• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • सचिन को कप्तानी से हटाने वाला दिग्गज गेंदबाज, जिसकी रफ्तार से कांपते थे बल्लेबाज!

सचिन को कप्तानी से हटाने वाला दिग्गज गेंदबाज, जिसकी रफ्तार से कांपते थे बल्लेबाज!

सचिन को कप्तान बनाने वाला और पद से हटाने वाले रमाकांत देसाई की आज 81वीं जयंती है

सचिन को कप्तान बनाने वाला और पद से हटाने वाले रमाकांत देसाई की आज 81वीं जयंती है

इस तेज गेंदबाज ने अपने पहले रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) सीजन में महज 11 की औसत से 50 विकेट लिए थे

  • Share this:
    नई दिल्ली. कहते हैं आदमी का कद नहीं उसका काम बड़ा होना जरूरी है, ये बात टीम इंडिया के पूर्व तेज गेंदबाज रमाकांत देसाई ने पूरी दुनिया को साबित की. रमाकांत देसाई महज 5 फीट 4 इंच के तेज गेंदबाज थे, लेकिन उनकी रफ्तार के आगे बड़े से बड़े बल्लेबाज कांपते थे. रमाकांत देसाई की आज 81वीं जयंती है. रमाकांत देसाई (Ramakant Desai) ने भारत के लिए 28 टेस्ट मैच खेल 74 विकेट झटके. उन्होंने मुंबई के लिए 150 फर्स्ट क्लास मैचों में महज 24.10 की औसत से 468 विकेट अपने नाम किये. आइए आपको बताते हैं इस दिग्गज क्रिकेटर के बारे में 5 बड़ी बातें.

    1. छोटा पैकेट, बड़ा धमाका
    रमाकांत देसाई (Ramakant Desai) को छोटा शिकारी कहा जाता था. उनका कद छोटा था लेकिन उनकी गेंदों की रफ्तार अच्छे-अच्छे बल्लेबाजों के होश उड़ा देती थी. अपने पहले ही रणजी सीजन में देसाई ने तहलका मचा दिया था. बॉम्बे के लिए डेब्यू करते हुए देसाई ने महज 11 की औसत से 50 विकेट चटकाए थे. रमाकांत देसाई ने वेस्टइंडीज के खिलाफ दिल्ली टेस्ट में डेब्यू किया था. इस मुकाबले में भारत को पारी की हार का सामना करना पड़ा था. टीम इंडिया ने पहली पारी में 415 रन बनाए लेकिन वेस्टइंडीज की टीम ने 644 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया. देसाई ने 49 ओवर तक गेंदबाजी की और 169 रन देकर गैरी सॉबर्स समेत कुल 4 विकेट लिये.



    2. पाकिस्तान के खिलाफ यादगार पारी
    रमाकांत देसाई (Ramakant Desai) को उनकी गेंदबाजी के लिए याद किया जाता है लेकिन उन्होंने बल्ला थामकर भी सुर्खियां बटोरी थी. देसाई ने 1960 में मुंबई के ब्रेबॉर्न स्टेडियम में पाकिस्तान के खिलाफ 85 रनों की पारी खेली थी. इस दौरान उन्होंने 206 मिनट तक बल्लेबाजी की और नाना जोशी के साथ 149 रनों की साझेदारी की. बता दें देसाई 10वें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे थे. देसाई ने साल 1962-63 रणजी फाइनल में राजस्थान के खिलाफ अपनी इकलौती सेंचुरी भी जड़ी थी.

    3. मोहम्मद हनीफ के शिकारी
    मोहम्मद हनीफ की बल्लेबाजी को लोग आज भी याद करते हैं लेकिन रमाकांत देसाई की तेज गेंदों ने उनका क्रीज पर टिकना मुश्किल कर दिया था. देसाई ने पाकिस्तान के इस दिग्गज बल्लेबाज को कई बार आउट किया. 1960-61 में हुई टेस्ट सीरीज में देसाई ने हनीफ को 9 में से 4 पारियों में पैवेलियन की राह दिखाई.

    4. 29 साल की उम्र में लिया रिटायरमेंट
    रमाकांत देसाई (Ramakant Desai) ने महज 29 साल की उम्र में क्रिकेट को अलविदा कह दिया था. भारत की बेजान पिचों पर देसाई बहुत ज्यादा गेंदबाजी करते थे, जिसकी वजह से उन्होंने जल्दी रिटायरमेंट का फैसला किया. अगर देसाई को ऑस्ट्रेलिया या इंग्लैंड जैसी पिच मिलती तो उनके आंकड़े कुछ अलग ही होते.

    ये भी पढ़ें- सुसाइड करना चाहता था यह भारतीय गेंदबाज, कहा- विराट कोहली ने..

    चीनी कंपनी के साथ रिश्‍ता तोड़ने को तैयार बीसीसीआई, मगर इस शर्त के साथ

    5. सचिन को कप्तान बनाया और हटाया
    जिस देश में सचिन (Sachin Tendulkar) को भगवान का दर्जा मिलता है, वहां रमाकांत देसाई ने मास्टर ब्लास्टर की जिंदगी के दो बड़े फैसले लिये थे. बीसीसीआई के मुख्य चयनकर्ता रहे रमाकांत देसाई ने सचिन को कप्तान बनाया और खराब प्रदर्शन के बाद उनसे ये जिम्मेदारी भी वापस ली. रमाकांत देसाई ने खराब सेहत के चलते चीफ सेलेक्टर का पद जल्दी छोड़ दिया और अप्रैल 1999 में महज 58 साल की उम्र में देसाई का निधन हो गया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज