होम /न्यूज /खेल /

'शास्त्री उन खिलाड़ियों को बर्दाश्त नहीं कर पाते थे जो...' कार्तिक ने पूर्व कोच को लेकर किया बड़ा खुलासा

'शास्त्री उन खिलाड़ियों को बर्दाश्त नहीं कर पाते थे जो...' कार्तिक ने पूर्व कोच को लेकर किया बड़ा खुलासा

रवि शास्त्री टीम इंडिया के हेड कोच के तौर पर किन बातों को बर्दाश्त नहीं कर पाते थे, दिनेश कार्तिक ने इसका खुलासा किया है.  (AFP)

रवि शास्त्री टीम इंडिया के हेड कोच के तौर पर किन बातों को बर्दाश्त नहीं कर पाते थे, दिनेश कार्तिक ने इसका खुलासा किया है. (AFP)

रवि शास्त्री ने हेड कोच के तौर पर विराट कोहली के साथ मिलकर टीम इंडिया का कायापलट कर दिया. वो हमेशा खिलाड़ियों के लिए खड़े रहे. लेकिन, दो ऐसी बातें थीं, जो उन्हें बिल्कुल पंसद नहीं थी. टीम इंडिया के विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक ने इसका खुलासा किया है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

रवि शास्त्री ने 2017 के बाद भारतीय टीम के कोच का पद संभाला था
उनका कार्यकाल पिछले साल टी20 विश्व कप के बाद खत्म हुआ था
दिनेश कार्तिक ने रवि शास्त्री की कोचिंग को लेकर बड़ा खुलासा किया है

नई दिल्ली. पिछले साल टी20 विश्व कप के बाद रवि शास्त्री का टीम इंडिया के हेड कोच के तौर पर कार्यकाल खत्म हो गया था. शास्त्री को ऐसे कोच के रूप में याद किया जाता है, जिनकी देखरेख में टीम इंडिया का पूरी तरह कायापलट हो गया. भारतीय टीम विरोधियों को उन्हीं के अंदाज में जवाब देना सीखी. शास्त्री और विराट कोहली की जोड़ी ने भारतीय क्रिकेट की सूरत बदलकर रख दी. भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में 2 बार टेस्ट सीरीज में हराया. इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज बराबर की. पहली बार वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल खेले. शास्त्री की अगुआई में जब भी टीम इंडिया विदेशी दौरे पर गई, किसी ने भी उसे हल्के में लेने नहीं भूल नहीं की.

रवि शास्त्री एक कोच के तौर पर हमेशा अपने खिलाड़ियों के समर्थन के बारे में मुखर रहे. भले ही फिर प्रदर्शन कितना भी खराब क्यों न रहा हो. लेकिन बार-बार एक ही गलती दोहराने और फिटनेस को लेकर कोताही बरतने वालों पर शास्त्री का रुख हमेशा कड़ा रहा. शास्त्री के कोच रहते 2019 का विश्व कप खेलने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक ने उन्हीं कोचिंग स्टाइल को लेकर बड़ी बात कही है.

कार्तिक ने उन दो चीजों की पहचान की है, जिन्हें एक कोच के रूप में शास्त्री कभी बर्दाश्त नहीं कर सके. वो बातें क्या है? कार्तिक ने क्रिकबज की डॉक्यू सीरीज ‘समर स्टेलमेट’ में इसका खुलासा किया.

शास्त्री नाकामियों को बर्दाश्त नहीं कर पाते थे: कार्तिक
कार्तिक ने कहा, ‘रवि शास्त्री ऐसे खिलाड़ी को नहीं बर्दाश्त कर पाते थे, जो एक निश्चित गति से बल्लेबाजी नहीं करता था या ऐसा खिलाड़ी जो नेट्स पर तो अलग तरह से प्रैक्टिस करते थे और मैच में बिल्कुल ही अलग अंदाज में बल्लेबाजी करते. उन्हें यह बिल्कुल पसंद नहीं था. शास्त्री को अच्छे से पता था कि वो टीम से क्या चाहते हैं. लेकिन, असफलताओं को लेकर उनकी सहनशीलता बहुत कम थी. वो हमेशा खिलाड़ियों को बेहतर करने के लिए प्रेरित करते रहते थे.’

शास्त्री ने कई बार खिलाड़ियों की खुलकर आलोचना की
ज्यादातर मौकों पर कोच के रूप में शास्त्री टीम के लिए बुराई मोल लेने को तैयार रहे थे. लेकिन, कई मौके ऐसे भी आए, जब उन्होंने किसी एक खिलाड़ी को लेकर अपनी नाखुशी या निराशा सार्वजनिक तौर पर जाहिर की. 2018 में, शास्त्री ने विकेट के बीच खराब दौड़ने के लिए चेतेश्वर पुजारा की खुले तौर पर आलोचना करते हुए कहा था कि वह नहीं चाहते कि वह ‘उसेन बोल्ट’ बनें. 2019 में, शास्त्री ने ऋषभ पंत के खराब शॉट खेलकर आउट होने पर भी खुलकर नाराजगी जाहिर की थी. तब उन्होंने कहा था कि अगर पंत अपनी गलतियों से नहीं सीखेंगे, तो उन्हें इसका खामियाजा उठाना पड़ेगा.

IND vs ZIM: टीम इंडिया के 2 खिलाड़ियों का बड़ा इम्तिहान, चूके तो टी20 WC का टिकट कट सकता है

श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने पूर्व चैंपियन कप्तान से मांगा 43 करोड़ रुपए का हर्जाना, ये है पूरा मामला

‘कोच के तौर पर खिलाड़ियों को हमेशा प्रेरित किया’
कार्तिक ने आगे कहा, ‘मुझे लगता है कि शास्त्री एक खिलाड़ी के तौर पर शायद उतने प्रतिभाशाली नहीं थे, लेकिन कोच के रूप में उन्होंने अपनी प्रतिभा का पूरा इस्तेमाल किया. एक कोच के तौर पर उन्होंने हमेशा खिलाड़ियों को खास लक्ष्य हासिल करने के लिए प्रेरित किया.’

Tags: Dinesh karthik, Gary Kirsten, Ravi shastri, Team india, Virat Kohli

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर