होम /न्यूज /खेल /मास्टर ब्लास्टर का वनडे करियर और भी होता शानदार, दुनिया के चार दिग्गज खिलाड़ी जो नर्वस नाइंटीज का हुए शिकार

मास्टर ब्लास्टर का वनडे करियर और भी होता शानदार, दुनिया के चार दिग्गज खिलाड़ी जो नर्वस नाइंटीज का हुए शिकार

टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर कई बार नर्वस नाइंटीज का शिकार हुए हैं. (AFP)

टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर कई बार नर्वस नाइंटीज का शिकार हुए हैं. (AFP)

टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर का करियर और भी शानदार हो सकता था. लेकिन वह कई बार शतक से महज कुछ रन ही ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सचिन तेंदुलकर ने अंतरराष्ट्रीय करियर में कुल 100 शतक जड़े हैं.
मास्टर ब्लास्टर सबसे अधिक बार नर्वस नाइंटीज का शिकार हुए हैं.

नई दिल्ली. इंटरनेशनल क्रिकेट में हर टीम के बल्लेबाज टीम और अपने करियर के लिए बड़ी पारी खेलने की उम्मीद से मैदान में उतरते हैं. लेकिन सबसे ज्यादा निराशा तब होती है जब कोई बल्लेबाज 90 से 99 रनों के बीच अपना विकेट खो देता है और एक शतकीय पारी से करीब से चूक जाता है. इसे क्रिकेट में नर्वस नाइंटीज के नाम से जानते हैं. दुनिया के चार ऐसे पूर्व दिग्गज खिलाड़ी हैं जिनका करियर और भी शानदार हो सकता था लेकिन वह नर्वस नाइंटीज का शिकार हो गए.

सचिन तेंदुलकर (18 बार)

इस लिस्ट में सबसे पहला नाम टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर का है. वह एक तरीके से रिकॉर्ड के बादशाह हैं. उन्होंने अपने क्रिकेट करियर में 100 शतक लगाए है आज तक यह रिकॉर्ड उनके नाम है. वहीं, वनडे की बात करें तो उन्होंने 49 शतक जड़े हैं. लेकिन यह और भी अधिक होते यदि वह नर्वस नाइंटीज का शिकार नहीं होते. मास्टर ब्लास्टर कुल 18 बार 90 से 99 रनों के बीच आउट हुए हैं. सचिन को ‘क्रिकेट के भगवान’ के नाम से भी जाना जाता है. वहीं, इस दिग्गज खिलाड़ी की तुलना टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज विराट कोहली से की जाती है. विराट अभी तक इंटरनेशनल क्रिकेट में 71 शतक लगा चुके हैं.

तीन खिलाड़ी 9 बार हुए नर्वस नाइंटीज का शिकार

तेंदुलकर के अलावा तीन अलग-अलग टीमों के पूर्व बल्लेबाज 9 बार नर्वस नाइंटीज का शिकार हुए हैं. इनमें श्रीलंका के अरविंद डी सिल्वा, न्यूजीलैंड के एस्ले और जिम्बाब्वे के ग्रांट फ्लावर शामिल हैं. ग्रांट फ्लावर की बात करें तो उनका नाम दुनिया के शानदार ऑलराउंडर खिलाड़ियों में से एक रहे हैं. उन्होंने 221 वनडे मुकाबलों में 6 शतक और 40 अर्धशतकों की मदद से 6571 रन बनाए हैं. यदि वह 9 बार नर्वस नाइंटीज का शिकार नहीं होते तो शतकों की संख्या 15 होती.

भारत ने इस बार गेंदबाजी नहीं बल्कि फील्डिंग से गंवाया मैच, दिनेश कार्तिक ने भी लगा दी लताड़

इसके अलावा श्रीलंका के अरविंद डी सिल्वा का भी करियर बेहतरीन रहा है. उन्होंने टीम के लिए अपना योगदान 1984 से लेकर 2003 तक दिया. इस बीच वह 1996 वर्ल्ड कप विजेता श्रीलंकाई टीम का हिस्सा थे. उन्होंने अपने वनडे करियर में कुल 11 शतकीय पारियां खेली हैं. डी सिल्वा ने कई मुकाबलों में टीम खुद के दम पर टीम को जीत दिलाई है. लेकिन अफसोस की बात है वह अपने करियर में 9 बार नर्वस नाइंटीज का शिकार हुए हैं.

तीसरा नाम न्यूजीलैंड के पूर्व सलामी बल्लेबाज नाथन एस्ले का है. 12 साल लंबे करियर में एस्ले ने कुल 223 वनडे इंटरनेशनल खेले हैं. जिसमें उन्होंने 16 शतक और 41 अर्धशतकों की दम पर 7090 रन बनाए हैं. उन्होंने भी 90 से 99 रनों के बीच कुल 9 बार अपना विकेट गंवाया है.

Tags: Cricket Records, Sachin tendulkar, Team india

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें