CPL के शेड्यूल में बदलाव की उम्मीद कम, विंडीज के क्रिकेटर आईपीएल के शुरुआती मैच से रहेंगे बाहर

आईपीएल 2021 के बाकी बचे अबु धाबी, दुबई और शारजाह में खेले जाएंगे. (BCCI/Twitter)

आईपीएल 2021 के बाकी बचे अबु धाबी, दुबई और शारजाह में खेले जाएंगे. (BCCI/Twitter)

आईपीएल 2021 (IPL 2021) के बचे मुकाबले सितंबर-अक्टूबर में होने हैं. इस दौरान सीपीएल (CPL 2021) के मुकाबले भी खेले जाएंगे. ऐसे में शुरुआती हफ्ते में विंडीज के क्रिकेटर यूएई नहीं आ सकेंगे. टी20 लीग के 29 मैच हो चुके हैं जबकि 31 मैच अभी और होने हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. आईपीएल 2021 के दूसरे चरण के मुकाबले यूएई में होने हैं. 4 मई को कोरोना केस आने के बाद बीसीसीआई ने टी20 लीग को स्थगित कर दिया गया था. बचे मुकाबले सितंबर-अक्टूबर में होने हैं. लेकिन इस दौरान विदेशी खिलाड़ियों को लेकर फ्रेंचाइजी परेशान हैं. बीसीसीआई ने वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड से सीपीएल (CPL) के शेड्यूल में बदलाव की मांग की थी, ताकि वहां के खिलाड़ी बचे मुकाबलों में उतर सकें. लेकिन अब तक शेड्यूल बदलाव को लेकर कोई बात सामने नहीं आई है. ऐसे में विंडीज के खिलाड़ी पहले एक हफ्ते लीग से बाहर रह सकते हैं.

आईपीएल फ्रेंचाइजी कोलकाता नाइट राइडर्स (Trinbago Knight Riders) और पंजाब किंग्स (St Lucia Zouks) की सीपीएल में भी टीम है. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, दोनों फ्रेंचाइजी को लगता है कि सीपीएल 2021 के शेड्यूल में बदलाव की मांग को लेकर बहुत देर हो गई है. कैरेबियन प्रीमियर लीग 2021 की शुरुआत 28 अगस्त से हो रही है. फाइनल 19 सितंबर को होगा.

पोलार्ड और रसेल टीम के बड़े खिलाड़ी

जानकारी के अनुसार, आईपीएल 2021 की बचे मुकाबले 19 सितंबर से शुरू हाे सकते हैं. ऐसे में विंडीज के खिलाड़ियों को शुरुआती मैच से बाहर रहना पड़ेगा. क्याेंकि उन्हें दुबई आने के बाद क्वारंटाइन में रहना होगा. विंडीज के मुख्य खिलाड़ियों में कायरन पोलार्ड (मुंबई), आंद्रे रसेल (केकेआर), सुनील नरेन (केकेआर), शिमरोन हेटमायर (दिल्ली), निकोलस पूरन (पंजाब) हैं. पोलार्ड, रसेल और नरेन का टी20 में रिकॉर्ड बेहद शानदार है.
बोर्ड जुलाई में करेगा अंतिम फैसला

बीसीसीआई ने पिछले दिनों विशेष बैठक करने के बाद कहा था कि टी20 लीग में विदेशी खिलाड़ियों के खेलने को लेकर विभिन्न बोर्ड से बात की जाएगी. इस पर अंतिम फैसला जुलाई में होगा. नहीं खेलने वाले खिलाड़ियों की जगह दूसरे खिलाड़ी को शामिल किया जा सकेगा. हालांकि उम्मीद है कि कई विदेशी खिलाड़ी इसमें खेल सकेंगे. कोरोना के बीच बायो बबल ने भी खिलाड़ियों की परेशानी बढ़ा दी है. टी20 लीग के बचे मैच नहीं होते तो बीसीसीआई को लगभग 2500 करोड़ रुपए का नुकसान होता. इसका असर खिलाड़ियों पर भी पड़ता.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज