इंग्‍लैंड के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज में वेस्‍टइंडीज टीम करेगी नस्‍लवाद का विरोध, अपनाएगी ये तरीका

इंग्‍लैंड के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज में वेस्‍टइंडीज टीम करेगी नस्‍लवाद का विरोध, अपनाएगी ये तरीका
जेसन होल्डर ने कहा कि युवा खिलाड़ियों के एक समूह के रूप में हमें वेस्टइंडीज क्रिकेट के पूरे इतिहास की जानकारी है

अगले महीने इंग्‍लैंड और वेस्‍टइंडीज (England vs West Indies) के बीच टेस्‍ट सीरीज खेली जाएगी और इसी के साथ कोरोना के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट की वापसी होगी.

  • Share this:
मैनचेस्टर. कोरोना (Coronavirus) के कारण कई महीनों तक क्रिकेट ठप्‍प होने के बाद अगले महीने से इंटरनेशनल क्रिकेट की वापसी होने वाली हैं. इंग्‍लैंड और वेस्‍टइंडीज  (England vs West Indies) के बीच 8 जुलाई से टेस्‍ट सीरीज खेली जाएगी. इस सीरीज के दौरान कैरेबियाई टीम नस्‍लवाद का भी विरोध करेगी. इसीलिए सीरीज में वेस्टइंडीज के क्रिकेटर खेलों में नस्लवाद के विरोधस्वरूप ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ का लोगो अपनी जर्सी के कॉलर पर पहनेंगे.

पिछले दिनों पुलिस कस्‍टडी में अमेरिकी अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद से ही नस्‍लवाद का मुद्दा गर्माया हुआ है. वेस्‍टइंडीज के स्‍टार खिलाड़ी डेरेन सैमी, क्रिस गेल ने भी इसके खिलाफ आवाज उठाई थी. नस्‍लवाद पर खुलकर बोलने वाले कप्तान जेसन होल्डर (Jason Holder) ने एक बार फिर एक बयान में कहा कि हमारा मानना है कि एकजुटता दिखाना और जागरूकता पैदा करने में मदद करना हमारा फर्ज है.

प्रीमियर लीग में भी खिलाड़ियों ने पहना था लोगो



आईसीसी से स्वीकृत लोगो को एलिशा होसाना ने डिजाइन किया है. इस महीने के शुरुआत में प्रीमियर लीग में सभी 20 क्लबों के खिलाड़ियों ने अपनी शर्ट पर यह लोगो पहना था. होल्डर के हवाले से क्रिकइन्फो ने कहा कि यह खेलों के इतिहास में और वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के लिए अहम क्षण है. उन्होंने कहा कि हम यहां विजडन ट्रॉफी जीतने आए हैं, लेकिन दुनिया में जो हो रहा है, उससे भी वाकिफ हैं और इंसाफ और समानता के लिए लड़ेंगे.



यह भी पढ़ें: 

इस क्रिकेटर को झाड़ू मारने की मिल रही थी नौकरी, फिर शाहरुख खान ने बदल दी जिंदगी!

इंग्‍लैंड के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज में वेस्‍टइंडीज टीम करेगी नस्‍लवाद का विरोध, अपनाएगी ये तरीका

कैरेबियाई क्रिकेट के इतिहास से वाकिफ

होल्डर ने कहा कि युवा खिलाड़ियों के एक समूह के रूप में हमें वेस्टइंडीज क्रिकेट के पूरे इतिहास की जानकारी है और हमें पता है कि आने वाली पीढ़ी के लिए हम उस विरासत के वाहक हैं. उनका मानना है कि नस्लवाद के मामले में भी डोपिंग और भ्रष्टाचार की तरह कार्रवाई की जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि हमने यह लोगो पहनने का फैसला हल्‍के में नहीं लिया. हमें पता है कि चमड़ी के रंग पर टिप्‍पणी करने पर कैसा लगता है. समानता और एकता जरूरी है. जब तक तक वह नहीं होगी, हम चुप नहीं बैठ सकते.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading