जब उन्होंने अपनी बेहतरीन स्विंग गेंदबाजी से हैदराबाद के बल्लेबाजी क्रम को ध्वस्त कर दिया था. उन्होंने रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) में पदार्पण करते हुए 10 रन देकर आठ विकेट चटकाए थे, जिससे हैदराबाद की टीम 21 रन पर ढ़ेर हो गई. उनका यह प्रदर्शन यूट्यूब के घरेलू क्रिकेट पर सबसे ज्यादा देखे जाने वाले वीडियो में शामिल है.



अहम समय चोटिल रहे दीपक



लोकेंद्रसिंह ने कहा कि अपने करियर के अहम चरणों में उसे चोटें लगी. चोट का समय भी बेहद महत्वपूर्ण होता है.एमएस धोनी (MS Dhoni) ने चेन्नई सुपरकिंग्स की ओर से पिछले दो सत्र में चाहर का बेहतरीन इस्तेमाल किया जिससे यह तेज गेंदबाज राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने के दावेदारों में शामिल हो गया. आईपीएल 2018 में 10 विकेट चटकाने के बाद चाहर ने इस साल 22 विकेट चटकाए और वह इंग्लैंड में भारत की विश्व कप टीम में स्टैंडबाई खिलाड़ियों में शामिल थे.

पिता भी बनना चाहते ‌थे क्रिकेटर
आगरा का रहने वाला चाहर परिवार शुरुआत में राजस्थान के गंगानगर में रहता था जहां लोकेंद्रसिंह भारतीय वायुसेना के लिए काम करते थे. उन्होंन कहा कि जब मैंने भारतीय वायुसेना में अपनी नौकरी छोड़ी तो मुझे पता था कि मैं क्या कर रहा था. जब मैंने अपने 12 साल के बेटे को खेलते हुए देखा तो मुझे पता था कि उसमें क्षमता है. लोकेंद्र सिंह ने कहा कि मैं क्रिकेटर बनना चाहता था लेकिन मेरे पिता ने स्वीकृति नहीं दी. इसलिए जब बात मेरे बेटे की आई तो मैं चाहता था कि वह अपने सपने को साकार करे जो मेरा सपना भी था. मेरे पास कोचिंग की कोई औपचारिक डिग्री नहीं थी लेकिन मैंने दीपक का मार्गदर्शन करना सीखा.

deepak chahar, india vs bangladesh, virat kohli, rohit sharma, rishabh pant, cricket, sports news
बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे मैच के दौरान दीपक चाहर से बात करते रोहित शर्मा


सेविंग के पैसों से बनवाया टर्फ
दीपक के पिता ने अपने बचाए हुए पैसों से अपने गृहनगर आगरा में एक टर्फ और एक कंक्रीट की पिच बनवाई जहां उनका बेटा ट्रेनिंग कर सके. दीपक के पिता ने बताया कि कड़ी ट्रेनिंग के कारण उनका बेटा 8वीं के बाद नियमित स्कूल नहीं जा पाया. तब दिन के 24 घंटे भी कम लगते थे. ट्रेनिंग, जिम, आराम और फिर उबरना. हालांकि किसी तरह ग्रेजुएन तक पढ़ाई पूरी की.




डेल स्टेन और मैलकम मार्शल के वीडियो देखकर बेटे को देते ‌थे ट्रेनिंग
औपचारिक डिग्री नहीं होने के बावजूद वह कैसे कोचिंग देते थे, इस बारे में पूछे जाने पर लोकेंद्रसिंह ने कहा कि मेरे पसंदीदा गेंदबाज मैलकम मार्शल और डेल स्टेन (Dale Steyn) हैं. उनके वीडियो देखते थे, आउट स्विंग करते हुए उनकी कलाई की स्थिति, कमेंटेटरों को सुनते थे और इससे जो सीखते थे, उसे लेकर दीपक के साथ काम करते थे.




News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 8:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...