Happy B'Day Dinesh Karthik: आखिरी गेंद पर छक्का जड़ जिताई निदहास ट्रॉफी, रोहित शर्मा ने दिलाया था गुस्सा

दिनेश कार्तिक आज अपना 36वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे हैं (Dinesh Karthik/Instagram)

दिनेश कार्तिक आज अपना 36वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे हैं (Dinesh Karthik/Instagram)

दिनेश कार्तिक ने एक इंटरव्यू में खुलासा किया था, ''निदहास ट्रॉफी के फाइनल में 12 गेंदों पर 34 रन चाहिए थे और मैं बल्लेबाजी के लिए अंदर जा रहा था. मैं बहुत चिढ़ा हुआ था.''

  • Share this:

नई दिल्ली. भारतीय विकेटकीपर-बल्लेबाज दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik Birthday) आज अपना 36वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे हैं. दिनेश कार्तिक का जन्म 1 जून 1985 को तमिलनाडु के थुटुकुंडी में हुआ था. भारतीय क्रिकेट में बड़े खिलाड़ी के रूप में पहचाने जाने वाले कार्तिक ने 2002 में बड़ौदा के लिए फर्स्ट क्लास क्रिकेट में डेब्यू किया था. बल्ले और प्रभावशाली विकेटकीपिंग तकनीक के साथ लगातार प्रदर्शन ने उन्हें 2004 में पहली बार भारतीय टीम के लिए खेलने का मौका मिला. हालांकि, वनडे और टेस्ट क्रिकेट में एक सामान्य शुरुआत के बाद कार्तिक को टीम से बाहर कर दिया गया था. इसके अलावा यह महेंद्र सिंह धोनी का उदय था, जिसने चयनकर्ताओं को कार्तिक को मौके देने से रोका.

दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) को भारतीय टीम में मौके मिलते रहे, लेकिन वह टीम में अपनी जगह पक्की करने में नाकाम रहे. उन्होंने 94 वनडे मैच खेले हैं,लेकिन एक भी शतक नहीं बनाया है. टेस्ट क्रिकेट में भी उनके आंकड़े उतनी प्रभावशाली नहीं हैं. हालांकि, समय के साथ कार्तिक ने 20 ओवर के विशेषज्ञ विकेटकीपर-बल्लेबाज के रूप में ख्याति प्राप्त की, जो अपने पक्ष के लिए खेल खत्म कर सकता था. इसका सबसे बड़ा उदाहरण 2018 की निदहास ट्रॉफी में देखने को मिला. हालांकि, पिछले साल दिनेश कार्तिक ने बड़ा खुलासा करते हुए बताया था कि निदहास ट्रॉफी 2018 के दौरान उन्हें रोहित शर्मा पर गुस्सा आ गया था.

भुवनेश्वर कुमार में दिखे कोरोना के लक्ष्ण, मां भी महामारी की चपेट में, अस्पताल में भर्ती

जब दिनेश कार्तिक को आया था रोहित शर्मा पर गुस्सा

दरअसल, निदास ट्रॉफी के फाइनल में बांग्लादेश के खिलाफ दिनेश कार्तिक को 7वें नंबर पर भेजा गया था और उस सीरीज में रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ही कप्तानी कर रहे थे. दिनेश कार्तिक ने क्रिकबज को दिए एक इंटरव्यू में खुलासा किया था, ''निदहास ट्रॉफी के फाइनल में 12 गेंदों पर 34 रन चाहिए थे और मैं बल्लेबाजी के लिए अंदर जा रहा था. मैं बहुत चिढ़ा हुआ था. मैं सोच रहा था कि मैं पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करता हूं लेकिन मुझे 7वें नंबर पर उतारा गया, क्या मैं इतना खराब खेलता हूं? क्या ये बल्लेबाज मुझसे अच्छा खेलते हैं या मुझपर विश्वास नहीं किया जाता? रोहित से मैं ये बात पूछना चाहता था.''

जिस खिलाड़ी को ऋषभ पंत ने नहीं दिया मौका, वो चुना गया साउथ अफ्रीका का बेस्ट क्रिकेटर



कुछ ऐसा था निदहास ट्रॉफी के फाइनल का रोमांच

भारत ने अपने कई मुख्य खिलाड़ियों को निदास ट्रॉफी के लिए आराम दिया, जो 2018 में खेली गई थी. अंतिम मैच तक कार्तिक के लिए यह एक साधारण टूर्नामेंट था. उन्होंने फाइनल में बांग्लादेश के खिलाफ जो पारी खेली, उसने बांग्लादेश का दिल तोड़ दिया और भारतीय प्रशंसकों की खुशी में चार चांद लगा दिए. इस मैच में मुस्तफिजुर रहमान की घातक गेंदबाजी ने भारत को 18 ओवर के बाद 5 विकेट पर 133 रन पर समेट दिया था. विजय शंकर गेंद से संघर्ष कर रहे थे और कार्तिक क्रीज पर नए थे, भारत ने सभी महत्वपूर्ण फाइनल में प्रतियोगिता से बाहर होने की कगार पर था. हालांकि, कार्तिक ने खेल के 19वें ओवर में रुबेल हुसैन को 22 जड़े और फिर भारत अचानक मैच में मजबूत हो गया. आखिरी ओवर में 12 रनों की जरूरत थी, भारत को अप्रत्याशित जीत दिलाने की जिम्मेदारी पूरी तरह से कार्तिक पर थी.

Youtube Video

बांग्लादेश के गेंदबाजों पर निकला दिनेश कार्तिक का गुस्सा

दिनेश कार्तिक का रोहित शर्मा पर ये गुस्सा बांग्लादेश के गेंदबाजों पर निकल गया. दिनेश कार्तिक ने 8 गेंदों में नाबाद 29 रन ठोक टीम इंडिया को सनसनीखेज जीत दिला थी. आखिरी ओवर में सौम्य सरकार ने शानदार गेंदबाजी की और भारत को आखिरी गेंद पर जीत के लिए पांच रन चाहिए थे. कार्तिक ने आखिरी गेंद पर एक्सट्रा कवर पर छक्का लगाकर टीम को जीत दिलाई.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज