विश्व कप से बाहर होने पर साउथ अफ्रीकन कप्तान ने आईपीएल को ठहराया दोषी

आईसीसी क्रिकेट विश्व कप में साउथ अफ्रीका का प्रदर्शन काफी खराब रहा और पाकिस्तान के खिलाफ 49 रन से हारने के बाद उनका टूर्नामेंट से बाहर जाना भी तय हो गया है.

News18Hindi
Updated: June 24, 2019, 1:30 PM IST
विश्व कप से बाहर होने पर साउथ अफ्रीकन कप्तान ने आईपीएल को ठहराया दोषी
आईसीसी क्रिकेट विश्व कप में साउथ अफ्रीका का प्रदर्शन काफी खराब रहा और पाकिस्तान के खिलाफ 49 रन से हारने के बाद उनका टूर्नामेंट से बाहर जाना भी तय हो गया है.
News18Hindi
Updated: June 24, 2019, 1:30 PM IST
पाकिस्तान से हार के बाद साउथ अफ्रीकन टीम आईसीसी क्रिकेट विश्व कप से बाहर हो गई है. इसके लिए साउथ अफ्रीकन कप्तान फाफ डू प्लेसी ने आईपीएल को दोषी ठहराया है. डू प्लेसी ने बताया कि उन्होंने और टीम मैनेजमेंट ने कगिसो रबाडा को आईपीएल के इस सीजन में खेलने से रोकने की काफी कोशिश की थी. उन्होंने कहा कि रबाडा को विश्व कप के लिए तरोताजा रखने के लिए काफी सिफारिश की गई थी.

टूर्नामेंट में साउथ अफ्रीका का प्रदर्शन काफी खराब रहा और पाकिस्तान के खिलाफ 49 रन से हारने के बाद उनका टूर्नामेंट से बाहर जाना भी तय हो गया है.

टीम की हार के तुरंत बाद डू प्लेसी से रबाडा की थकान के कारण मैदान पर संभावित कमी के बारे में पूछने पर खुलासा किया कि इस तेज गेंदबाज ने इस साल के शुरुआत से अभी तक 303 ओवर फेंके हैं, जिसमें आईपीएल भी शामिल है. आईपीएल में दिल्ली ​कैपिट्ल्स की ओर से रबाडा ने 12 मैचों में 25 विकेट लिए थे.

टूर्नामेंट में चोटिल होने के बाद क्रिकेट साउथ अफ्रीका ने एहतियाती कदम उठाते हुए उन्हें वापस बुला लिया. प्लेसी ने कहा कि उन्होंने इस मुद्दे को आईपीएल शुरू होने से पहले भी उठाया था, क्योंकि तीनों प्रारूपों में खेलने वाले खिलाड़ी बिना किसी आराम के निरंतर खेल रहे थे.

यह भी पढ़ें- आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप से बाहर हुआ साउथ अफ्रीका

वर्ल्ड कप: सेमीफाइनल में एक जगह के लिए 4 टीमों के बीच लड़ाई

प्लेसी ने आगे कहा कि मुझे ऐसा नहीं लगता कि यह सिर्फ आईपीएल के लिए जरूरी है.लेकिन कुछ लोगों के आराम के लिए अहम था. वे टूर्नामेंट में ताजगी के साथ नहीं आए. यह कोई बहानी नहीं है. यह सच्चाई है और आग देख सकते हैं कि कसिगो की गति सामान्य की तुलना में कम है.
साउथ अफ्रीकन कप्तान ने कहा कि इस समय हम एक औसत टीम है. क्योंकि हम लगातार एक सी ही गलतियां कर रहे हैं. प्लेसी ने विश्व कप से बाहर होने को अपने करियर का सबसे खराब दौर बताया.
उन्होंने कहा कि बतौर खिलाड़ी और कप्तान मुझे खुद पर गर्व है और देश के लिए खेलना मेरे लिए मायने रखता है. हम उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे, इसलिए लोग टीम की आलोचना कर रहे हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...