क्या क्रिकेट का सामान जला दें और नौकरी मांगने निकल पड़ें?

आईसीसी के जिम्बाब्वे क्रिकेट बोर्ड को निलंबित करने के बाद टीम के अहम सदस्य सिकंदर रजा ने बताया कि खिलाड़ी अपने भविष्य को लेकर असमंजस में हैं और उन्हें हर ओर अंधेरा ही नजर आ रहा है.

News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 2:02 PM IST
क्या क्रिकेट का सामान जला दें और नौकरी मांगने निकल पड़ें?
सिकंदर रजा ने कहा-आईसीसी के फैसले ने टीम के खिलाड़ियों का दिल तोड़ दिया. (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 2:02 PM IST
जिम्बाब्वे क्रिकेट के लोकतांत्रिक तरीके से निष्पक्ष चुनाव का माहौल तैयार न करने और क्रिकेट के प्रशासन में सरकार के दखल को दूर रखने में नाकाम रहने के चलते आईसीसी ने वहां के क्रिकेट बोर्ड को निलंबित कर दिया है. आईसीसी के इस कड़े कदम से जिम्बाब्वे के कई क्रिकेटरों का करियर खत्म होने की कगार पर है. वहीं, टीम के कई खिलाड़ियों ने यह कहते हुए आईसीसी के फैसले पर दुख जाहिर किया है कि वे इस तरह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा नहीं कहना चाहते थे.

जिम्बाब्वे क्रिकेट टीम के अहम सदस्य सिकंदर रजा ने आईसीसी के इस फैसले को निराश, हताश और दिल तोड़ने वाला कदम बताया. रजा ने बताया कि टीम के खिलाड़ी वैसा ही अनुभव कर रहे हैं जैसा कि पिछले साल वर्ल्ड कप क्वालीफायर में हार के बाद कर रहे थे जब टीम 2019 वर्ल्ड कप में जगह बनाने में नाकाम रही थी. मगर वास्तव में हालात मौजूदा समय में और भी खराब हैं.

सिकंदर रजा ने बताया कि खिलाड़ी अपने भविष्य को लेकर असमंजस में हैं और उन्हें हर ओर अंधेरा ही नजर आ रहा है. रजा का कहना है कि भले ही आईसीसी ये निलंबन जारी रखता, लेकिन टीम को क्रिकेट खेलने की अनुमति मिलनी चाहिए थी.

zimbabwe cricket, icc, international cricket council, zimbabwe cricket suspend, जिम्‍बाब्‍वे क्रिकेट, अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट परिषद, आईसीसी, सिकंदर रजा
अभी यह तय नहीं है कि जिम्बाब्वे क्रिकेट पर लगा ये निलंबन कब तक प्रभावी रहेगा.


कोई और काम शुरू कर सकते हैं क्रिकेटर

सिकंदर रजा ने आशंका जताई है कि जिम्बाब्वे के खिलाड़ी कोई और करियर अपनाने के बारे में सोच सकते हैं. रजा खुद भी एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर रह चुके हैं. रजा ने कहा कि मैं नहीं जानता कि एक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर के तौर पर हम कहां खेलेंगे. क्या हमें अपना क्रिकेट का सामान जला देना चाहिए और नौकरी के लिए प्रयास करने चाहिए.

हमारा दिल टूटा हुआ है...
Loading...

आईसीसी के फैसले पर दुख जताते हुए सिकंदर रजा ने कहा कि हम सभी का दिल टूटा हुआ है. ईमानदारी से कहूं तो हम सदमे में हैं. हमने कभी अपना अंतरराष्ट्रीय करियर इस तरह खत्म होते हुए नहीं सोचा था. हम अब कहां जाएंगे. क्या यहां से बाहर निकलने का कोई रास्ता है. हमें सिर्फ इतना बताया गया है कि हमें निलंबित कर दिया गया है, लेकिन यह नहीं बताया कि ऐसा कब तक के लिए किया गया है. अगर यह दो साल का निलंबन हुआ तो कई खिलाड़ियों का तो करियर ही खत्म हो जाएगा.

इन टूर्नामेंट में खेलना था टीम को

जिम्बाब्वे की टीम को सितंबर में बांग्लादेश में त्रिकोणीय टी-20 सीरीज खेलनी थी, जिसमें तीसरी टीम अफगानिस्तान की थी. इसके अलावा उसे यूएई में अक्टूबर में वर्ल्ड टी-20 क्वालीफायर में भी हिस्सा लेना था. मगर निलंबन के बाद अब टीम किसी भी आईसीसी इवेंट में नहीं खेल सकेगी.

ICC ने इस देश को किया सस्‍पेंड, 6 महीने बाद इंडिया से होनी थी T20 सीरीज

30 क्रिकेटरों का करियर इस एक फैसले ने कर दिया तबाह!

 

 
First published: July 19, 2019, 2:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...