Home /News /sports /

सिडनी में खेला गया ऐसा मैच, खिलाड़ी-अंपायर-दर्शक हर कोई रन छोड़ गिनने लगा एक-एक गेंद

सिडनी में खेला गया ऐसा मैच, खिलाड़ी-अंपायर-दर्शक हर कोई रन छोड़ गिनने लगा एक-एक गेंद

The Ashes: जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड ने चौथे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया को आखिरी विकेट नहीं लेने दिया. (AP)

The Ashes: जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड ने चौथे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया को आखिरी विकेट नहीं लेने दिया. (AP)

Australia vs England Highlights: इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया चौथा टेस्ट मैच बेहद रोमांचक रहा. मैच के आखिरी दिन जब टीब्रेक के बाद खेल शुरू हुआ तो लग रहा था कि इंग्लैंड आसानी से मैच बचा लेगा. तभी ऑस्ट्रेलिया ने उसे जोर का झटका दिया और देखते ही देखते स्कोर 8 विकेट पर 237 रन हो गया. अब ऑस्ट्रेलिया जीत से महज 2 विकेट दूर था और मैच में 64 गेंद बाकी थीं. जानिए आगे क्या हुआ...

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी में एक ऐसा मैच खेला गया, जिसके आखिर में रन की कोई अहमियत ही नहीं रह गई. मैच जैसे-जैसे अंजाम की ओर बढ़ रहा था, हर कोई बाकी बची गेंदें गिन रहा था. जब इंग्लैंड की आखिरी जोड़ी क्रीज पर थी, तब ऑस्ट्रेलिया के कप्तान पैट कमिंस (Pat Cummins) का अपने मुख्य गेंदबाजों पर से भरोसा उठ सा गया. उन्होंने ना सिर्फ अपना स्पेल रोका, बल्कि मिचेल स्टार्क जैसे खतरनाक गेंदबाज को छोड़कर पार्टटाइम गेंदबाज स्टीवन स्मिथ (Steven Smith) को बॉलिंग थमा दी. आखिरी ओवर में स्ट्राइक एंड पर जेम्स एंडरसन तैयार थे. वही एंडरसन, जिनके नाम सबसे ज्यादा बार नॉटआउट रहने का रिकॉर्ड है. नतीजा यह रहा कि इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया (England vs Australia) की जेब से जीत छीन ली. यकीनन, जब भविष्य में इस मैच का जिक्र आएगा तो इसे बेनतीजा कहा जाएगा. लेकिन जिसने भी यह मैच देखा, उसके दिमाग में इस मैच का रोमांच बरसों बाद भी ताजा रहेगा.

मेजबान ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड (Australia vs England) के बीच सिडनी में एशेज सीरीज का चौथा टेस्ट मैच खेला गया. ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी 8 विकेट पर 416 रन बनाकर घोषित की. इसके जवाब में इंग्लैंड की टीम अपनी पहली पारी में 294 रन बनाकर आउट हो गई. इसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरी पारी 6 विकेट पर 265 रन बनाकर फिर से घोषित कर दी. इस तरह इंग्लैंड को जीत के लिए 102 ओवर में 388 रन का लक्ष्य मिला. इंग्लैंड ने लक्ष्य का पीछा करते हुए मैच के चौथे दिन तक बिना विकेट खोए 30 रन बना लिए थे. जब पांचवें दिन का खेल शुरू हुआ तो इंग्लैंड जीत से 368 रन दूर था और ऑस्ट्रेलिया को 10 विकेट चाहिए थे.

पांचवें दिन पहले सेशन में गिरे 3 विकेट
मैच के पांचवें दिन लंच तक इंग्लैंड ने 3 विकेट पर 122 रन बना लिए थे. दूसरे सेशन में उसने सिर्फ एक विकेट गंवाया और 52 रन अपने स्कोर में जोड़ लिए. यानी जब टीब्रेक के बाद खेल शुरू हुआ तो इंग्लैंड का स्कोर 4 विकेट पर 174 रन था. जब तीसरे सेशन में ऐसा लग रहा था कि इंग्लैंड आसानी से मैच बचा लेगा, तभी ऑस्ट्रेलिया ने उसे जोर का झटका दिया. देखते ही देखते स्कोर 8 विकेट पर 237 रन हो गया. अब ऑस्ट्रेलिया जीत से महज 2 विकेट दूर था और मैच में 64 गेंद बाकी थीं. इंग्लैंड लक्ष्य से 151 रन रन दूर था और उसके लिए जीत असंभव हो चुकी थी. यानी अब मैच में ही दो ही नतीजे संभव दिख रहे थे. पहला ऑस्ट्रेलिया की जीत और दूसरा ड्रॉ.

कमिंस ने एक ओवर में झटके 2 विकेट
यहीं से शुरू हुआ मैच का रोमांच. इंग्लैंड की दूसरी पारी का 85वां ओवर शुरू होने से पहले यह मैच आसान ड्रॉ की ओर बढ़ रहा था. तभी पैट कमिंस ने एक ही ओवर में जोस बटलर और मार्क वुड को आउट कर दिया. अब मैच ऑस्ट्रेलिया की ओर झुक गया. टूटी उंगली के साथ खेल रहे जॉनी बेयरस्टो का साथ देने के लिए निचलेक्रम के बल्लेबाज जैक लीच थे और मैच में 17 ओवर बाकी थे. बेयरस्टो और लीच दोनों ने खूब साहस दिखाया और खेल को 92वें ओवर तक खींच ले गए. यह जोड़ी बेयरस्टो के आउट होने से टूटी. अब खेल में 64 गेंदें बाकी थीं और क्रीज पर लीच का साथ देने के लिए स्टुअर्ट ब्रॉड आ चुके थे.

यह भी पढ़ें: पोप ने प्लेइंग XI से बाहर रहकर भी बनाया विश्व रिकॉर्ड, ऋद्धिमान साहा भी कर चुके हैं ऐसा ही कमाल

यह भी पढ़ें: भारत को वर्ल्ड चैंपियन बनाया, पर देश में नहीं मिली पहचान, अमेरिका में भविष्य तलाश रहा

स्मिथ ने विकेट लेकर जगाया रोमांच
जैक लीच और स्टुअर्ट ब्रॉड ने अच्छी बैटिंग की. जब यह जोड़ी आधे घंटे तक नहीं टूटी तो ऑस्ट्रेलिया की टीम परेशान हो उठी. कप्तान पैट कमिंस ने सारे विकल्प आजमाए और जब उनके मुख्य गेंदबाज यह जोड़ी तोड़ने में नाकाम रहे तो उन्होंने अपने उप कप्तान स्टीव स्मिथ को गेंद थमा दी. जब पार्टटाइम गेंदबाज स्मिथ ने गेंदबाजी शुरू की, तब मैच में 18 गेंदें बाकी थीं और इंग्लैंड के दो विकेट. यह वो पल था जब अंपायरों के साथ-साथ संभवत: सभी खिलाड़ी भी गेंद गिनने लगे थे. दर्शक भी हर गेंद के बाद अपनी टीम का आत्मबल बढ़ा रहे थे. कॉमेंटटर्स ने अभी बहस शुरू ही की थी कि स्मिथ से कराना सही फैसला है या गलत… तभी कमाल हो गया. स्मिथ ने जैक लीच को वार्नर के हाथों स्लिप पर कैच करा दिया.

और एंडरसन बन गए इंग्लैंड की दीवार
स्टीवन स्मिथ ने 100वें ओवर की आखिरी गेंद पर जैक लीच का विकेट लिया. अब मैच में 12 गेंदें बाकी रह गई थीं और क्रीज पर इंग्लैंड की आखिरी जोड़ी आ चुकी थी. 101वां ओवर नाथन लायन ने फेंका और इसकी सारी गेंदें स्टुअर्ट ब्रॉड खेल गए. ना तो इस ओवर में कोई रन बना और ना ही विकेट गिरा. लेकिन हर गेंद पर वैसा ही रोमांच नजर आया, जैसे चौके-छक्के की बारिश हो रही हो. मैच का आखिरी ओवर स्टीव स्मिथ के जिम्मे आया, जिन्होंने पिछले ही ओवर में विकेट लिया था. स्मिथ के सामने जेम्स एंडरसन थे. इंग्लैंड के 11वें नंबर के बल्लेबाज. एंडरसन को विकेटकीपर के अलावा 8 फील्डर घेरे हुए थे. जिमी के नाम से लोकप्रिय एंडरसन को ऐसे दबाव झेलने की आदत है और उन्होंने एक बार फिर बखूबी अपना हुनर दिखाया. उन्होंने आखिरी 6 गेंद को दीवार की मानिंद सामना किया और ऑस्ट्रेलिया को उस जीत से महरूम कर दिया, जिसकी उम्मीद वह एक दिन पहले से ही लगाए बैठा था.

Tags: Ashes, Cricket news, James anderson, Pat cummins, Steve Smith

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर