दिग्गज स्पिनर बिशन सिंह बेदी की हुई बाइपास सर्जरी, जानें उनका हेल्थ अपडेट

बिशन सिंह बेदी की बाइपास सर्जरी की गई है. (Bishan Singh Bedi/ Twitter)

बिशन सिंह बेदी की बाइपास सर्जरी की गई है. (Bishan Singh Bedi/ Twitter)

पिछले साल दिसंबर में दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम का नाम पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के नाम पर रखने के फैसले का विरोध करने के कारण बिशन सिंह बेदी चर्चा में आए थे.

  • Share this:
नई दिल्ली. अपने जमाने के दिग्गज स्पिनर बिशन सिंह बेदी (Bishan Singh Bedi) की कुछ दिन पहले शहर के एक अस्पताल में बाइपास सर्जरी की गई और अब वह स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं. पूर्व भारतीय कप्तान के करीबी व्यक्ति के अनुसार 74 वर्षीय बेदी का दो-तीन दिन पहले ऑपरेशन किया गया और उन्हें अस्पताल से जल्द ही छुट्टी मिल जाएगी.

उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ''जहां तक मुझे पता है कि उन्हें हृदय संबंधी कुछ परेशानियां थी और चिकित्सकों की सलाह पर दो-तीन दिन पहले उनकी बाइपास सर्जरी की गई है.'' उन्होंने कहा, ''वह अभी ठीक है और सर्जरी के बाद स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं. उम्मीद है कि उन्हें अस्पताल से जल्दी छुट्टी मिल जाएगी.''

सचिन तेंदुलकर ने आज के ही दिन वनडे क्रिकेट में रचा था इतिहास, दोहरा शतक बनाने वाले बने थे पहले खिलाड़ी

बाएं हाथ के स्पिनर बिशन सिंह बेदी ने भारत की तरफ से 67 टेस्ट और 10 वनडे में भाग लिया और क्रमश: 266 और सात विकेट लिए. पिछले साल दिसंबर में दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम का नाम पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के नाम पर रखने के फैसले का विरोध करने के कारण वह चर्चा में आए थे.
उन्होंने स्टेडियम की दर्शक दीर्घा से अपना नाम नहीं हटाने की स्थिति में डीडीसीए के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की धमकी दी थी और पत्र भी लिखा था. बिशन सिंह बेदी ने डीडीसीए अध्यक्ष रोहन जेटली को भेजे इस पत्र में लिखा था, ''मैंने आपको कुछ दिन पहले पत्र लिखा था. जबकि मेरे पत्र के सार्वजनिक होने के कुछ मिनटों बाद ही मुझे विश्व भर के क्रिकेट समुदाय से मुझे अपार समर्थन मिला लेकिन मुझे दुख है कि आपकी तरफ से मुझे कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली.''

बिस्तर से गिराकर इशांत शर्मा को बताना पड़ा था कि उनका सलेक्शन हो गया: विराट कोहली

बेदी ने कहा कि वह उस क्रिकेट स्टेडियम का हिस्सा नहीं बनना चाहते हैं, जिसमें पूर्व राजनीतिज्ञ अरुण जेटली की प्रतिमा लगी हो. जेटली भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए सरकार में मंत्री थे. पिछले साल उनका निधन हो गया था.



उन्होंने कहा,''मैं जानता हूं कि डीडीसीए में क्रिकेटरों की आवाज नजरअंदाज करने की परंपरा रही है और यह मेरे अनुरोध का एक कारण है. यदि मैं उस क्रिकेट स्टेडियम का हिस्सा बनता हूं जिसमें ऐसे व्यक्ति की प्रतिमा लगी हो जिसके बारे में मेरा मानना है कि उन्होंने राजधानी में क्रिकेट मूल्यों को कम किया तो मैं एक दिन तो क्या एक मिनट के लिए भी बेहतर महसूस नहीं कर पाऊंगा.''

जेटली 1999 से 2013 तक डीडीसीए के अध्यक्ष रहे थे. इस क्रिकेट संघ ने उनकी याद में कोटला में छह फुट की प्रतिमा लगाने का फैसला किया है. डीडीसीए ने नवंबर 2017 में अपने एक स्टैंड का नाम बेदी और एक अन्य पूर्व क्रिकेटर मोहिंदर अमरनाथ के नाम पर रखा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज