लाइव टीवी

इंजीनियरिंग के बाद अमेजन में की नौकरी, ऑफ स्पिनर से बने तेज गेंदबाज, विकेटों की झड़ी लगा टीम को फाइनल में पहुंचाया

News18Hindi
Updated: October 24, 2019, 1:05 PM IST
इंजीनियरिंग के बाद अमेजन में की नौकरी, ऑफ स्पिनर से बने तेज गेंदबाज, विकेटों की झड़ी लगा टीम को फाइनल में पहुंचाया
कर्नाटक के तेज गेंदबाज वी. कौशिक ने विजय हजारे ट्रॉफी के जरिये लिस्ट ए में डेब्यू किया है. (फाइल फोटो)

कर्नाटक (Karnataka) के तेज गेंदबाज वी कौशिक (V. Koushik) ने विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) के सेमीफाइनल में छत्तीसगढ़ पर टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2019, 1:05 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत (India) के घरेलू वनडे टूर्नामेंट विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) का खिताबी मुकाबला इस बार कर्नाटक (Karnataka) और तमिलनाडु (Tamilnadu) के बीच शुक्रवार 25 अक्टूबर को खेला जाएगा. इन दोनों टीमों के फाइनल तक का सफर संघर्षों से भरा रहा है और इस बात को भला कर्नाटक के तेज गेंदबाज वी. कौशिक (V. Koushik) से बेहतर कौन जान सकता है. 17 साल की उम्र तक ऑफ स्पिनर, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, अमेजन (Amazon) में कंटेंट डेवलपर और अब तेज गेंदबाज. सुनने में ही कितना दिलचस्प है इस असाधारण खिलाड़ी का सफर. आइए जानते हैं कि कैसे जिंदगी के पड़ाव से पार पाते हुए वी. कौशिक ने अपनी एक अलग पहचान बनाई. कौशिक भले ही घरेलू सत्र में बिल्कुल नया चेहरा हैं, लेकिन कौन जानता है कि आने वाले समय में कौशिक दुनियाभर के लिए जाना-पहचाना नाम बन जाएं.

टेनिस बॉल से करते थे तेज गेंदबाजी
19 सितंबर 1992 को पैदा हुए कर्नाटक के गेंदबाज वी. कौशिक (V. Koushik) ने साल 2009 के अंत तक अपनी स्कूली पढ़ाई पूरी कर ली थी. मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की. इसके बाद वह ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी अमेजन (Amazon) में काम करने लगे. यहां वह कंटेंट डेवलपर के तौर पर जुड़े. बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वी. कौशिक 17 साल की उम्र तक ऑफ स्पिन गेंदबाजी किया करते थे. हालांकि टेनिस बॉल के मैच में वह तेज गेंदबाजी ही किया करते थे. पढ़ाई के दौरान कौशिक इस खेल को अधिक वक्त नहीं दे पाते थे, जिससे उनकी मुश्किलें काफी बढ़ गईं. मगर इसके बाद उन्होंने अमेजन में काम करना शुरू कर दिया और उनकी पूरी जिंंदगी ही बदल गई. वहां उन्हें नियमित रूप से खेलने का मौका मिलने लगा.

cricket, cricket news, sports news, vijay hazare trophy, bcci, indian cricket team, v koushik, amazon, karnataka, क्रिकेट, क्रिकेट न्यूज, स्पोर्ट्स न्यूज, बीसीसीआई, भारतीय क्रिकेट टीम, विजय हजारे ट्रॉफी, कर्नाटक, वी कौशिक, अमेजन
वी. कौशिक ने छत्तीसगढ़ के खिलाफ विजय हजारे ट्रॉफी के सेमीफाइनल में चार विकेट हासिल किए. (फाइल फोटो)


कौशिक का सफर उन्हीं की जुबानी
ईएसपीएनक्रिकइंफो की रिपोर्ट के मुताबिक, वी. कौशिक (V. Koushik) ने कहा, 'शुरुआत में मैं सिर्फ शौक के लिए क्रिकेट खेलता था. 17 साल की उम्र तक मुझे लीग स्ट्रक्चर या क्लब स्ट्रक्चर के बारे में पता तक नहीं था. 17 साल की उम्र में मैंने लीग क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया. इसके बाद मैंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई शुरू कर दी, जिसके चलते मुझे अधिकतर मुकाबले छोड़ने पड़े. इसकी वजह से जोनल क्रिकेट के लिए चयन की बारी आई तो मेरी वापसी नहीं हो सकी, क्योंकि मेरा प्रदर्शन इतना अच्छा नहीं था.' कौशिक ने आगे बताया, 'जब मैंने अपनी इंजीनियरिंग खत्म की तो उसके बाद आठ महीने का ब्रेक लेकर कर्नाटक के लिए अंडर-19 क्रिकेट खेला. उस साल मैंने अच्छा प्रदर्शन किया. इसके बाद मैंने डेढ़ साल तक कंटेंट डेवलपर के तौर पर अमेजन में काम किया. इस दौरान मैंने नियमित रूप से लीग मैच, कॉरपोरेट मैच में हिस्सा लिया.'

cricket, cricket news, sports news, vijay hazare trophy, bcci, indian cricket team, v koushik, amazon, karnataka, क्रिकेट, क्रिकेट न्यूज, स्पोर्ट्स न्यूज, बीसीसीआई, भारतीय क्रिकेट टीम, विजय हजारे ट्रॉफी, कर्नाटक, वी कौशिक, अमेजन
कर्नाटक के तेज गेंदबाज वी. कौशिक अपने शुरुआती दौर में ऑफ स्पिन गेंदबाजी किया करते थे. (फाइल फोटो)

Loading...

ऐसे पहुंचाया अपनी टीम को फाइनल में
विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) का सेमीफाइनल कर्नाटक (Karnataka) और छत्तीसगढ़ के बीच खेला गया ‌था. इस मुकाबले में छत्तीसगढ़ ने पहले खेलते हुए 223 रन बनाए. कर्नाटक के लिए वी. कौशिक (V. Koushik) ने बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए चार विकेट लिए. उन्होंने विपक्षी टीम के शीर्ष तीन खिलाड़ियों को महज 35 रनों के स्कोर तक पवेलियन भेज दिया था. कर्नाटक को ये लक्ष्य हासिल करने में अधिक परेशानी नहीं हुई.

अगले रणजी सत्र में हो सकता है फर्स्ट क्लास डेब्यू
वी. कौशिक (V. Koushik) ने मौजूदा विजय हजारे ट्रॉफी के जरिये लिस्ट ए डेब्यू किया, जिसमें उन्होंने अभी तक बेहतरीन प्रदर्शन किया है. कर्नाटक के फाइनल में पहुंचने में उनकी भूमिका को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. फाइनल में तमिलनाडु के खिलाफ एक और बेहतरीन प्रदर्शन आगामी रणजी सत्र में उनका फर्स्ट क्लास डेब्यू भी करा सकता है.

यह भी पढ़ें-

खुलासा: आज होता कुंबले और कोहली का झगड़ा तो विराट की बोलती बंद कर देते सौरव गांगुली
डीविलियर्स के मंत्र ने बदली इस भारतीय क्रिकेटर की जिंदगी, लगाए 29 छक्के, ठोक दिए 508 रन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 12:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...