मैच फिक्सिंग में बैन झेल चुके शाकिब अल हसन नए विवाद में फंसे, बिना मैच मैदान पर आए नजर

शाबिक अल हसन एक नए विवाद में फंस सकते हैं (pc: shakib al hasan instagram )

शाकिब अल हसन (Shakib Al Hasan ) बिना मैच के ही दो नेट गेंदबाजों के साथ मैदान पर नजर आए, जो न तो उनकी टीम का हिस्‍सा थे और न ही बायो बबल का.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. मैच फिक्सिंग के लिए संपर्क किए जाने की सूचना नहीं देने के आरोप में  बैन झेलकर वापसी करने वाले बांग्‍लादेशी ऑलराउंडर शाकिब अल हसन (shakib al hasan) फिर से एक नए विवाद में फंसते नजर आ रहे हैं. उन पर ढाका प्रीमियर डिवीजन टी20 क्रिकेट लीग के दौरान बायो बबल प्रोटोकॉल तोड़ने का आरोप लगा है. हालांकि बांग्‍लादेश क्रिकेट बोर्ड ने इस मामले का खुलासा नहीं किया है.  शाकिब को सूचना नहीं देने के आरोप में दो साल के लिए प्रतिबंधित किया गया था, जिसमें एक साल की सजा निलंबित थी.

    मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मामला 4 जून का है. जब मोहम्‍मडन स्‍पोर्टिंग क्‍लब का उस दिन कोई मैच नहीं था, मगर शाकिब मीरपुर के आयोजन स्‍थल पर नजर आए थे.  रिपोर्ट्स के अनुसार उन्‍होंने टीम के साथी आसिफ हसन और रुयल मिया के साथ अभ्‍यास किया. इस दौरान दो नेट गेंदबाज भी दिखे, जो न तो मोहम्‍मडन का हिस्‍सा थे और न ही बायो बबल का.

    एकेडमी के थे दोनों नेट गेंदबाज

    शाकिब के अभ्‍यास के दौरान सफेद शर्ट पहना एक व्‍यक्ति नेट गेंदबाजों से शारीरिक संपर्क में भी आया था, वह उनके साथ तस्‍वीरें लेता नजर आया. खबरों के अनुसार नेट गेंदबाज मेस्‍को शाकिब क्रिकेट एकेडमी के हैं और कोविड टेस्‍ट के बाद उन्‍हें लाया जा रहा था. इन सबके बीच प्रोटोकॉल उल्‍लंघन के बाद बांग्‍लादेश क्रिकेट बोर्ड (BCB) और ढाका मेट्रोपॉलिस क्रिकेट कमेटी ( CCDM ) ने इस मामले पर चर्चा के लिए मीटिंग बुलाई.

    यह भी पढ़ें : 

    ENG vs NZ: 9 ओवर में दिए 8 रन, विलियमसन सहित 6 विकेट भी लिए, अब हो सकता है टीम से बाहर

    WTC Final : भारतीय क्रिकेटरों ने आइसोलेशन के तीसरे ही दिन शुरू की प्रैक्टिस, दौड़ लगाते दिखे पुजारा

    बीसीबी  के डायरेक्‍टर और CCDM चेयरमैन काजी इमाम ने कहा कि जांच जारी है और उचित कार्रवाई की जाएगी. द बिजनेस स्टैंडर्ड से बात करते हुए इमाम ने कहा कि जो कुछ भी हुआ, उससे हम निराश हैं. CCDM और बीसीबी ने इस मामले को गंभीरता से लिया है. हमारे लिए टीम, खिलाड़ी और अधिकारियों की सुरक्षा सबसे पहले और अहम है. बायो सिक्‍योर बबल बनाने के लिए हमें भारी मात्रा में भगुतान करना पड़ा और कड़ी मेहनत करनी पड़ी.