WTC फाइनल से पहले न्यूजीलैंड को मिला धाकड़ बल्लेबाज, टीम इंडिया सावधान!

WTC Final: डेवॉन कॉनवे हैं टीम इंडिया के लिए बड़ा खतरा (PC-AFP)

न्यूजीलैंड की टीम वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप से पहले इंग्लैंड के खिलाफ दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेलेगी, जिसमें डेवॉन कॉनवे (Devon Conway) को भी मौका मिल सकता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत और न्यूजीलैंड के बीच 18 जून से वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल होना है. इस मुकाबले से पहले न्यूजीलैंड की टीम इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलने वाली है. न्यूजीलैंड के लिए अच्छी बात ये है कि इस टेस्ट सीरीज और WTC के फाइनल से पहले उसे एक ऐसा टैलेंटेड बल्लेबाज मिला है जो कि इंग्लैंड और भारत के लिए मुसीबत का सबब बन सकता है. बात हो रही है बाएं हाथ के बल्लेबाज डेवॉन कॉनवे की जिन्होंने अपनी टीम के प्रैक्टिस मैच में शानदार अर्धशतक ठोका है.

    न्‍यूजीलैंड के इंट्रा स्‍क्‍वॉड अभ्‍यास मैच में डेवॉन कॉनवे, कॉलिन डी ग्रैंडहोम और ब्रेसवेल ने नाबाद अर्धशतक ठोके. इस पारी के साथ ही कॉनवे ने इंग्‍लैंड और वर्ल्‍ड टेस्‍ट चैंपियन‍शिप फाइनल में खेलने की अपनी मजबूत दावेदारी पेश कर दी है. कॉनवे की खास बात ये है कि टेस्ट फॉर्मेट से पहले वनडे और टी20 में भी अपना दम दिखा चुके हैं. डेवॉन कॉनवे को पहली बार टेस्ट टीम में चुना गया है और ऐसा माना जा रहा है कि इंग्लैंड टेस्ट सीरीज में उन्हें प्लेइंग इलेवन में जगह मिल सकती है.

    कॉनवे में है दम
    डेवॉन कॉनवे की बात करें तो उनके अंदर एक बेहतरीन टेस्ट क्रिकेटर बनने का दम है. कॉनवे को 108 फर्स्ट क्लास मैचों का अनुभव है जिसमें वो 47.21 की औसत से 7130 रन बना चुके हैं. इस दौरान उनके बल्ले से 18 शतक निकले हैं. कॉनवे ने न्यूजीलैंड के लिए 14 टी20 मैचों में 59.12 की औसत से 473 रन बनाए हैं. वहीं वनडे में उन्होंने 75 की औसत से 225 रन ठोके हैं, जिसमें एक शतक और एक अर्धशतक भी शामिल है. कॉनवे अभी इंटरनेशनल क्रिकेट में नए जरूर हैं लेकिन उनकी बल्लेबाजी की शैली एक मंझे हुए बल्लेबाज की तरह है.

    WTC Final: विराट कोहली को कपिल देव की सलाह, इंग्लैंड दौरे पर अति-आक्रामकता से बचें

    ओपनिंग को भी तैयार कॉनवे
    बता दें डेवॉन कॉनवे आमतौर पर नंबर 3 पर बल्लेबाजी करते हैं लेकिन इंग्लैंड सीरीज में उन्हें बतौर ओपनर मौका मिल सकता है. कॉनवे इस चुनौती के लिए तैयार भी हैं. अभ्यास मैच के बाद कॉनवे ने कहा कि नंबर 3 का बल्लेबाज कई बार पहले ओवर में ही बल्लेबाजी करने क्रीज पर आ जाता है. ऐसे में उनके लिए ओपनिंग बड़ा मुद्दा नहीं है.