IND vs ENG: दूसरे विश्व युद्ध के हीरो सर टॉम मूरे के सम्मान में इंग्लिश खिलाड़ियों ने काली पट्टी बांधी, भारत से भी रहा है नाता

सर टॉम मूरे को पिछले साल नाइटहुट की उपाधि दी गई थी. (फोटो साभार-
captainsirtom)

सर टॉम मूरे को पिछले साल नाइटहुट की उपाधि दी गई थी. (फोटो साभार- captainsirtom)

India vs England: दूसरे विश्व युद्ध के हीरो सर टॉम मूरे (Sir Tom Moore) ने पिछले साल कोरोना वायरस (Corona Virus) के खिलाफ जंग में 286 करोड़ रुपये जुटाए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 5, 2021, 12:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चेन्नई में भारत के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड की टीम के खिलाड़ी बांह पर काली पट्टी बांधकर खेल रहे हैं. इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने काली पट्टी दूसरे विश्व युद्ध में अहम भूमिका ब्रिटिश सेना के पूर्व कैप्टन और कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में अहम भूमिका निभाने वाले सर टॉम मूरे के सम्मान में बांधी है. मूरे का इस सप्ताह सौ वर्ष की उम्र में निधन हो गया जिन्हें कोरोना संक्रमण के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 100 साल की उम्र में भी मूरे ने 2020 में कोरोना वायरस से जंग में अहम भूमिका निभाई थी.

दूसरे विश्व युद्ध के हीरो रहे मूरे

सर टॉम मूरे का जन्म 1920 में यार्कशर के एक गांव किघली में हुआ था. सिर्फ 20 की उम्र में उन्होंने ब्रिटिश आर्मी ज्वाइन किया. दूसरे विश्व युद्ध के दौरान ड्यूक ऑफ वेलिंग्टन रेजिमेंट की आठवीं बटालियन में शामिल हुए मूर ने भारत और बर्मा में सैन्य सेवा दी थी. सेना में शामिल होने के बाद दूसरे साल ही मूरे को सेकंड लेफ्टिनेंट के रूप में प्रमोशन मिला और वह रॉयल आर्म्ड कॉर्प्स के सदस्य बन गए और उन्हें भारत में तैनात किया गया. भारत में उन्होंने अपने साथी सैनिकों को टैंक युद्ध और मोटरसाइकिल चलाने का प्रशिक्षण दिया. साल 1945 की शुरुआत में ब्रिटेन लौटने से पहले वह बर्मा (अब म्यांमार) में जापानी सेना के युद्ध लड़ रहे थे. 1946 में मात्र 26 साल की आयु में सैन्य प्रशिक्षक बन गए.

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में जुटाए 286 करोड़
अपने 100वें जन्मदिन से पहले मूर ने बैसाखी के सहारे अपने बगीचे के सौ चक्कर लगाने की योजना बनाई थी. मूरे को उम्मीद थी कि उन्हें इससे हजार पाउंड तक चंदा मिलेगा. लेकिन जब 16 अप्रैल 2020 को 100वां चक्कर पूरा किया तो 12 मिलियन यूरो (करीब 104 करोड़ रुपये) चंदे के रूप में मिल चुके थे. 1 मई को जब उन्होंने फंड रेजिंग का अभियान बंद किया तो उन्हें 32 मिलियन यूरो (करीब 286 करोड़ रुपये) मिल चुके थे. उन्होंने यह पैसा ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस के हवाले कर दिया.

यह भी पढ़ें:

India vs England: भारत को चेन्नई टेस्ट से ठीक पहले बड़ा झटका, अक्षर पटेल टीम से बाहर



India vs England: शाहबाज नदीम को मिला मौका, जानें भारत और इंग्लैंड की प्लेइंग 

ब्रिटेन के प्रिंस विलियन ने भी इस दौरान चंदा दिया था. महामारी के दौरान चंदा इकठ्ठा करने के उनके प्रयासों के लिए मूर को 30 अप्रैल को उनके 100वें जन्मदिन के अवसर पर कर्नल की मानद रैंक दी गई थी. उन्हें नाइटहुट की उपाधि से भी नवाजा गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज