Home /News /sports /

टेनिस फिक्सिंग रैकेट का खुलासा कर ऑस्‍ट्रेलियाई पुलिस ने बढ़ाई बीसीसीआई की टेंशन

टेनिस फिक्सिंग रैकेट का खुलासा कर ऑस्‍ट्रेलियाई पुलिस ने बढ़ाई बीसीसीआई की टेंशन

यह सरगना बीसीसीआई के रडार पर भी है (फाइल फोटो)

यह सरगना बीसीसीआई के रडार पर भी है (फाइल फोटो)

ऑस्‍ट्रेलियाई पुलिस ने इंटरनेशनल टेनिस फिक्सिंग रैकेट के सरगना के रूप में जिस भारतीय की पहचान की है, वो मोहाली का रहने वाला है

    नई दिल्‍ली. फिक्सिंग का जहर खेल को बर्बाद कर देता है. मगर लालच के चक्‍कर कई खिलाड़ी इसमें फंस जाते हैं. ऑस्‍ट्रेलिया पुलिस ने ऐसे ही फिक्सिंग (Fixing) रैकेट का भांडाफोड़ किया है, जिससे बीसीसीआई की टेंशन बढ़ गई हैं. दरअसल ऑस्‍ट्रेलियाई पुलिस ने इंटरनेशनल टेनिस फिक्सिंग रैकेट का भांडाफोड़ किया. इस मामले में भारतीय मूल के दो लोग राजेश कुमार और हरसिमरत सिंह को बुधवार को ही मेलबर्न मजिस्‍ट्रेट कोर्ट में पेश किया गया था. दोनों पर करीब तीन करोड़ रुपये की सट्टेबाजी का आरोप है. उन पर आरोप है कि उन्‍होंने 2018 में दो टेनिस टूर्नामेंट में फिक्सिंग की थी. पुलिस का दावा है कि इनका सरगना भारत में हैं.

    इंडियन एक्‍सप्रेस की खबर के मुताबिक बीसीसीआई (BCCI) की भष्‍ट्राचार रोधी इकाई के शीर्ष पदाधिकारी ने बताया कि ऑस्‍ट्रेलियाई पुलिस ने इंटरनेशनल टेनिस फिक्सिंग रैकेट के सरगना के रूप में जिस भारतीय की पहचान की है, वो मोहाली का रहने वाला है. वह बीसीसीआई के भी रडार पर है. सिडनी मॉर्निंग हेराल्‍ड की रिपोर्ट के अनुसार विक्‍टोरिया पुलिस ने रवींद्र दांडीवाल के रूप में सरगना की पहचान की है.

    यह भी पढ़ें:

    हरभजन सिंह की तस्वीर देखकर युवराज सिंह को याद आया 'पहला प्यार', कर दी यह डिमांड

    इंग्‍लैंड दौरे पर गई पाकिस्‍तानी टीम, खुद के देश का नाम गलत लिखकर बोर्ड ने करवाई बेइज्‍जती

    क्रिकेट लीग आयोजित करने वालों में नाम शामिल
    बीसीसीआई की भ्रष्‍टाचार रोधी इकाई के प्रमुख अजीत सिंह ने भी इस नाम की पुष्टि की है. दांडीवाल का ईस्‍ट और अन्‍य स्‍थानों पर अक्‍सर आना जाना रहता है. उसका नाम क्रिकेट लीग आयोजित करने वालों में भी शामिल हैं. वह एक बार हरियाणा में एक निजी क्रिकेट लीग आयोजित करवा चुका है. जिसे एसीयू ने विफल कर दिया. बीसीसीआई ने सभी पंजीकृत क्रिकेटर्स को उस लीग में हिस्‍सा न लेने के लिए एडवाइजरी जारी की थी. कुछ दिन पहले ही अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट परिषद की भ्रष्‍टाचार रोधी इकाई के एक सीनियर अधिकारी ने दावा किया था कि भारत में कड़ा कानून न होने से पुलिस के हाथ बंधे हुए हैं. मैच फिक्सिंग को अपराध घोषित करना ही उस देश में सबसे प्रभावी कदम होगा.

    Tags: BCCI, Cricket, Match fixing, Sourav Ganguly

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर