पूर्व गेंदबाज का सनसनीखेज खुलासा, रंगभेद का हुआ शिकार, भारतीय दिग्‍गज है गवाह

पूर्व गेंदबाज का सनसनीखेज खुलासा, रंगभेद का हुआ शिकार, भारतीय दिग्‍गज है गवाह
अनिल कुंबले के साथ डोडा गणेश (फाइल फोटो)

इस गेंदबाज ने कहा कि नस्‍लीय टिप्‍पणियां भी उन्‍हें भारत की तरफ से खेलने से नहीं रोक पाई

  • Share this:
नई दिल्‍ली. पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज डोडा गणेश ने सनसनीखेज खुलासा किया है. गणेश ने बताया कि खेल के दिनों के दौरान उन्‍हें भी नस्‍लवादी टिप्‍पणियों का सामना करना पड़ा. मगर इसका उन पर कोई असर नहीं हुआ और उन्‍होंने देश और राज्‍य के लिए खेलना जारी रखा. डोडा गणेश ने भारत की तरफ से चार टेस्‍ट और एक वनडे मैच खेले हैं. उन्‍होंने 1997 में भारत की तरफ से इंटरनेशनल डेब्‍यू किया. उन्‍होंने कहा कि दो साल पहले नस्‍लवाद के बारे में अभिनव मुकुंद के खुलासे ने उन्‍हें यह सोचने पर मजबूर कर दिया कि वह अपने खेल के दिनों में क्‍या कर रहे थे.
गणेश ने कर्नाटक की तरफ से 100 रणजी मैच खेले हैं और 365 विकेट लिए, जबकि 2 हजार 23 रन बनाए. 46 साल के इस खिलाड़ी ने 2007 में प्रतिस्‍पर्धी क्रिकेट को अलविदा कह दिया था और कोचिंग में चले गए थे.

racial abuse,cricket, sports news, indian cricket team, Dodda Ganesh, Abhinav Mukund, नस्‍लवाद, रंगभेद, क्रिकेट, डोडा गणेश, अभिनव मुकुंद, भारतीय क्रिकेट टीम

एक भारतीय दिग्‍गज है गवाह



डोडा गणेश ने सोशल मीडिया पर अभिनव मुकुंद का पुराना लेटर शेयर करते हुए खुलासा किया कि अभिनव मुकुंद की कहानी ने मुझे उन नस्‍लीय टिप्‍पणियों की याद दिला दी, जिनका मैंने मेरे खेल के दिनों में सामना किया था. सिर्फ एक भारतीय दिग्‍गज इसका गवाह था. इसने मुझे मजबूत बनाया और भारत और कर्नाटक की तरफ से 100 मैच खेलने से नहीं रोक पाया. गणेश ने कहा कि वह उस समय नस्‍लवाद को नहीं समझते थे और वह नहीं चाहते कि भविष्‍य में कोई भी भारतीय इससे गुजरे.


2017 में अभिनव मुकुंद ने किया था खुलासा
2017 में श्रीलंका दौरे का हिस्‍सा रहे अभिनव मुकुंद ने उस दौरान सोशल मीडिया पर नस्‍लवादी टिप्‍पणियों को लेकर कहा था कि वह अपनी त्‍वचा के रंग को लेकर बरसों से अपमान झेलते हुए आए हैं. गोरा रंग ही लवली या हैंडसम नहीं होता. जो भी आपका रंग है, उससे सहज रहकर काम करें. उन्‍होंने अपनी पोस्‍ट में कहा था कि बचपन से ही उनकी त्‍वचा के रंग को लेकर लोगों का रवैया उनके लिए हैरानी का सबब रहा. उन्‍होंने कहा था कि जो क्रिकेट देखता है, वह समझता होगा. वह चिलचिलाती धूप में खेले और उन्‍हें इसका कोई मलाल नहीं है कि उनका रंग काला हो गया है. उन्‍होंने लिखा कि वह वो कर रहे हैं ,जिससे उन्‍हें प्‍यार हैं. वे देश के सबसे गर्म इलाके चेन्‍नई के रहने वाले हैं.

पिता बनने की खबर साझा करने के बाद पंड्या का बड़ा बयान, मेरे पिता को गाली दी गई

कोरोना के बाद पहला इंटरनेशनल मैच,कप्‍तान का खुलासा-पत्‍नी के लिए नहीं खेलेंगे!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading