क्रिकेट छोड़ते ही सड़क पर आ गया ये क्रिकेटर, परिवार पालने के लिए दांव पर लगाई जान!

क्रिकेटर से मिक्स्ड मार्शल आर्ट करने लगा इंग्लैंड का पूर्व कप्तान
क्रिकेटर से मिक्स्ड मार्शल आर्ट करने लगा इंग्लैंड का पूर्व कप्तान

एक ऐसा क्रिकेटर जिसने इंग्लैंड (England Cricket Team) की कप्तानी की लेकिन क्रिकेट छोड़ने के बाद उसे परिवार पालने के लिए अपनी जान तक दांव पर लगानी पड़ी

  • Share this:
नई दिल्ली. क्रिकेट एक ऐसा खेल है, जिसमें बेशूमार पैसा है. अकसर हम देखते हैं कि एक मध्यम वर्गीय परिवार का लड़का इंटरनेशनल क्रिकेट खेलते ही रातों-रात अमीर बन जाता है. खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो चारों ओर से उनपर करोड़ों की बरसात होने लगती है. विराट कोहली, एमएस धोनी, सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) इसका सबूत हैं. हालांकि कुछ क्रिकेटर ऐसे भी हैं जो इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने के बावजूद काफी मुश्किलों में नजर आते हैं. खासकर तब जब वो क्रिकेट के खेल को अलविदा कह देते हैं. ऐसी ही कहानी है इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एडम हॉलियोक की, जिन्हें क्रिकेट से रिटायरमेंट के बाद परिवार पालने के लिए अपनी जिंदगी तक दांव पर लगानी पड़ी.

कौन हैं एडिम हॉलियोक
एडम हॉलियोक (Adam Hollioake) का इंटरनेशनल करियर 1996 में शुरु हुआ था. ऑस्ट्रेलिया में जन्मे एडम हॉलियोक इंग्लैंड के लिए खेले. उन्होंने इंग्लिश वनडे टीम की कप्तानी भी की. हॉलियोक ने इंग्लैंड के लिए 4 टेस्ट और 35 वनडे मैच खेले. इसके अलावा हॉलियोक ने काउंटी टीम सरे को तीन बार काउंटी चैंपियन बनाया. उन्होंने अपने करियर में कुल 18 फर्स्ट क्लास शतक लगाए.
 
View this post on Instagram
 

Anyone want a kiss? 😘

A post shared by Adam Hollioake (@adamhollioake) on






रिटायरमेंट के बाद ऑस्ट्रेलिया चले गए एडम हॉलियोक
एडम हॉलियोक (Adam Hollioake) के छोटे भाई बेन की एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी, जिसके बाद उनका मन क्रिकेट से हट गया. वो ऑस्ट्रेलिया लौट गए और अपना पारिवारिक बिजनेस संभालने लगे. लेकिन आर्थिक मंदी की वजह से उनका पूरा कारोबार बर्बाद हो गया. साल 2011 तक वो पूरी तरह दीवालिया हो गए. एडम हॉलियोक के पास अपना परिवार पालने तक के पैसे नहीं बचे. इसके बाद एडम हॉलियोक को पैसा कमाने के लिए एक शख्स ने प्रोफेशनल फाइट करने का न्योता दिया. एडम हॉलियोक ने प्रोफेशनल फाइट की कोई ट्रेनिंग नहीं की थी लेकिन वो इसके लिये तैयार हो गए. हॉलियोक रिंग में उतरे और क्वींसलैंड में खेले गए मुकाबले में कोई विजेता नहीं रहा. ये मैच ड्रॉ रहा. हॉलियोक ने इसके बाद 2012 में उन्होंने MMA मैच खेला और उन्होंने अपने विरोधी को चित कर दिया.

सौरव गांगुली के भाई को नहीं है कोरोना वायरस, कहा- मैं पूरी तरह स्वस्थ

सुशांत राजपूत की तरह इस क्रिकेटर के पिता भी थे डिप्रेशन में, घर में फांसी...

हॉलियोक (Adam Hollioake) ने इसके बाद दोबारा क्रिकेट में वापसी की और 2018 में वो अफगानिस्तान की शपागीजा क्रिकेट लीग में बूस्ट डिफेंडर्स टीम के कोच बने. हॉलियोक इंग्लैंड लायंस के फील्डिंग कोच भी नियुक्त हुए. बता दें एडम हॉलियोक ने सम्मोहित करने की कला भी सीखी है, हालांकि अबतक उन्होंने अभी तक किसी को सम्मोहित नहीं किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज