• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • HPY Birthday Badrinath : घरेलू क्रिकेट में रनों का अंबार, हर कसौटी पर खरा...फिर भी खेल सका सिर्फ 7 वनडे, 2 टेस्ट

HPY Birthday Badrinath : घरेलू क्रिकेट में रनों का अंबार, हर कसौटी पर खरा...फिर भी खेल सका सिर्फ 7 वनडे, 2 टेस्ट

एस. बद्रीनाथ की गिनती देश के बेहतरीन फील्डरों और जबरदस्त बल्लेबाज के रूप में की जाती थी. (फाइल फोटो)

एस. बद्रीनाथ की गिनती देश के बेहतरीन फील्डरों और जबरदस्त बल्लेबाज के रूप में की जाती थी. (फाइल फोटो)

एस. बद्रीनाथ (S. Badrinath) खुद कह चुके हैं कि उन्हें घरेलू क्रिकेट में बेहतरीन प्रदर्शन करने के बावजूद उतने मौके नहीं मिले, जितने के वो हकदार थे.

  • Share this:
    उसने घरेलू क्रिकेट में बेशुमार रन बनाए. 2008 में उसके वनडे डेब्यू में इंडियन टीम को श्रीलंका पर करीबी जीत मिली. 2010 में उसने नागपुर में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया. इस मैच में उसके बल्ले से पहली ही पारी में अर्धशतक निकला. 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने टी-20 डेब्यू में वो मैन ऑफ द मैच चुना गया. ऐसे प्रदर्शन के बावजूद तमिलनाडु के एस. बद्रीनाथ (S Badrinath) भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के लिए महज 7 वनडे, 2 टेस्ट और एक टी-20 मैच ही खेल सके. यह बात इसलिए और अखरती है क्योंकि बद्रीनाथ जहां मध्यक्रम के बेहतरीन बल्लेबाज थी, वहीं फील्डिंग में भी उतने ही तेज तर्रार. वो हर कसौटी पर खरे उतरते थे.

    भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व क्रिकेटर और तमिलनाडु के बल्लेबाज एस. बद्रीनाथ (S Badrinath) ने पिछले साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था. उन्होंने 2008 से लेकर 2011 तक देश के लिए दस अंतरराष्ट्रीय मैच खेले. घरेलू क्रिकेट में बेहतरीन प्रदर्शन के बावजूद टीम इंडिया के लिए सिर्फ दस ही मैच खेलने की कसक उन्हें भी रही. इस बारे में एक बार बद्रीनाथ ने कहा भी था कि निश्चित रूप से मुझे और अधिक टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहिए था. मैंने 2010 में तीन पारियां खेलीं. उसके बाद 2011 में वापसी की. मैं घरेलू सत्र में सर्वाधिक रन बनाने वाला बल्लेबाज रहा. मैंने 1200 से ज्यादा रन बनाए. मगर मुझे उसके बाद टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका नहीं मिला.

    2014 में आईपीएल की किसी फ्रेंचाइजी ने बद्रीनाथ को नहीं चुना. जबकि इससे पहले वो महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपरकिंग्स के बल्लेबाजी क्रम का अहम हिस्सा थे. इस टीम के साथ वे छह सीजन तक जुड़े रहे और मुश्किल से ही किसी मैच से नदारद रहे.

    cricket, bcci, Badrinath, indian cricket team, mahendra singh dhoni, chennai superkings, ipl, indian premier league, क्रिकेट, बीसीसीआई, भारतीय क्रिकेट टीम, एस बद्रीनाथ, महेंद्र सिंह धोनी, आईपीए, इंडियन प्रीमियर लीग, आईपीएल
    तमिलनाडु के बल्लेबाज एस. बद्रीनाथ आईपीएल में छह सीजन तक चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ जुड़े रहे. (फाइल फोटो)


    फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 10 हजार से ज्यादा रन
    दाएं हाथ के मध्यक्रम के बल्लेबाज एस. बद्रीनाथ ने करीब डेढ़ दशक से ज्यादा के फर्स्ट क्लास करियर में 10,245 रन बनाए. उन्होंने 2010 में टेस्ट डेब्यू किया था. तब उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 56 रनों की पारी खेली थी. हालांकि अगली दो पारियों में वो महज छह और एक रन ही बना सके. उन्हें सात वनडे खेलने का मौका मिला, लेकिन वे खुद को टेस्ट बल्लेबाज अधिक मानते थे.

    रणजी ट्रॉफी न जीत पाने की कसक
    बद्रीनाथ को इस बात का हमेशा मलाल रहा कि वे अपने खेलने के दिनों में तमिलनाडु के लिए कभी रणजी ट्रॉफी नहीं जीत सके. हालांकि टीम खिताबी जीत के करीब कई बार पहुंची थी. 2003-04 का रणजी ट्रॉफी फाइनल ऐसा करने के लिए सुनहरा मौका था, लेकिन मुंबई ने ऐसा होने नहीं दिया.

    क्रिकेट से रिटायरमेंट के बाद एमएस धोनी के लिए ये 4 काम, जानिए किसे चुनेंगे माही

    अंबाती रायडू का बड़ा बयान, भावुक होकर लिया था संन्यास का फैसला, मुझमें अभी काफी क्रिकेट बाकी

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज