विराट कोहली की कप्‍तानी पर गौतम गंभीर का बड़ा बयान, कहा- करियर पूरा नहीं होगा

विराट कोहली की कप्‍तानी पर गौतम गंभीर का बड़ा बयान, कहा- करियर पूरा नहीं होगा
विराट कोहली साल 2015 मे टेस्ट कप्तान बने थे

पहले भी कई बार विराट कोहली (Virat Kohli) की कप्‍तानी पर दिग्‍गजों ने सवाल उठाए हैं.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने टीम इंडिया (Team India) के मौजूदा कप्‍तान विराट कोहली (Virat Kohli) की कप्‍तानी को लेकर सवाल खड़े किए हैं. गंभीर ने कहा कि बतौर कप्‍तान कोहली ने कुछ नहीं जीता. उन्‍हें अभी काफी कुछ हासिल करना बाकी है. स्‍टार स्‍पोर्ट्स के क्रिकेट कनेक्‍टेड शो में गंभीर ने कहा कि कोहली को अभी काफी कुछ करना बाकी है. गंभीर को लगता है कि कोहली का व्‍यक्तिगत प्रदर्शन टीम इंडिया की मदद नहीं करेगा, क्‍योंकि यदि आप बड़े आईसीसी टूर्नामेंट्स में जीत के लिए अपनी टीम को प्रेरित नहीं करते हैं. 2017 में कोहली को एमएस धोनी की जगह टीम की कमान मिली थी. उन्‍होंने 2017 में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में और 2019 वर्ल्‍ड कप के सेमीफाइनल में टीम की कप्‍तानी की थी. मगर दोनों ही मौकों पर टीम खिताब नहीं जीत पाई.

गंभीर ने कहा कि क्रिकेट एक टीम गेम है. आप लगातार अपने खुद के लिए रन बना सकते हैं. ब्रायन लारा जैसे बल्‍लेबाज ने काफी रन बनाए. जैक कैलिस जैसे दिग्‍गज खिलाड़ी भी कुछ बड़ा खिताब नहीं जीत पाए. कोहली ने भी बतौर कप्‍तान अभी कुछ नहीं जीता है.

बिना ट्रॉफी करियर पूरा अधूरा
गंभीर ने कहा कि आप भले ही अपने करियर में काफी रन बना लें, मगर जब तक आप उन बड़ी ट्रॉफीज को अपने नाम नहीं करेंगे, तब तक करियर अधूरा ही रहता है. बतौर कप्‍तान कोहली की तकनीक पर अक्‍सर इस खेल के दिग्‍गजों ने सवाल उठाए हैं. कई पूर्व क्रिकेटर्स ने तो यहां तक कहा किे कोहली युवा क्रिकेटर्स का पर्याप्‍त समर्थन नहीं करते. गंभीर ने भी कोहली की कप्‍तानी पर सवाल उठाए थे और कहा था कि इंडियन प्रीमियर लीग में उनकी कप्‍तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर अभी तक एक बार भी खिताब नहीं जीत पाई.
बड़े मुकाबलों में भरोसे की जरूरत


गंभीर ने कहा कि हमारे पास वर्ल्‍ड चैंपियन बनने की क्षमता है, मगर जब तक आप क्रिकेट के मैदान पर साबित नहीं करते, आप वर्ल्‍ड चैंपियन नहीं कहला सकते. उन्‍होंने कहा कि बाइलेटरल और लीग स्‍तर पर आपके पास गलती करने के मौके होते हैं, मगर नॉकआउट में आपके पास कोई मौके नहीं होता. अगर आपने वहां पर गलती की तो आपको सीधे बाहर ही होना पड़ेगा. इसी जगह पर भरोसे की जरूरत होती है, जो निर्णायक मुकाबलों में टीम के पास नहीं हैं.

सुशांत सिंह राजपूत की इस 'हरकत' से परेशान हो गए थे एमएस धोनी, कहा-तुम...

ऐतिहासिक जीत के बाद भारतीय टीम से भिड़ गए थे बांग्लादेशी खिलाड़ी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading