• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • इंग्लैंड हुआ बेनकाब, काउंटी टीम ने नस्लभेद के लिए मांगी माफी, परेशान खिलाड़ी देना चाहता था जान!

इंग्लैंड हुआ बेनकाब, काउंटी टीम ने नस्लभेद के लिए मांगी माफी, परेशान खिलाड़ी देना चाहता था जान!

इंग्लैंड की काउंटी टीम यॉर्कशायर ने अजीम रफीक से नस्लवाद के लिए माफी मांगी (फोटो- अजीम रफीक इंस्टाग्राम)

इंग्लैंड की काउंटी टीम यॉर्कशायर ने अजीम रफीक से नस्लवाद के लिए माफी मांगी (फोटो- अजीम रफीक इंस्टाग्राम)

यॉर्कशायर काउंटी टीम (Yorkshire County Team) ने अपने पूर्व कप्तान अजीम रफीक (Azeem Rafiq Racism Case) से माफी मांगी है. जिन्होंने टीम के खिलाड़ियों पर नस्लभेदी दुर्व्यवहार का आरोप लगाया था. रफीक ने खुलासा किया था कि वो इतने परेशान हो गए थे कि उनके मन में खुदकुशी के विचार भी आने लगे.

  • Share this:

    नई दिल्ली. इंग्लैंड के क्रिकेट सिस्टम में नस्लवाद  (Azeem Rafiq Racism Case) एक बड़ी समस्या है. कई दिग्गज खिलाड़ियों ने इंग्लैंड में नस्लभेदी टिप्पणियां झेली हैं. अब इंग्लैंड की काउंटी टीम यॉर्कशायर (Yorkshire County Team) की भी नस्लवाद के मामले में पोल खुली है, जिसके खिलाड़ियों पर अपने पूर्व कप्तान अजीम रफीक (Azeem Rafiq) पर नस्लभेदी दुर्व्यवहार का आरोप था. अब जांच में ये आरोप सही साबित हुए हैं और यॉर्कशायर को पीड़ित खिलाड़ी से माफी मांगनी पड़ी है. इस मामले की एक स्वतंत्र जांच हुई जिसमें पाया गया कि इंग्लैंड अंडर-19 टीम के पूर्व कप्तान अजीम रफीक ‘अनुचित व्यवहार के शिकार’ बने था.

    रफीक ने पिछले साल एक इंटरव्यू में खुलासा किया था कि यॉर्कशायर की तरफ से 2008-2017 के बीच खेलते हुए वे खुद को बाहरी महसूस करते थे. रफीक ने 2012 में यॉर्कशायर की टी20 टीम की अगुवाई की थी और तब वह इस काउंटी टीम के सबसे युवा कप्तान बने थे. यॉर्कशायर ने एक बयान में जांच रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा, ‘अजीम की ओर से लगाये गये कई आरोपों को सही ठहराया गया और यह दुखद है कि अजीम अनुचित व्यवहार का शिकार था. यह स्पष्ट तौर पर अस्वीकार्य है और हम इसके लिये क्षमाप्रार्थी हैं.’

    अजीम रफीक करना चाहते थे खुदकुशी!c
    अजीम रफीक ने इंटरव्यू में खुलासा किया था कि उन्होंने नस्लीय भेदभाव की कई बार शिकायत की लेकिन किसी ने उस मुद्दे पर ध्यान नहीं दिया, ना ही कोई कार्रवाई हुई. अजीम रफीक (Azeem Rafiq) ने ‘ESPN Cricinfo’ से कहा था, ‘मैं जानता हूं कि जब मैं यार्कशायर के लिए खेल रहा था तो उस दौरान मैं आत्महत्या करने के कितने करीब था. मैं अपने परिवार के ‘पेशेवर क्रिकेटर’ के सपने को साकार कर रहा था लेकिन अंदर से मैं रोज मर रहा था. मैं काम पर जाते हुए डरता था. मैं हर दिन दर्द महसूस करता था. ‘

    IND VS ENG: इंग्लैंड के 6 खिलाड़ी चोटिल, भारत को टेस्ट सीरीज में मात देना लगभग नामुमकिन!

    बेटे की मौत पर छोड़ा यॉर्कशायर ने साथ!
    अजीम रफीक ने यॉर्कशायर क्लब पर मुश्किल समय में साथ छोड़ने का आरोप भी लगाया था. रफीक ने कहा था, ‘मेरा बेटा मृत पैदा हुआ था जिसे मैं अस्पताल से सीधे अंतिम संस्कार के लिए ले गया. मुझे यॉर्कशायर ने वादा किया कि वो मेरा ख्याल रखेंगे और देखभाल करेंगे लेकिन उन्होंने मुझे ई-मेल भेज कर कहा कि आपको टीम से रिलीज कर दिया गया है.’ 30 साल के रफीक पाकिस्तानी मूल के खिलाड़ी हैं और उन्होंने 39 फर्स्ट क्लास मैच खेले हैं. इसके अलावा वो 35 लिस्ट ए और 95 टी20 मैच भी खेले हैं. रफीक ने टी20 में 102, लिस्ट ए में 43 और फर्स्ट क्लास में 72 विकेट चटकाए हैं. (भाषा के इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज