• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • साउथ अफ्रीका में पढ़ाई की, दो साल नौसेना में रहे, इंग्लैंड के लिए क्रिकेट खेला, अब हुआ निधन

साउथ अफ्रीका में पढ़ाई की, दो साल नौसेना में रहे, इंग्लैंड के लिए क्रिकेट खेला, अब हुआ निधन

पीटर वाकर ग्लेमोर्गन काउंटी टीम के अहम सदस्य रहे.

पीटर वाकर ग्लेमोर्गन काउंटी टीम के अहम सदस्य रहे.

84 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कहने वाले इस क्रिकेटर की कहानी बेहद दिलचस्प है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. ब्रिटेन के ब्रिस्टल में जन्म, साउथ अफ्रीका में पढ़ाई, दो साल तक नौसेना में नौकरी और फिर इंग्लैंड के लिए टेस्ट डेब्यू. इस खिलाड़ी की कहानी बेहद दिलचस्प रही. मगर सोमवार को इंग्लैंड के इस आलराउंडर पीटर वाकर (Peter Walker) ने दुनिया को अलविदा कह दिया है. पीटर का 84 साल की उम्र में दिन का दौरा पड़ने से निधन हो गया. पीटर गेंद और बल्ले के भरोसेमंद विकल्प थे और करीबी क्षेत्ररक्षण में उन्हें महारथ हासिल थी.

    पीटर वाकर (Peter Walker) का जन्म ब्रिस्टल में 17 फरवरी 1936 को हुआ. उन्होंने अपनी कुछ पढ़ाई साउथ अफ्रीका में की. इसके अलावा नौसेना में दो साल गुजारे और फिर साल 1956 में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में डेब्यू किया. मध्यक्रम के आक्रामक बल्लेबाज पीटर वाकर ने 11 अलग-अलग सीजन में 1000 रनों का आंकड़ा पार किया. गेंदबाजी में उन्होंने बाएं हाथ से तेज गेंद फेंकना शुरू किया था, लेकिन करियर के अंत में उन्होंने स्पिन गेंदबाजी शुरू कर दी.

    697 कैच लेकर मचाई सनसनी
    पीटर वाकर (Peter Walker) को उनकी फील्डिंग और कैचिंग के लिए भी जाना जाता था. उन्होंने अपने प्रथम श्रेणी करियर में कुल 697 कैच लिए, जिनमें से अधिकतर स्लिप या शॉर्ट लेग पर लिए गए. इतना ही नहीं, उनके नाम ग्लेमोर्गन (Glamorgan) के लिए रिकॉर्ड 656 कैच लेने का भी रिकॉर्ड है. पीटर ने अपने करियर में 469 मैच खेले, जिनमें उन्होंने 26.03 की औसत से 17650 रन बनाए. वहीं लिस्ट ए क्रिकेट में उनके बल्ले से 72 मैचों में 19.96 की औसत से 1218 रन निकले. प्रथम श्रेणी क्रिकेट में उन्होंने 834 और लिस्ट ए में 52 विकेट लिए.

    तीन टेस्ट खेले, तीनों जीते
    इंग्लैंड के लिए पीटर (Peter Walker) ने तीन टेस्ट खेले. उन्होंने एजबेस्टन में साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया. तब उनकी उम्र 24 साल थी. इस टेस्ट में उन्होंने 9 और 37 रन बनाए. दो सप्ताह बाद ही उन्होंने लॉडर्स में अपने करियर का एकमात्र अर्धशतक लगाया. जिन तीन टेस्ट में पीटर खेले, उन सभी में इंग्लैंड को जीत मिली. मगर इसके बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया और फिर कभी उनकी वापसी नहीं हो सकी. विश्व युद्ध के बाद मार्टिन सैगर्स और टॉबी रोलैंड जोंस के साथ पीटर तीसरे ऐसे खिलाड़ी रहे, जिन्होंने इंग्लैंड के लिए अपने करियर में तीन टेस्ट खेले और तीनों में टीम जीती. पीटर ने तीन टेस्ट में 32 की औसत से चार पारियों में 128 रन बनाए.

    ग्लेमोर्गन के साथ खास रिश्ता
    पीटर वाकर (Peter Walker) ग्लेमोर्गन काउंटी टीम (Glamorgan County Team) के अहम सदस्य रहे. 1969 में ये टीम काउंटी चैंपियनशिप में एक भी मैच नहीं हारी. तब वाकर भी इस टीम का हिस्सा थे. हालांकि बीबीसी के साथ अपने ब्रॉडकास्टिंग करियर के लिए उन्होंने साल 1972 में संन्यास ले लिया. बाद में वे ग्लेमोर्गन क्लब के अध्यक्ष बने. उन्होंने मार्च 2009 में ये जिम्मेदारी संभाली और नवंबर 2010 में पद छोड़ दिया.

    विराट कोहली ने किया खुलासा, बताया कौन है सबसे पसंदीदा कमेंटेटर

    सचिन-गावस्कर से बड़ा रिकॉर्ड बनाने वाले दिग्गज बोले-श्रेय न मिलना भाग्य की बात

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज